Breaking News

सुवासरा उपचुनाव: भाजपा ने देवडा को प्रभारी बनाकर खेला नया दांव

कांग्रेस ने भी अलोट विधायक चावला को बनाया सह प्रभारी

मंदसौर। सुवासरा उपचुनाव को लेकर भाजपा और कांग्रेस दोनों राजनीतिक सक्रिय हो गए है। जहां एक और दोनो राजनीतिक पार्टियां लगातार बैठके करने में लगी हे। वहीं भाजपा ने एक और दांव खेलते हुए जिले के वरिष्ठ विधायक जगदीश देवड़ा को उपचुनाव का प्रभारी बनाया है। वहीं कांग्रेस ने भी आलोट विधायक मनोज चावला को सुवासरा उपचुनाव को लेकर सहप्रभारी नियुक्त किया है।

उपचुनाव कांग्रेस से ज्यादा भाजपा के लिए मुश्किलें पैदा कर रहा हैं। कांग्रेस को तो उपचुनाव के लिए सिर्फ अपना उम्मीदवार चुनकर घोषित करना है। लेकिन भाजपा को डेमेज कंट्रोल भी करना है और भाजपा अभी इस में ही लगी है। भाजपा को एक या दो लोगों को नहीं बल्कि क्षेत्र के हर विधायक, पूर्व विधायक और हर बड़े नेता को संतुष्ट करना है। क्योंकि प्रदेश में सत्ता परिवर्तन करने के लिए भाजपा ने कांग्रेस के विधायकों को भाजपा में शामिल किया था। उस समय तो सब कुछ बहुत आसान लग रहा था लेकिन अब भाजपा को कई मुश्किलों को सामना करना पड़ रहा है। इसलिए प्रदेश सरकार बार – बार मंत्रीमंडल विस्तार को टाल रही हे। लेकिन राजनीतिक जानकारों का कहना है कि हरदीपसिंह डंग का एक बार तो मंत्री बनना तय है ऐसे में जिले के कई वरिष्ठ विधायक नाराज हो सकते है। पार्टी को सुवासरा उपचुनाव जितने में सबसे ज्यादा जरूरत मल्हारगढ़ विधायक और एक बार सुवासरा क्षेत्र से भी विधायक रह चुके जगदीश देवड़ा की लग रही हे। श्री देवड़ा इस समय विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर भी है और उनका नाम मंत्रीमंडल विस्तार में भी तय माना जा रहा है। श्री देवड़ा की सुवासरा विधानसभा क्षेत्र में भी अच्छी पकड़ है। सबसे बडी बात यह है भाजपा इस बात का विशेष ध्यान रख रही है कि श्री डंग के मंत्री बनने के बाद भी श्री देवड़ा कद जिले में कही भी कम न हो। लेकिन यदि किसी कारण वश श्री देवड़ा को मंत्री नहीं बनाया जाता है तो उपचुनाव में उनकी नाराजगी पार्टी को झेलनी पड सकती है इसलिए श्री देवड़ा को पार्टी ने पहले ही बड़ी जिम्मेदारी सौंप दी है। अब उपचुनाव प्रभारी बनने के बाद श्री देवड़ा की साख भी उपचुनाव से जुड़ गई है। श्री देवड़ा को भी अपने अनुभव का पूरा लाभ पार्टी को दिलाना होगा।

लगातार चल रही है बैठके

भाजपा द्वारा सुवासरा विधानसभा क्षेत्र के सभी असंतुष्टोें को मनाने के लिए लगातार बैठके हो रही है। सुवासरा के पूर्व विधायक राधेश्याम पाटीदार को भी भाजपा संतुष्ट करने का पूरा प्रयास कर रही है। लेकिन उनकी मांग भी थोड़ी बड़ी होने के कारण प्रदेश के मुख्यमंत्री और भाजपा प्रदेशाध्यक्ष को सोचना पड़ रहा है। वहीं पिछले कुछ दिनों से जिला पंचायत अध्यक्षा प्रियंका गोस्वामी के भी कांग्रेस में जाने और विधानसभा चुनाव कांग्रेस से लड़ने की खबरें आ रही है। जिसके बाद भाजपा के बड़े नेताओं ने भी गोस्वामी से सम्पर्क बड़ा दिया है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार प्रियंका गोस्वामी के पति डॉ मुकेश गोस्वामी से इंदौर में कैलाश विजयवर्गीय ने सम्पर्क साधा है। अब आगे क्या होगा यह तो आने वाला समय ही बतायेंगा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts