Breaking News

कड़कड़ाती ठंड से कांपा अंचल, आमजन परेशान, फसलों को भी नुकसान की आशंका

पारा गिरकर पहुंचा 5 डिग्री पर पहुंचा, 3 जनवरी तक कोई राहत नहीं

मंदसौर। देश में ठंड एक बार फिर से कहर बरपाने लगी है और शीतलहर ने उत्तर भारत समेत कई राज्यों में लोगों को घर में कैद होने के लिए मजबूर कर दिया है। उत्तर भारत में चल रही शीत लहरों के कारण ही मंदसौर में भी ठंड अपना कहर बरपा रही है। ठंडी हवाओं के कारण पारा लुढ़कर न्यूनतम 5 डिग्री तक जा पहुंचा है। कड़कड़ाती ठंड से अंचल का आम नागरिक परेशान है वहीं फसलांे को भी नुकसान होने की संभावना जताई जा रही है।

शुक्रवार – शनिवार की रात को तापमान गिरकर 5 डिग्री तक आ जा पहुंचा। जो अब तक सीजन का सबसे कम तापमान रहा। मौसम विभाग पहले ही इसकी भविष्यवाणी कर चुका था कि आने वाले दिन और ठंड हो सकते है। लम्बे अरसे बार मंदसौर पारा इतना गिरा है। हालांकि शनिवार को दोपहर अच्छी धूप निकलने से लोगांे को कुछ राहत जरूर मिली लेकिन शाम को जैसे सूर्य अस्त हुआ ठंड ने अपना कहर दिखाना शुरू कर दिया था। जानकारों व मौसम विभाग का अनुमान सही हुआ तो इस बार पिछले कई सालों का रेकॉर्ड टूट जाएगा। आने वाले दो से चार दिनों तक ठंड का प्रकोप इसी तरह बना रहने की संभावना है। तीन जनवरी तक कंपकंपाती ठंड से राहत मिलती नहीं दिखाई दे रही है। अगले 48 घंटों में मंदसौर और आसपास के इलाकों में ठंड के साथ-साथ घना कोहरा तंग कर सकता है।

गिरते तापमान से फ़सलो को हुआ नुकसान
सीतामऊ। रबी फसलों को बूंद बूंद पानी के सींचकर किसान बड़ा करता है लेकिन प्रकृति के कहर आगे किसान बेबस हो जाता है। शुक्रवार शनिवार की रात्रि किसानो पर शीत लहर कहर बरपा गई। जिससे धनिया, चने व सरसो की फसलों में नुकसान हुआ है। पहले खरीफ सत्र में बेमोशम हुई बारिश ने किसानों की सोयाबिन की फसलों को नुकसान हुआ था वही रबी सत्र की फसलों पर जमा देने वाली शीत लहर कहर बरपा रही है। शीत लहर से ओस की बूंदे पौधे की पत्तियों पर बर्फ में जम गई है जिससे फसलो में नुकसान आका जा सकता है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply