Breaking News

क्यो रात को झाड़ू नहीं लगानी चाहिए? झाड़ू से जुड़े हुए अंधविश्वास जाने!

अंधविश्वास :– रात को झाड़ू नहीं लगानी चाहिए! शाम के समय घर में झाडू नहीं लगाना चाहिए क्योंकि शाम को पूजा करने का समय होता है। अगर आप ऐसे में झाडू मारते हैं तो घर में पैसों की बरकत नहीं रहती। अगर आपका झाडू लगाना जरूरी हैं तो आप पूजा के समय से पहले-पहले झाडू लगा सकते हैं।
तर्क :- ये बात सभी अपने बचपन से सुनते हुए आ रहे है  की रात में झाड़ू ना लगाए, रात में झाडू लगाने से लक्ष्मी जी चली जाती हैं, पर क्या हमने ये सोचने या  जानने की कोशिश की कि ऐसा क्यों? दोस्तो, पहले (मतलब सालो पहले) हमारे गाँवों में बिजली नहीं थी। रातो में रोशनी के लिए लैंप या मोमबत्ती काम में आया करती थी, जिनकी रौशनी बहुत ही कम हुआ करती थी। उस समय खाना भी जल्दी ही बन जाया करता   था, क्योकि रात के अँधेरे में खाना बनाते समय यदि कुछ गिर जाये तो पता नहीं चल  पता  था।ऐसे में लोग रात में कोई भी काम करना पसंद नहीं  करते थे। ऐसे में वे सोचते   थे की यदि रात में झाड़ू लगा दी जाये तो घर में  गिरे हुए सामान का पता नहीं चल पायेगा। वही दूसरी और यदि झाड़ू दिन में लगायी जाये तो पता चल जाता था की झाड़ू से आये कचरे में कोई काम का सामान तो नहीं हैं।

दूसरी और लोग झाड़ू को लक्ष्मी जी का रूप भी मानते हैं। और पुराने लोगो की मान्यता थी की शाम ढलने के बाद वे लोग अपने देवी देवताओ को हाथ नहीं लगते थे।  इसीलिए भी लोग रात में झाड़ू को हाथ नहीं लगते है, इससे लक्ष्मी जी के रुष्ठ हो जाने का खतरा रहता था। तो इसीलिए ही कहा जाता है की रात को झाड़ू नहीं लगनी चाहिए।


झाड़ू को हिन्दू धर्म में लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है। मान्यता है कि संध्याकाल और रात में झाड़ू लगाने से लक्ष्मी चली जाती है और व्यक्ति के बुरे दिन शुरू हो जाते हैं। झाड़ू को खड़ा करके रखने पर घर में कलह होती है।

इस मान्यता के कारण लोग रात में झाड़ू नहीं लगाते और झाड़ू को खड़ा करके नहीं रखते हैं। झाड़ू और पोंछे को घर में प्रवेश करने वाली बुरी अथवा नकारात्मक ऊर्जाओं को नष्ट करने का प्रतीक भी माना जाता है।

घर में साफ-सफाई किसी पसंद नहीं। कोई भी सुबह उठ कर पहले अपने घर को ही साफ करता है। सफाई के लिए सबसे जरूरी है झाड़ू। शास्त्रों अनुसार झाड़ू को मां लक्ष्मी का प्रतीक माना गया है। झाड़ू से घर में ही सुख-शांति और लक्ष्मी का निवास होता है, लेकिन कई बार झाड़ू के गलत प्रयोग से घर में दरिद्रता का वास हो जाता है और घर में कोई न कोई बीमारी और कलेश रहता है। आज हम आपको कुछ सावधानियां बताएंगे जिन्हें अपनाने से आपको और आपके घर को नकारात्मक शक्तियों से छुटकारा मिलेगा …

झाड़ू से जुड़े अन्य अंधविश्वास :

  • झाड़ू को कभी भी सूरज ढलने के बाद नहीं लगाना चाहिए इससे मां लक्ष्मी रुष्ट हो जाती हैं।
  • अगर सूर्यास्त के बाद घर में झाडू लगाना आवश्यक है तो आप जब भी झाडू लगाएं तो उस कूड़े या मिट्टी को घर के बाहर न फेंके कहीं एक जगह पर कूड़ेदान में ही रख दें और सुबह होने पर बाहर फेंक दें। माना जाता है कि शाम के समय मिट्टी घर के बाहर फेंकने से लक्ष्मी घर से बाहर चली जाती है।
  • यदि अपने घर के बाहर हर रोज रात के समय दरवाजे के सामने झाड़ू रखते हैं तो इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश नहीं करती है। ये काम केवल रात के समय ही करना चाहिए। दिन में झाड़ू छिपा कर रखें।
  • नए घर में प्रवेश करने से पूर्व नया झाडू घर में लाना शुभ होता है और पुराना झाड़ू ले जाना अशुभ होता है।
  • झाडू के ऊपर पांव नहीं रखना चाहिए इससे लक्ष्मी का निरादर होता है। घर का कोई छोटा बच्चा अचानक घर में झाडू लगाने लगे तो उसे घर में किसी अनचाहे मेहमान के आने का संकेत समझें।
  • उलटा झाडू रखना अपशकुन माना जाता है। झाड़ू को हमेशा लेटाकर रखना चाहिए। झाड़ू को खड़ा करके रखने पर कलह होता है।
  • घर का कोई सदस्य बाहर जाए तो तुरंत झाड़ू लगाना अशुभ होता है। उस व्यक्ति को असफलता का सामना करना पड़ता है।
  • झाड़ू को घर से बाहर या छत पर नहीं रखें क्योंकि ऐसा करने से घर में चोरी होने का भय होता है। झाड़ू प्रत्यक्ष रूप में न रखें बल्कि अप्रत्यक्ष रूप में छिपा कर रखें जिससे किसी को नजर न आए।
  • जिस प्रकार धन को छुपाकर रखते हैं उसी प्रकार झाड़ू को भी घर में आने-जाने वालों की नज़रों से दूर रखें।
  • वास्तु विज्ञान के अनुसार जो लोग झाड़ू के लिए एक नियत स्थान बनाने की बजाय कहीं भी रख देते हैं, उनके घर में धन का आगमन प्रभावित होता है।
  • गाय या अन्य किसी भी जानवर को झाड़ू से मार कर घर से न भगाएं इससे महालक्ष्मी आपके घर से रूष्ट होकर चली जाती है।
  • पूजा घर के ईशान कोण यानी उत्तर- पूर्वी कोने मेंझाडू व कूड़ेदान आदि नहीं रखना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से घर में नकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है और घर में बरकत नहीं रहती है।
  • कुछ विद्वानों का मानना है कि दिनभर घर में जो ऊर्जा इकट्ठी हो गई है उसे रात में बाहर करना ठीक नहीं।
  • खुले स्थान पर झाड़ू रखना अपशकुन माना जाता है इसलिए इसे छिपाकर रखा जाता है। जिस प्रकार धन को छुपाकर रखते हैं उसी प्रकार झाड़ू को भी। वास्तु विज्ञान के अनुसार जो लोग झाड़ू के लिए एक नियत स्थान बनाने की बजाय कहीं भी रख देते हैं, उनके घर में धन का आगमन प्रभावित होता है। इससे आय और व्यय में असंतुलन बना रहता है। आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है।
  • भोजन कक्ष में झाड़ू भूलकर न रखें। मान्यता अनुसार इससे अनाज खत्म होने और इंकम के रुक जाने का डर बना रहता है।
  • घर के बाहर दरवाजे के सामने झाड़ू उल्टी करके रखने से यह चोर और बुरी ताकतों से आपके घर की रक्षा करती है। यह काम केवल रात के समय किया जा सकता है। दिन के समय झाड़ू छिपाकर रखना चाहिए ताकि किसी को नजर न आए।
  • अगर कोई बच्चा अचानक झाड़ू लगाने लगे तो समझना चाहिए आपके घर में अनचाहा मेहमान आने वाला है।
  • घर में नमक मिले पानी से पोंछा लगाने से घर से नकारात्मकता खत्म हो जाएगी। बुरी ताकतें बेअसर हो जाती हैं।
  • गुरुवार को घर में पोंछा न लगाएं, ऐसा करने से लक्ष्मी रूठ जाती है। गुरुवार को छोड़कर घर में रोज पोंछा लगाने से लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है।
  • जो लोग किराए से रहते हैं वे नया घर किराए पर लेते हैं अथवा अपना घर बनवाकर उसमें गृह प्रवेश करते हैं तब इस बात का ध्यान रखें कि आपकी झाड़ू पुराने घर में न रह जाए। मान्यता है कि ऐसा होने पर लक्ष्मी पुराने घर में ही रह जाती है और नए घर में सुख-समृद्घि का विकास रुक जाता है।

घर में सफाई करना भी दैनिक धार्मिक संस्कारों से जुड़ा कार्य है। सफाई से घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बना रहता है। कचरा, धूल, गंदगी आदि से नकारात्मकता का वातावरण बनता है। इसके निवारण के लिए जरूरी साधन है – झाड़ू।

यह घर की सफाई के साथ ही उसकी दरिद्रता को भी दूर करती है। वास्तु में झाड़ू से संबंधित कई बातों का उल्लेख किया गया है। अगर इन नियमों का पालन किया जाए तो घर में सुख, सौभाग्य और समृद्धि का आगमन होता है। जानिए झाड़ू से संबंधित कुछ जरूरी बातें…

1. घर में झाड़ू लगाने का सबसे उचित समय सुबह का है। सायं काल को भी झाड़ू लगाई जाती है लेकिन सूर्य अस्त होने के बाद झाड़ू नहीं लगानी चाहिए। इससे घर की समुद्धि का नाश होता है।

2. झाड़ू का उपयोग सदैव सफाई कार्य में ही करना चाहिए। सफाई के दौरान किसी को संबंधित स्थान से हटाने के लिए झाड़ू का स्पर्श नहीं करना चाहिए।

3. किसी पशु को झाड़ू से स्पर्श नहीं करना चाहिए। खासतौर से गाय को झाड़ू से स्पर्श करना शुभ नहीं माना जाता।

4. झाड़ू को कभी खुले स्थान पर न रखें। इसे ऐसे स्थान पर रखना चाहिए जहां ये किसी के पैर से स्पर्श न हो और न लोगों को दिखाई दे। इसे अलग कोने में रखना चाहिए।

5. जहां अनाज और खाने के सामान का भंडारण किया जाता है, वहां झाड़ू नहीं रखनी चाहिए। इसके पीछे मान्यता है कि इस स्थान पर रखी झाड़ू परिवार को हानि देती है।

6. घर का कोई समदस्य जब यात्रा पर जाए, नौकरी-कारोबार के लिए प्रस्थान करे तो उसके जाने के तुरंत बाद झाड़ू नहीं लगानी चाहिए। माना जाता है कि इससे उस सदस्य के मार्ग में बाधाएं आती हैं।

7. झाड़ू को भूमि के समांतर रखनी चाहिए। खड़ी झाड़ू रखना शुभ नहीं माना गया है। कहते हैं कि इससे परिवार में समस्याएं आने लगती हैं। भूमि के समांतर रखी झाड़ू घर में सुख-शांति का प्रतीक मानी जाती है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply