Breaking News

कोरोना वायरस बीमारी के प्रसार से बचने के लिये – सामुहिक समारोह न करने की सलाह

मंदसौर/ मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जिला मंदसौर द्वारा बताया गया कि कोरोना वायरस बीमारी व्‍यक्ति से व्‍यक्ति एवं सम्‍पर्क मे होने पर इस बीमारी का प्रसार होता है। इस बीमारी के प्रसार को रोकने हेतु मध्यप्रदेश शासन एवं भारत शासन से प्राप्‍त दिशा निर्देशानुसार बढे पैमाने पर सभा एवं सम्‍मेलन के आयोजनो के संबंध में विश्‍व के विशेषज्ञों ने नॉवेल कोरोना वायरस बीमारी से बचने के लिये सामुहिकता को कम करने की सलाह दी गयी है। वर्तमान में इसके प्रसार को देखते हुए जिले में समस्‍त प्रकार के सामुहिक आयोजनो एवं सभाओं के आयोजन न किये जावे एवं इस बीमारी के प्रसार को रोकने में सहयोग प्रदान करें।
कोरोना वायरस को लेकर जिले में अलर्ट जारी किया गया है। वहीं दूसरी ओर सीएमएचओ कार्यालय परिसर में स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना वायरस को लेकर डॉ हिमंाशु यजुर्वेदी ने प्रशिक्षण दिऌया है। प्रशिक्षण के दौरान डॉ यजुर्वेदी ने स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना वायरस को लेकर पूरी जानकारी दी। तो दूसरी ओर जिला अस्पताल में सर्दी-खांसी और बुखार के मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है। हंालाकि डॉक्टर मौसम परिवर्तन के कारण मरीजों की संख्या बढऩे का हवाला दे रहे है।

डॉ हिमांशु यजुर्वेदी ने बताया कि कोरोना वायरस को लेकर अलग से शासकीय नर्सिंग छात्रावास में वार्ड बनाया गया है। वहां पर तैनात स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना वायरस को लेकर प्रशिक्षण दिया गया है। प्रशिक्षण में बताया कि कैसे पॉजिटिव मरीज आता है तो उपचार किया जाना है। क्या-क्या सावधानियां रखनी है। कैसे उपचार किया जाएगा।

जिला अस्पताल से मिली जानकरी के अनुसार गुरुवार को जिला अस्पताल की ओपीडी में मरीजों की संख्या ८९७ रही है। इसमें सबसे अधिक मरीज सर्दी खांसी और बुखार के है। जिसकी संख्या करीब 352 रही है। इन में जो बाहर से आए है। उनकी भी पूरी जानकारी डॉक्टरों के द्वारा ली गई है।

त्रिकुट चूर्ण का करें प्रयोग
आयुर्वेद विभाग द्वारा कहा गया कि इस वायरस से बचने के लिए त्रिकटु चूर्ण का उपयोग करें। इस चूर्ण में पीपली, काली मिर्च एवं सोंठ 5-5 ग्राम 1 लीटर पानी में 5 पत्ती तुलसी के डालकर उसको उबालें। 500 ग्राम पानी बचाने के पश्चात उसको प्रतिदिन पीए। जिससे कोरोना वायरस नहीं होगा।

कोरोना वायरस के बचाव के लिए सलाह
कोरोना वायरस विषाणुओं का समूह है जिससे सामान्यतरू जानवरों में बीमारियां होती है। कभी-कभी ये मनुष्यों में संक्रमण करता है। मनुष्यों में इसके लक्षण सर्दी, खाँसी एवं बुखारए सिरदर्द, गले में खराश इत्यादि के रूप में हो सकते हैं। छोटे बच्चों और बुजुर्ग व्यक्तियों सहित ऐसे व्यक्तियों में जिनमें प्रतिरक्षण की क्षमता कम होती है, में यह वायरस निमोनिया, ब्रोंकाइटिस इत्यादि गंभीर बीमारियाँ उत्पन्न करता है। एडवाइजरी के अनुसार कोरोना वायरस संक्रमित व्यक्ति के खाँसने या छींकने से हवा द्वारा फैलता है। संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क, छूने या हाथ मिलाने और संक्रमित सामग्रियों के संपर्क में आने के बाद आँख या नाक को छूने से भी यह फैलता है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts