Breaking News

नाले के गंदे पानी से उगाई जा रही है हरि सब्जियों, स्वास्थ्य के लिए हानिकारक

मंदसौर। इन दो माहों में कोरोना के कारण कई प्रकार की भ्रांतियां फैली उसमें से एक थी हरि सब्जियां जिसके कारण हरि सब्जियों को लोगों ने खाना भी कम कर दिया था। लेकिन बाद में कृषि वैज्ञानिको ने बताया था कि हरि सब्जियों से कोई खतरा कोरोना संबंधित नहीं है फिर भी हरि सब्जियो को गर्म पानी में डालकर की उपयोग करने की सलाह दी गई थी। लेकिन मंदसौर में इन दिनों गंदे पानी नाले के पानी से सब्जियां उगाई जा रही है जो कि स्वास्थ्य के लिए अत्यंत हानिकारक है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार इन दिनों शिवना नदी के आसपास के क्षेत्रों में कई खेते वालों द्वारा भी जहरीली सब्जियां उगाई जा रही है जिसके खाने से स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। एक और जहां कोरोना की महामारी चल रही है वहीं दूसरी और शिवना नदी में छोटे नालियों का गंदा पानी आ रहा है जिसके चलते आसपास के निवासी वहां पर सब्जियां उगा रहे हैं वही नाली के बहते गंदे पानी से सब्जियों की सिंचाई की जा रही है। इन क्षेत्रों में गंदे पानी गिलकी, लौक, तरोई, भिंडी, ककड़ी जैसी सब्जियां उगाई जा रही है। लेकिन प्रशासन द्वारा अब तक इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया है।

स्वास्थ्य पर पड़ता हे प्रतिकूल प्रभाव

उद्यानिकी महाविद्यालय के कृषि वैज्ञानिक डॉ पटेल के अनुसार गंदे नाले के पानी से सिंचाई कर उगाई हरि सब्जियों के पौषक तत्वों पर प्रभाव पड़ता है। हरि सब्जियों को तो ताजा शुद्ध पानी ही दिया जाना चाहिए। इस तरह के पानी से एक बार तरबूज, खरबूजा उगाया जा सकता है लेकिन हरि सब्जियों को गंदे पानी से नहीं उगाना चाहिए। इससे कई प्रकार के त्वचा व अन्य रोग होने की संभावनाएं बढ जाती है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts