Breaking News

भतीजी का बाल विवाह रुकवाने आर्मी से छुट्टी लेकर आया चाचा

Story Highlights

  • परिजन का किया विरोध, कहा नहीं करने दूंगा बाल विवाह
  • बाल विवाह रूकवाने आर्मी से छुट्टी लेकर आया चाचा

मंदसौर। सीतामऊ क्षेत्र के ग्राम मुुवाला में 13 वर्षीय नाबालिग का विवाह रुकवाने के लिए आर्मी से छुट्टी लेकर चाचा आया। उसने ही परिजन का विरोध करते हुए कहा कि बाल विवाह नहीं करने दूंगा। इधर महिला सशक्तीकरण विभाग के विखं अधिकारी विवेक पाटीदार भी मौके पर पहुंच गए और परिजन को समझाइश देकर बाल विवाह रोक दिया। हालांकि इससे पहले ही आर्मी जवान ने बाल विवाह की खिलाफत कर दी थी।

ग्राम मुुवाला में बाल विवाह होने की सूचना बाल संरक्षण अधिकारी राघवेंद्र शर्मा को मिली। सूचना की सत्यता का परीक्षण करने के लिए शर्मा ने सीतामऊ विकासखंड महिला सशक्तीकरण अधिकारी विवेक पाटीदार को निर्देशित किया। जब टीम मौके पर पहुंची तो सूचना सत्य पाई गई। नाबालिग के चाचा आर्मी जवान बीएस राठौड़ अभी हल्दवानी, नैनीताल(उत्तराखंड) में पदस्थ है।जब उन्हें गांव के ही पूर्व सैनिक नंदलाल सूर्यवंशी से पता चला कि भाई भोपालसिंह अपनी अवयस्क बेटी का विवाह कर रहा है। तब पहले फोन पर भाई को विवाह नहीं करने के लिए समझाया। वह नहीं माना तो उसने अपने वरिष्ठ अफसरों को वस्तु स्थिति से अवगत कराते हुए अवकाश का आवेदन दिया। जिस पर अधिकारियों ने भी उसे भेज दिया। मंगलवार को ही गांव पहुंचे बीएस राठौड़ ने परिजनों को लड़-झगड़कर बाल विवाह नहीं करने के लिए सहमत कर लिया था। टीम को देखकर प्रशासनिक सक्रियता के लिए धन्यवाद देते हुए उसने परिजनों को सजा के प्रावधान भी बताए। विखं महिला सशक्तीकरण अधिकारी विवेक पाटीदार एवं परियोजना सहायक शैलेंद्रसिंह सिसौदिया ने परिजनों से विवाह के लिए निर्धारित आयु से पूर्व विवाह नहीं करने का लिखित वचन पत्र भी लिया। मंगलवार को ही जावरा तहसील के असावती से बारात आना थी। टीम के सामने ही परिजनों ने बारात नहीं लाने हेतु सूचित किया गया।

सैनिक का होगा सम्मान

बाल संरक्षण अधिकारी राघवेंद्र शर्मा ने बताया कि बाल विवाह बधाों के साथ क्रूरता है और इसे रोकने के लिए जनसहयोग अतिआवश्यक है। देश केे कर्णधार बधाों के विकास में सहयोग करना एवं उनका संरक्षण करना प्रत्येक व्यक्ति का नैतिक दायित्व है। दोनों सैनिकों द्वारा जिस शिद्दत से अपने दायित्व का निर्वहन किया है वह अनुकरणीय है। ।जिला प्रशासन दोनों सैनिकों का सम्मान करेगा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply