Breaking News

नपा में भाजपा का 13 माह का ‘वनवास’ खत्म किया ‘राम’ ने

नपाध्यक्ष का उप निर्वाचन संपन्न, भाजपा के राम को 22 तो कांग्रेस के हनीफ को मिलें 18 मत

विजयी जुलूस में पड़ा खलल सांसद गुप्ता हुए बेहोश

मंदसौर। सोमवार को मंदसौर नपाध्यक्ष का उप – निर्वाचन मंदसौर नगर पालिका भवन में संपन्न हुआ। नपाध्यक्ष उपचुनाव के लिए राज्य निर्वाचन आयोग के प्रेक्षक डीपी तिवारी और कलेक्टर मनोज पुष्प की उपस्थिति में उप निर्वाचन संपन्न हुआ।

सोमवार को सबसे पहले नगर पालिका मंदसौर के सभागृह में प्रातः 9ः50 बजे उप निर्वाचन सम्मेलन प्रारंभ हुआ। मतदान के पूर्व दोनो ही पार्टियों ने अपने – अपने उम्मीदवार घोषित किए। भाजपा से जहां राम कोटवानी का नाम फायनल हुआ वहीं कांग्रेस से मनोनित नपाध्यक्ष मो हनीफ शेख के नाम की घोषणा की गई। जिसके बाद प्रक्रिया के तहत नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत करना, नाम निर्देशन पत्रों की संवीक्षा नाम वापसी, मतपत्र से मतदान प्रक्रिया, मतगणना प्रक्रिया एवं निर्वाचन से संबंधित अन्य कार्य संपन्न हुए। जिसके बाद दोपहर 1 बजें मतदान प्रारंभ हुआ और 1ः40 बजे मतगणना प्रारंभ कि गई जिसमें 40 मतों में से भाजपा के राम को 22 तथा कांग्रेस के हनीफ को 18 मत प्राप्त हुए। और भाजपा के राम कोटवानी 4 मतों से विजयी हुए।

भाजपा ने एक पार्षद ने दिया धोखा

मतदान प्रक्रिया में ज्यादा कुछ विशेष नहीं रहा। बहुमत भाजपा के पक्ष में होने से पूर्व से ही लग रहा था कि भाजपा का उम्मीदवार आसानी से विजयी हो जायेंगा। लेकिन रोमाचंक बात यह रही कि भाजपा के 23 पार्षद होने के बावजूद भी भाजपा के प्रत्याशी को 22 मत ही प्र्राप्त हुए। अब एक किसी ने कांग्रेस को वोट दे दिया। यह भाजपा के लिए जांच और चिंता का विषय जरूर बनेगा।

13 माह बाद मिला स्थाई अध्यक्ष

उल्लेखनीय है कि नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की हत्या के एक वर्ष के बाद राज्य निर्वाचन आयोग ने नपाध्यक्ष के उप निर्वाचन का कार्यक्रम घोषित किया था। जिसके अंतर्गत आज 17 फरवरी को नपाध्यक्ष का उप निर्वाचन हुआ। मंदसौर को 13 माह बाद स्थाई नगर पालिका अध्यक्ष मिला गया। इससे पहले प्रहलाद बंधवार की हत्या के बाद पहले तो प्रशासनिक अधिकारी रणजीत सिंह को अध्यक्ष का चॉर्ज दिया गया था उसके बाद राज्य शासन ने मो हनीफ शेख को अध्यक्ष मनोनित किया था।

राम ने लड़ी थी लम्बी लड़ाई

राज्य शासन उप निर्वाचन कराने के पक्ष में कम ही नजर आ रहा था। जिसके बाद आज नपाध्यक्ष का चुनाव जीते राम कोटवानी ने उप चुनाव को लेकर एक लम्बी लड़ाई हाई कोर्ट में लड़ी थी जिसके बाद सोमवार 17 फरवरी को उसका एक सुखद परिणाम भी राम को मिला।

विजयी जुलूस में पड़ा खलल

जैसे ही मतगणना पूरी हुई वैसे ही राम कोटवानी को बधाई देने वालों को तांता लग गया। इसके बाद पं दीनदयान उद्यान में भाजपा के कार्यकर्ता एकत्रित हुए और यही से विजयी जुलूस निकालने की तैयारी हुई लेकिन विजयी जुलूस निकालने से पहले सांसद सुधीर गुप्ता को चक्कर आ गए और वे बेहोश होकर गिर गए। जिसके बाद तत्काल उन्हें समीपस्थ अस्पताल ले जाया गया जहां डॉक्टरों की टीम ने उनका चेक अप किया। डॉक्टरों ने बताया कि ब्लड प्रेशर लौ हो जाने की वजह से श्री गुप्ता को चक्कर आए और वे गिर गए।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts