Breaking News

लगातार 24 घंटे बरसा पानी, 15 मिनिट भी छूट नहीं, बारिश 72 इंच के पार

चारों और पानी ही पानी, आमजन परेशान, निचली बस्तियों में भराया पानी

55 वर्षो का रिकार्ड टूटा, पशुपतिनाथ के आठोें मुंह हुए जलमग्न

मंदसौर। जिले में लगातार हो रही आफत की बारिश शनिवार रात तक जारी थी। मंदसौर में भी तीन दिन से जमकर बरस रहा पानी। शुक्रवार की शाम 7 बजे से लेकर शनिवार की शाम 7 बजे तक लगातार 24 घंटे तक अनवरत रूप से बरस रहा था। चारों और पानी ही पानी और कुछ नहीं। बारिश के पानी इस कदर तबाही मचाई की 55 वर्षो का रिकॉर्ड टूट गया। पशुपतिनाथ मंदिर पर भी इतना पानी कभी नहीं आया जितना शनिवार को आया। शिवना नदी ने भगवान पशुपतिनाथ का मस्तकााभिषेक कर दिया।

मुख्य बाजार पानी-पानी हो गए। कालखेत, बस स्टेण्ड, कालिदास मार्ग, नयापुरा, बालागंज, सदर बाजार, दयामंदिर रोड सभी जगहों पर 4 से 6 फीट तक पानी जमा हो गया। लगातार भारी बारिश से शिवना नदी उफान पर है, जिसके चलते कई गांव पानी-पानी हो गए हैं। जिला मुख्याालय के नजदीक के गांव हैदरवास, अलावदखेड़ी, गुजरदा, अचेरा, अचेरी में घरों में पानी भरने के बाद बचने के लिए लोगों ने छतों की ओर रुख किया। थाना अफजलपुर की डायल 100 के चालक राकेश बैरागी व आरक्षक सुरेंद्रसिंह शक्तावत ने नाले में बहते हुए दो व्यक्तियों को नाले से बाहर निकाला। उनकी कार बह गई। पटेला में जोरदार बारिश से तालाब का पानी गांव में आने लगा है। नाहरगढ क्षेत्र में रात भर से भारी बारिश हो रही है। जोकि निरंतर जारी है। भवानीमंडी में स्टेशन से भेसोदा जाने वाले रोड पर दो पेड़ गिरने से मार्ग अवरुद्ध हो रहा है। नाहरगढ – बिल्लोद मार्ग भी पिछले 24 घंटो से बंद है।

अफजलपुर थाना क्षेत्र के ग्राम इशाकपुर में तुम्बड़ नदी का पानी घुसने की सूचना है, गांव से निकलने के सभी मार्ग बंद हो गए है। वहां के ग्रामीण प्रशासन से मदद की गुहार लगा रहे है। लगातार बारिश चलती रही तो पानी गांव में घुसने के आसार बने हुए है। सीतामऊ क्षेत्र में भी सुबह से तेज बिजलियों की गड़गड़ाहट के साथ तेज बारिश हो रही है।

शिवना ने छठीं बार घुसी मंदिर के गर्भगृह में, इस बार किया मस्तकाभिषेक

सात दिनों से जारी बारिश ने मंदसौर जिले में आफत मचा दी है। यहां 36 घंटों में हुई 5 इंच बारिश से मल्हारगढ़ में बाढ़ जैसे हालात हो गए। अब तक जिले में 72 इंच बारिश हो चुकी है। जिले में बारिश अधिक होने से जिले में मल्हारगढ़-जीरन, पिपलयामंडी-मनासा, मंदसौर सीतामऊ सहित 20 से अधिक छोटे व बड़े मार्ग बंद रहे। मल्हारगढ़ क्षेत्र में भारी बारिश के चलते कई घरों व गांवों में पानी घुस गया।

गांधीसागर के सभी 19 गेट खोले

मंदसौर में भी भारी बारिश के चलते गांधी सागर बांध के सभी 19 गेट खोल दिए गए हैं। बांध से लगातार 4.76 लाख क्यूसेक पानी प्रति सेकंड छोड़ा जा रहा है। गांधीसागर के कार्यपालन यंत्री अरुणसिंह चौहान ने बताया कि बांध में 4.76 लाख क्यूसेक पानी प्रति सेकंड आ रहा है और इतना ही गेटों से छोड़ा जा रहा है। बहाए जा रहे पानी की मात्रा इतनी है कि इससे डैम आधा भरा जा सकता है। बांध का लेवल 1311 फीट पर मेंटेन किया जा रहा है। क्षमता 1312 फीट है।

लोगों को घरों से निकाल कर तुरंत सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा

कलेक्टर मनोज पुष्प द्वारा बताया गया कि गांधी सागर डैम के चीफ इंजीनियर से चर्चा की गई। चर्चा के दौरान चीफ इंजीनियर द्वारा बताया गया कि गांधी सागर डैम का लेवल 1312 मीटर तक पहुंच गया है। डैम के सारे गेट खोल दिए गए हैं। इसके पश्चात भी जल का स्तर निरंतर बढ़ रहा है। मंदसौर जिले के साथ-साथ इंदौर, उज्जैन, प्रतापगढ़, रतलाम एवं आसपास की सभी जिलों में लगातार भारी वर्षा हो रही है। जिससे गांधी सागर डेम के सभी गेट खोलने के पश्चात भी पानी का स्तर और बढ़ रहा है। कम होने की वर्तमान में कोई संभावना नही दिख रही है।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के सभी लोग अपने मकान छोड़कर तुरंत सुरक्षित स्थानों पर पहुंचे

कलेक्टर श्री पुष्प द्वारा सभी अनुविभागीय अधिकारियों, तहसीलदारों, नायब तहसीलदारों, सभी थाना प्रभारियों, गांव के सरपंच, सचिव, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिकाओं, आशाओं एवं सभी तरह के प्रशासनिक अमलो को निर्देश दिए हैं कि ऐसे स्थान जहां पर पानी घुसने की पूरी संभावना है एवं आने वाले कुछ समय में पानी घुस सकता है। ऐसे सभी लोगों को निकालकर तुरंत सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाये। इस संबंध में प्रशासन पूरी तरह से मुस्तैद हैं। चारों तरफ निगाह बनाए हुए हैं।

कलेक्टर ने पुलिस को दिए निर्देश

कलेक्टर द्वारा बताया गया कि पुलिस अधीक्षक को विशेष तौर पर निर्देश प्रदान किए गए हैं, कि बाढ़ एवं अतिवृष्टि के दौरान ऐसे लोग जो असुरक्षित तरीके से नदी, नाले, तालाबों के किनारे घूम रहे हैं। जो लोग सुरक्षित तरीके से घर में शांति पूर्वक न बैठ कर, इधर – उधर पानी के आसपास घूम रहे हैं। उनको तुरंत गिरफ्तार करे। तथा उन पर सख्त कार्यवाही प्रारंभ करें।

युवा कांग्रेस नेता सोमिल नाहटा पंहुचे पीडितों के बीच

युवा कांग्र्रेस के राष्ट्रीय समन्वयक सोमिल नाहटा व उनकी टीम शनिवार को सुबह से ही पीडित लोगों के बीच पंहुचे और बाढ पीडितों को सुरक्षित स्थानोें पर पंहुचाने के साथ – साथ उनके लिए भोजन के पैकेट की व्यवस्था भी करवाई।

 

 

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply