Breaking News

जाने क्या है कोरोना वायरस… इस से बचाव के तरीके.. भारत में तेज़ी से बढ़ रहा है कोरोना वायरस?

चीन से फैले कोरोना वायरस ने भारत समेत दुनिया के कई देशों में हाहाकार मचा दिया है। चीन में कोरोना वायरस ने कई लोगों की जान ले ली है। सैंकड़ों लोग इसकी चपेट में हैं। कोरोना वायरस की भयावहता को देखते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने चीन में इमरजेंसी की घोषणा कर दी है। कोरोना असल में वायरसों का एक बड़ा समूह है जो जानवरों में आम है।

अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीएस) के अनुसार, कोरोना वायरस जानवरों से मनुष्यों तक पहुंच जाता है। नया चीनी कोरोनो वायरस, सार्स वायरस की तरह है। इसके संक्रमण से बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्याएं हो जाती हैं। यह न्यूमोनिया का कारण भी बन सकता है।

कोरोनावायरस (Coronavirus) कई वायरस (विषाणु) प्रकारों का एक समूह है जो स्तनधारियों और पक्षियों में रोग के कारक होते हैं। यह आरएनए वायरस होते हैं। मानवों में यह श्वास तंत्र संक्रमण के कारण होते हैं, जो अधिकांश रूप से मध्यम गहनता के लेकिन कभी-कभी जानलेवा होते हैं। गाय और सूअर में यह अतिसार और मुर्गियों में यह ऊपरी श्वास तंत्र के रोग के कारण बनते हैं। इनकी रोकथाम के लिए कोई टीका (वैक्सीन) या वायररोधी (antiviral) अभी उपलब्ध नहीं है और उपचार के लिए प्राणी की अपने प्रतिरक्षा प्रणाली पर निर्भर करा जाता है और रोगलक्षणों (जैसे कि निर्जलीकरण या डीहाइड्रेशन, ज्वर, आदि) का उपचार करा जाता है ताकि संक्रमण से लड़ते हुए शरीर की शक्ति बनी रहे। हाल ही में WHO ने इसका नाम COVID-19 रखा।

चीन के वूहान शहर से उत्पन्न होने वाला 2019 नोवेल कोरोनावायरस इसी समूह के वायरसों का एक उदहारण है, जिसका संक्रमण सन् 2019-20 काल में तेज़ी से उभरकर 2019–20 वुहान कोरोना वायरस प्रकोप के रूप में फैलता जा रहा है।

दुनिया भर में कोविड-19 के नाम से पहचाने जाने वाला कोरोनावायरस बाकी देशों के साथ अब भारत के लिए भी चिंता का विषय बन गया है। हाल ही में शुक्रवार को दिल्ली में कोरोना संक्रमण का एक और नया मामला सामने आया है। इस नए मामले को मिलाकर अब तक देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के 3 मामले सामने आ चुके हैं। बता दें, थाईलैंड और मलेशिया की यात्रा कर चुके एक शख्स में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई थी। इसके बाद देश में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 31 हो गई है।

ऐसे में कोरोना का डर अब हर देशवासी के लिए परेशानी का सबब बन चुका है। देश में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए इस वायरस को लेकर लोगों के बीच कुछ भ्रम जन्म ले रहे हैं। जिसकी वजह से परेशानी और बढ़ सकती है। ऐसे में लोगों की परेशानी और इस बीमारी को लेकर उनके डर को समझते हुए आपको बताते हैं कोरोना से जुड़े क्या हैं भ्रम और कैसे आप कर सकते हैं इस बीमारी से खुद का और परिवार का बचाव।
कोरोना वायरस से जुड़े भ्रम और हकीकत-
– मास्क पहन लेने से आप कोरोना वायरस से सुरक्षित हैं ये एक भ्रान्ति मात्र है, कोरोना वायरस हवा से कहीं ज्यादा सफेर्स पर पाया जाता है। इसलिए सार्वजनिक और भीड़ भाड़ वाली जगह को छूने से बचें, किसी बीमार व्यक्ति के सीधे संपर्क में न आएं और घर आकर सबसे पहले हाथ धुलें। गंदे हाथ को मुंह में डालना, आंखें मलना आदि ज्यादा खतरनाक है। इसलिए मास्क उनके लिए ज्यादा जरूरी है जिनमें लक्षण हैं, और मास्क भी विशेष तौर पर डिजाइन किए गए। माकेर्ट में उपलब्ध ज्यादातर मास्क इस मामले में बेअसर हैं।

-हैंड सैनिटाइजर ही हाथ साफ करने का विकल्प है, एक अफवाह ये भी है जिसके कारण लोग परेशान हैं। किसी भी सामान्य साबुन से अच्छी तरह हाथ धुलना ही पयार्प्त है। सैनिटाइजर जरूरी है ये सिर्फ भ्रांति है।

-शराब पीने से, गरम पानी पीने से, काली मिर्च और अदरक के सेवन से कोरोना वायरस से बचा जा सकता है, ऐसी बातों पर तो लिखना भी उचित नहीं है

– भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें, विशेषकर जब आपकी उम्र 6० या उससे ज्यादा है।

-बिना डॉक्टर की सलाह के एंटी-बायोटिक्स का सेवन न करें वो आपके खतरे को और बढ़ा सकता है।

-गर्मी में वायरस यूं तो कमजोर पड़ जाते हैं पर अभी तक इसका सीधा कनेक्शन सामने नहीं आया है, कोरोना वायरस भूमध्य रेखा के समीप देशों जैसे सिंगापुर में भी फैल रहा है, हां इसका प्रभाव कम तापमान वाले देशों में ज्यादा है। इसलिए ये कहना कि अप्रैल आते-आते आपको इसका असर कम होता दिखेगा पूरी तरह से गलत भी नहीं है।

कोरोना वायरस से जुड़ी सावधानियां-
– अगर आपको या आपके परिवार में से किसी को कोरोना वायरस के लक्षण हों तो एकांतवास चुनें और तत्काल स्वास्थ्य अधिकारियों से संपर्क करें।

– अगर आप विदेश यात्रा से लौटे हैं और आपको ऐसी कोई शिकायत है तो डॉक्टर से लेकर एयरलाइन तक सभी को सम्पर्क करें और उन्हें सावधानी बरतने में मदद करें

-बिना किसी प्रमाणिकता के किसी भी तरह की जानकारी, वीडियो, फोटो आदि सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचारित ना करें।

-रुमाल हमेशा साथ रखें और छींकते या खासते वक़्त मुंह ढक लें

कोरोना वायरस हमारे देश में ना फैले इसकी जिम्मेदारी सिर्फ सरकार की नहीं है। हमारे और आपकी छोटी छोटी सावधानियां इसे फैलने से रोक सकती हैं। अभी तक दुनिया भर से कोविड-19 के कुल 9527० मामले सामने आए हैं जिनमें से 3281 लोगों की मौत हो गई है। भारत में अब तक एक भी व्यक्ति की कोरोना वायरस के चलते मौत नहीं हुई है, हम आशा करते हैं कि आप सभी के सहयोग से स्थिति ऐसी ही बनी रहेगी।

जानिए कोरोना वायरस से कैसे करें बचाव: घर को वायरस से निपटने के लिए करें तैयार, बच्चों को दें भरपूर प्यार

कोरोना का प्रकोप लगातार बढ़ रहा है और विशेषज्ञ इसके लिए अगले कुछ महीनों में दवाएं उपलब्ध कराने का दावा कर रहे हैं। इसी के साथ लोगों को वायरस से निपटने के लिए घर से लेकर, स्कूल-कॉलेज, ऑफिस के साथ साफ-सफाई रखने और सावधानी बरतने की अपील कर रहे हैं। शीर्ष अमेरिकी स्वास्थ्य संस्था रोग नियंत्रण एवं निवारण केंद्र (सीडीसी) के अनुसार सुरक्षा की शुरुआत अपने घर से करें, सबसे पहले अपने घर को वायरस से निपटने के लिए तैयार करें। बच्चों को सकारात्मक रखें और उन्हें भरपूर प्यार दें। आज से कोरोना से बचाव को लेकर जागरुकता सीरीज शुरू की जा रही है। पहली कड़ी में घर और बच्चों को लेकर रखी जाने वाली सावधानी बता रहे हैं। आगे कार्यस्थल, समूहों व अस्पतालों में बचाव के तरीके बताएंगे।

घर पर रखें ख्याल, परिजनों से सावधानी पर करें चर्चा

परिजनों, रिश्तेदारों और मित्रों को जीवनशैली से जुड़ी सावधानियों के बारे में बताएं। पड़ोसियों के साथ मिलकर आपातकालीन स्थिति की योजना बनाएं। बीमारी की स्थिति में संपर्क करने वाले लोगों की सूची बनाएं और साथ के लोगों के साथ साझा करें।

मुलाकात से बचें

बीमार लोगों से मिलने पर परहेज करें। यदि खुद बीमार हैं तो डॉक्टर से मिलने के अलावा बाहर निकलने से बचें। खांसी और जुकाम होने पर टिश्यू का इस्तेमाल करें। परिजनों के साथ कम बैठें।

घर की चीजों की रोज करें सफाई

घर पर जिन वस्तुओं का रोजाना इस्तेमाल हो रहा है। उनकी सफाई रोजाना करें। कुर्सी, मेज, लाइट के स्विच, दरवाजे और हत्थे को घर के सभी लोग इस्तेमाल करते हैं, इन्हें रोजाना साफ करें।

बीस सेकेंड्स तक साफ करें हाथ

पानी और साबुन का इस्तेमाल करते हुए हाथों को बीस सेकेंड्स तक रगड़कर साफ करें। खाने के पहले और बाद, शौचालय के इस्तेमाल के बाद अवश्य साबुन से हाथ धुलें। ऐसे सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें जिसमें 60 प्रतिशत एल्कोहल हो।

 

बच्चों के लिए सतर्कता, स्कूल प्रबंधन को करें सूचित

यदि बच्चे को खांसी या जुकाम है तो स्कूल के प्रबंधन को सूचित करें। साथ ही बच्चों के लिए घर पर की जाने वाली प्रैक्टिस और अध्ययन की मांग करें।

 

समूह से दूर रहने को करें प्रेरित

यदि बच्चा स्कूल जा रहा है तो उसे समूह से परहेज करने के लिए कहें। साथ ही एकल खेल में हिस्सा लेने के लिए प्रोत्साहित करें।

 

अपनों से संपर्क में रहें

खुद व परिजनों से लगातार संपर्क में रहें। मुलाकात न सही तो भी फोन और ईमेल के जरिए उनसे बातचीत करते रहें। बच्चों से स्नेह से बात करें और उन्हें सकारात्मक रहने को प्रेरित करते रहें।

 


दुनिया के बाक़ी देशों में क्या है स्थिति

  • कैलिफ़ोर्निया में कोरोना वायरस की वजह से हुई पहली मौत के बाद स्टेट-इमरजेंसी की घोषणा कर है और इसी के साथ अमरीका में कोरोना वायरस की वजह से मरने वालों का आंकड़ा 11 हो गया है.
  • अमरीका के छह राज्यों में कम से कम 150 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि.
  • इटली पूरे देश में स्कूल-कॉलेजों को मार्च के मध्य तक बंद करने पर विचार कर रहा है. इटली में कोरोना वायरस की वजह से 107 लोगों की मौत हो चुकी है. जबकि 2,706 लोग पॉज़ीटिव पाये गए हैं.
  • ब्रिटेन में अभी तक 87 लोगों के कोरोना वायरस के शिकार होने की पुष्टि हो गई है. ब्रिटेन के चीफ़ मेडिकल ऑफ़िसर प्रोफ़ेसर क्रिस विट्टी ने कहा है कि अभी 32 और नए मामले सामने आए हैं.
  • फ़्रांस ने भी राजधानी पेरिस के आस-पास के स्कूलों को बंद कर दिया है. कोरोना वायरस के प्रभावित इलाक़ों में स्थित 120 स्कूलों को बंद कर दिया गया है.
  • चिली और अर्जेन्टीना में भी कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया है.
  • इस बीच विश्व बैंक ने कोरोना वायरस से प्रभावित विकासशील देशों को इससे लड़ने के लिए 12 अरब डॉलर के आर्थिक मदद की घोषणा की है.

Hello MDS Android App

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts