Breaking News

अंग्रेजी में कमजोर हैं? कोई बात नहीं इन्हें आजमाएँ और फर्राटेदार बोलें

Hello MDS Android App

राजभाषा और राष्ट्रभाषा हिन्दी के प्रति हमारा कितना भी लगाव हो लेकिन इसमें कोई दो राय नहीं कि अंग्रेजी आज भी भारत में सबसे ज्यादा महत्व रखने वाली भाषा है। भले ही हिंदी या अन्य क्षेत्रीय भाषाएँ जानने वालों के लिए कॅरियर अवसरों की कमी नहीं है लेकिन यदि आप आकर्षक कॅरियर और वह भी विदेश में नौकरी चाहते हैं तो आपको अंग्रेजी का ज्ञान होना बहुत जरूरी है। भारत में प्राथमिक शिक्षा के स्तर पर पहले की अपेक्षा बहुत सुधार हुआ है और अब सरकारी स्कूलों में भी नर्सरी कक्षा से ही अंग्रेजी पढ़ाई जाने लगी है लेकिन फिर भी अधिकतर भारतीय अंग्रेजी में कच्चे होने की वजह से हीन भावना से ग्रस्त रहते हैं।

आज गली-गली में ऐसे संस्थान खुल गये हैं जोकि आपको फर्राटेदार अंग्रेजी बोलना सिखाने के दावे करते हैं लेकिन जब आप वहां से कोर्स पूरा कर के निकलते हैं तो पाते हैं कि दावा झूठा निकला या जो वादे किये गये थे वह अधूरे रहे। आइए आपको कुछ ऐसे टिप्स बताते हैं जोकि आपको अंग्रेजी बोलना और लिखना सिखाने में बहुत काम आएंगे।
-यदि आप सप्ताह में एक बार एक घंटे के लिए अंग्रेजी सिखाने वाली क्लास में जा रहे हैं या घर पर ही सप्ताह में एकाध बार अंग्रेजी सिखाने वाली किताबें पढ़ रहे हैं तो भूल जाइए कि आपको अंग्रेजी आ जाएगी। यदि क्लास सप्ताह में एक ही बार है तो घर पर तो अभ्यास रोज किया ही जा सकता है। अभ्यास भले आधा घंटा करें लेकिन रोज करें।
-आपको सारी झिझक छोड़ कर रोजाना बोलचाल में अंग्रेजी के शब्दों का इस्तेमाल करना होगा। वाक्य भी भले टूटे फूटे बनें लेकिन बनाइए।
-किसी दोस्त की मदद ले सकते हैं जोकि आपसे अंग्रेजी में ही बात करे। वह आपकी गलतियां सुधारने में आपकी मदद करेगा।
-आप सिर्फ अंग्रेजी में बोलने की कोशिश ही मत करिये बल्कि सोचिये भी अंग्रेजी में। मन ही मन किसी घटना या किसी के बारे में मन ही मन में अंग्रेजी में व्याख्या करते रहने की आदत डालें।
-यूट्यूब पर बेफिजूल के वीडियो देखने की बजाय अंग्रेजी सिखाने वाले वीडियो या फिर अंग्रेजी की फिल्में अथवा टीवी शो जितना देखेंगे आपकी शब्दावली का आकार और बड़ा होता जायेगा।
-अंग्रेजी के न्यूज पेपर और पत्रिकाएं पढ़ें। यदि अंग्रेजी के किसी समाचार पत्र को प्रकाशित करने वाली कंपनी का हिंदी संस्करण भी आता है तो उसे भी खरीदें। मसलन यदि आप टाइम्स आफ इंडिया ले रहे हैं तो नवभारत टाइम्स भी ले लें। दोनों समाचार पत्रों में अधिकांश खबरें समान होंगी ऐसे में जो खबर आपको अंग्रेजी में समझ नहीं आये उसे आप हिंदी में पढ़ने के बाद जब दोबारा अंग्रेजी के समाचार पत्र में पढ़ेंगे तो आपकी मुश्किल हल हो जायेगी।
-अंग्रेजी गाने सुनें और गीत की पंक्तियां दोहरायें।
-अंग्रेजी के कामिक्स और बच्चों की स्कूलों की पुस्तकें पढ़ें। इसमें सरल अंग्रेजी होती है जोकि शुरुआत में आपके लिए मददगार साबित होगी।
-डरें या घबरायें नहीं जो भी मिले उससे अंग्रेजी में बोलने का प्रयास करें। जितना ज्यादा आप अंग्रेजी में बोलने की कोशिश करेंगे उतना जल्दी आप इस भाषा को सीखेंगे और आपके मन में जल्दी ही सही शब्द आते रहेंगे।
-अपने लिये एक स्टडी प्लान बना लें और उस पर पूरी तरह अमल करें। अपने मित्रों या घर वालों से कह दें कि सिर्फ अंग्रेजी में ही बात करनी है। ऐसे में जब सभी अंग्रेजी में ही बोलने का प्रयास करेंगे तो राहें जल्द ही आसान होती चली जाएंगी।
-अंग्रेजी सीखने के लिए समय निर्धारित करें और उस लक्ष्य को पूरा करने में जुट जाएं। समय-समय पर खुद की परीक्षा भी ले सकते हैं ताकि आपको पता चले कि आप कितना सीख पाये हैं।
-अंग्रेजी कार सीखने की तरह है जिसे आप किताब में नहीं सीख सकते इसे जितना बोलेंगे उतना सीखेंगे।
-अंग्रेजी ऑडियो चलाएं और समझें कि आपको डिक्टेशन दी जा रही है, इस तरह जो भी शब्द ऑडियो में आते जा रहे हैं उसे लिखते चले जाएं।
-मित्रों या सहकर्मियों के साथ किसी विषय पर अंग्रेजी में ही चर्चा करें और अपना मत रखें।
-आम बोलचाल की अंग्रेजी पाठ्य पुस्तक की अंग्रेजी जैसी नहीं होती इसलिए घबरायें नहीं आप जो भी बोलें आत्म विश्वास के साथ बोलें।
-ऑनलाइन अंग्रेजी सिखाने के लिए वैसे तो कई मंच मौजूद हैं लेकिन आप BBC Learning English की वेबसाइट learnenglish.ecenglish.com पर जाएं।
-व्याकरण पर ज्यादा ध्यान नहीं दें। पहले इस भाषा को आम बोलचाल में लाएं और जब आपको लगने लगे कि आपका स्तर थोड़ा उठ गया है तब व्याकरण की ओर ध्यान देने की जरूरत है।
-आजकल कई टॉकिंग एप्स भी उपलब्ध हैं इसे फोन में इंस्टॉल कर उससे अंग्रेजी में बात करें।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *