Breaking News

नाली में मिला एक दिन का नवजात, 75 वर्षीय बुजुर्ग ने बचाई मासूम की जान

मंदसौर/ शामगढ़ के वार्ड ग्यारह में नूरानी मस्जिद के पास वाली गली में एक कलयुगी मां जन्म के कुछ ही मिनट के बाद नवजात को नाली में फेंककर चली गई। वहां से गुजर रही हब्बन आपा ने जैसे ही नवजात को देखा तो तत्काल उसे बाहर निकाला और फिर पुलिस को सूचना दी। इसके बाद हब्बन आपा और पुलिस नवजात को शामगढ़ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले गए।

यहां पर डॉक्टर राकेश पाटीदार और मनीष दानगढ़ ने नवजात का उपचार किया और जिला अस्पताल रेफर किया। यहां मौके पर पुलिस अधिकारियों को लोगों ने बताया कि उन्होंने एक महिला और एक पुरुष को जाते हुए देखा है। पुलिस अधिकारी अब सीसीटीवी फुटेज खंगाल रहे हैं। डॉक्टर राकेश पाटीदार ने बताया कि नवजात का जन्म साढ़े छह से लेकर सात बजे के बीच हुआ है। और नवजात का वजन ढाई किलो है। और पूर्णत स्वस्थ्य है। उसके शरीर से कीचड़ हटाया गया है।

जिला अस्पताल में चल रहा इलाज
अब नवजात का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। डॉक्टरों के अऩुसार नवजात का जन्म फूल टर्म में ही हुआ है। नवजात को देखने वाले प्रथम प्रत्यदर्शी महिला हुब्बन आपा ने बताया कि मैं कसाई मोहल्ले में शाम को फातिए में जा रही थी। तभी मस्जिद के पास वाली गली में मुझे एक बच्चा जो नाली में औंधए मुंह पड़ा दिखाई दिया। मैंने सबको कहा कि इसे निकालो परंतु किसी ने नहीं मदद की।

नाली से खुद निकाला
महिला ने कहा कि मैं स्वंय नाली में हाथ डालकर बच्चे को निकाला एवं आस-पड़ोस से कपड़े मांग कर उसे साफ किया। इसके थोड़ी देर बाद पुलिस आ गई तो हम बच्चे को लेकर सरकारी अस्पताल चले आए। वहां पर बच्चे को डॉक्टर ने चेक किया और उसका इलाज शुरू किया। बच्चा पूर्ण तरह स्वस्थ था एवं मेरी इच्छा है कि मैं इस बच्चे को अपने पास गोद लूं। क्योंकि सबसे पहले मैंने ही देखा है और बचाया है।

कई लोग पहुंचे गोद लेने
वहीं, नवजात के मिलने की सूचना के बाद करीब आठ से दस महिलाएं और पुरुष उसे गोद लेने के लिए भी पहुंचे। एसआई गौरव लाड़ ने बताया कि सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं। जल्द ही संबंधित आरोपियों के बारे में पता लगा लिया जाएगा। नगर में चर्चा है कि तीन से चार लोगों के साथ एक महिला भी थी। नवजात को बचाने वाली महिला छह संतानों की मां है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts