पिपलियामंडी के युवा पत्रकार की मौत : कार टकराई पिकअप से

मंदसौर। हेदरवास ओर 10 नंबर नाके के बीच शुक्रवार रात को भयानक एक्सीडेंट हुआ। एक्सीडेंट में पिपलियामंडी के एक युवा पत्रकार की मौके पर ही मौत हो गई। और पिकअप में सवार करीब 15 मजदूर घालय हो गए। पिकअप के अचानक ब्रेक लगाने से पिकअप के पीछे दो चार पहिया वाहन ओर दुर्घटना ग्रस्त हो गए। हालांकि इन वाहनों में किसी को चोट नहीं लगी। बताया गया है कि दलौदा से पिपलियामंडी की तरफ आ रही एक वरना (MP 04 CH 4486) अचानक पलटी खाती हुई डिवाइडर पार कर दूसरी तरफ चली गई। जहा सामने से आरही पिकअप से गाड़ी की टक्कर हो गई ओर वरना के चालक की मौके पर ही मौत हो गई। पिकअप में सवार 15 लोगो को हल्की फुल्की चोट आई जिन का उपचार बड़े अस्पताल में चल रहा है। जबकि ग्रामीणों ओर राहगीरों की सहायता से मृतक युवक को बाहर निकाल कर बड़े अस्पताल पहुँचाया गया। जहां डॉक्टर ने युवक को मृत घोषित किया। हालांकि मामले में कुछ लोगो का कहना है कि युवक अकेला नहीं था उस के साथ दो लोग ओर थे। खबर लिखे जाने तक किसी अन्य का नाम कन्फर्म नहीं हुए था। एक्सीडेंट में यह भी जांच का विषय है, एक दम ऐसा क्या हो गया था जो गाड़ी इतनी पलटी खाती हुई डिवाइडर पार कर के दूसरे रोड़ पर आ गई। अगर गाड़ी में अन्य कोई था, तो उसे कैसे चोट नहीं आई? यह सब जांच का विषय है। जिसकी पुलिस को तफ्तीश करना चाहिए। मिली जानकारी के अनुसार पिपलियामंडी से दलौदा की तरफ वरना गाड़ी (MP 04 CH 4486) से जा रहे महेश पिता गोपाल धाकड़ अकेला जा रहा था। प्रतापगढ़ से मजदूरों को लेकर आ रहे एक पिकअप के सामने अचानक वरना गाड़ी उड़ती हुई डिवाइडर पार कर आई और पिकअप में जा घुसी, जिससे वरना के पड़खच्चे उड़ गए और महेश की मौके पर ही मौत हो गई। पिकअप में सवार 15 लोगों को हल्की फुल्की चोट लगी जिन का उपचार बड़े अस्पताल में चल रहा है। राहगीरों ओर ग्रामीणजनों ने सहायता कर महेश को निकाला और बड़े अस्पताल भेजा, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित किया। मामले में वॉयडी नगर थाना पुलिस ने पिकअप जब्त किया।
अस्पताल में लगा ताता….
महेश धाकड़ के एक्सीडेंट की सूचना पिपलियामंडी में आग की तरह फैल गई। युवा पत्रकार होने के कारण महेश के पिपलियामंडी में सब से अच्चे संबंध थे, सूचना मिलते ही बड़े अस्पताल में लोग का ताता लगने लगा। वहां उपस्थित किसी को भी इस घटना पर भरोसा ही नहीं हो रहा था। बड़े अस्पताल में उपस्थित हर एक की आँखे इस दुर्घटना से नम थी। कोई बोल रहा था अभी दिन में तो बात हुई थी। कोई कह था कल रात में तो में उसके साथ था। किसी को भी इस घटना का भरोसा नहीं हो रहा था
घर का इकलौता बेटा सो गया मौत की नींद…
बताया गया है कि महेश धाकड़ घर का इकलौता बेटा था। महेश के माता पिता भी बड़े अस्पताल में मौजूद थे, लेकिन महेश के दोस्तों ने उन्हें मौत की खबर नहीं बताई थी। बताया गया कि उसे उदयपुर ले गए है और अभी महेश ठीक है। महेश की माता जी का रो-रो कर बुरा हाल था वो बस एक ही रट लगाए हुए थी एक बार महेश से मिलवा दो, पर अब कोई कैसे उन्हें महेश से मिलवा सकता था।
गाड़ी में ओर कौन था साथ?
घटना स्थल से केवल महेश धाकड़ का मृत शव मिला। प्रत्यक्षदर्शियों की माने तो गाड़ी में शायद दो अन्य लोग ओर होने की संभावनाएं है। पुलिस को इस बात को ध्यान में रखते हुए पिपलियामंडी टोल नाके के सीसीटीवी फुटेज खंगालने चाहिए, हो सकता है टोल क्रॉस करते समय सीसीटीवी में दिख जाएं के महेश के साथ ओर कौन था। हालांकि गाड़ी की हालत देख कर लग रहा है, के गाड़ी में महेश अकेला था अगर कोई और होता तो उसे बिल्कुल भी चोट ना लगे ऐसा शायद ही संभव हो।

Hello MDS Android App

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply