Breaking News

अगले तीन माह में पूरा होगा किसान शॉपिंग मॉल!

Photo Credit To Demo Pic

  • फ्लैग- कृषि उपकरण, खाद-बीज एक ही स्थान पर दिलाने का दावा
  • ऑनलाइन रिपोर्ट, होटल व अन्य सुविधा भी मिलेगी
  • पुरानी कृषि मंडी में बन रहे मॉल की छत का कार्य पूरा
  • अब प्लास्टर, लाइटिंग और फिनिशिंग के काम बाकी
  • मॉल के तल मंजिल में दुकानें तैयार अब प्लास्टर और अन्य कार्य बाकी।
  • किसान शापिंग माल में ग्राउंड फ्लोर की दुकानों पर भी छत डाल दी गई है।
  • मॉल के पिछले हिस्से में इस तरह दुकानें बनकर हो रही हैं तैयार।

मंदसौर। कृषि उपज मंडी समिति द्वारा गोल चौराहा क्षेत्र में स्थित पुरानी कृषि मंडी में बनाया जा रहा किसान शॉपिंग मॉल तीन माह में पूरा करने का दावा अधिकारी कर रहे हैं। यहां कृषि उपकरण, खाद-बीज एक ही स्थान पर दिलाने की बात भी कही जा रही है। भवन अब काफी कुछ बनकर तैयार भी हो गया है। यहां प्लास्टर, लाइटिंग व फिनिशिंग के काम बाकी रह गए हैं। इधर मंडी समिति ने भी अब दुकानों की नीलामी की तैयारी कर ली है। इस मॉल के दूसरे चरण में ऑनलाइन तकनीकी जानकारी, होटल व अन्य सुविधाएं भी किसानों को मिलेंगी।

गोल चौराहे स्थित पुरानी कृषि उपज मंडी में 1287.23 लाख रुपए में किसान शॉपिंग मॉल तैयार हो रहा है। कृषि उपज मंडी समिति द्वारा बनाए जा रहे इस भवन की छत एवं आरसीसी का कार्य पूरा हो चुका है। लाइट और फिनिशिंग का कार्य चल रहा है, जो तीन माह में पूरा हो जाएगा। हालांकि अभी बताया तो यह जा रहा है कि इसमें खेती के कार्यों में उपयोगी हर एक सामान की दुकानें ही लगेंगी। यहां खाद-बीज, दवाइयां, कृषि उपकरण, विद्युत, डीजल पम्प, पाइप सब एक ही जगह पर मिल सकेगा। मॉल की छत और आरसीसी का कार्य पूरा हो चुका है। मंडी प्रशासन ने दुकान नीलामी की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। 29 दिसंबर को दुकानें नीलामी करने की योजना है। दुकानों की नीलामी से मिलने वाली राशि से पहली मंजिल पर निर्माण कार्य शुरू होगा।

 

इंदौर के बाद दूसरे नंबर पर है मंदसौर मंडी

मंडी सचिव के मुताबिक पिछले वित्तीय वर्ष में राजस्व एकत्र करने के मामले में इंदौर के बाद मंदसौर मंडी दूसरे स्थान पर रही है। मंडी को इस बार प्रथम लाने के प्रयास किए जा रहे हैं। किसान शॉपिंग मॉल प्रोजेक्ट में मॉल के नीचे वाले हिस्से में लगभग 50 दुकानें बनकर तैयार हो चुकी हैं, जिन पर प्लॉस्टर और लाइटिंग कार्य के साथ फिनिशिंग कार्य किया जाना है। इसके साथ ही यहां पर किसानों की समस्या के समाधान के लिए विशेषज्ञों की कृषि से संबंधित सलाह भी मिल सकेगी।

किसान शॉपिंग मॉल में किसानों को खरीददारी का प्लेटफार्म मिलेगा। निचले हिस्से में 50 दुकानें व पिछले हिस्से में 10 दुकानें बनकर तैयार हो चुकी हैं। नीचे तलघर में पार्किंग स्थल के साथ अन्य सुविधाओं को भी विस्तारित किया जाएगा। दूसरी मंजिल पर किसानों को हाइटेक मॉल संस्कृति से जोड़ने का प्लॉन है।

 

नई मंडी के किसान बाजार में लग रही हैं दूसरी दुकानें

मंडी समिति किसान शॉपिंग मॉल में केवल किसानों से संबंधित ही सामग्री मिलने की बात कर रहे हैं। जबकि अगर हम नई मंडी में बने किसान बाजार की स्थिति देखें तो मंडी समिति की मंशा ठीक नहीं लगती है। नई मंडी के किसान बाजार में अधिकांश दुकानें ऐसी लगी हैं, जिनमें खेती से संबंधित सामान नहीं मिल रहा है।

– 1287.23 लाख की लागत से किसान शॉपिंग मॉल तैयार किया जा रहा है। निर्माण कार्य प्रगति पर है दूसरे चरण में छत और प्लॉस्टर का कार्य पूर्ण हो चुका है। लाइटिंग और फिनिशिंग का काम तीन माह में पूरा हो जाएगा। दुकानों की नीलामी का कार्य भी पूरा किया जा रहा। दुकानों की नीलामी के टेंडर भी जारी हो चुके हैं। 29 दिसंबर को दुकानों की नीलामी करेंगे। आरसीसी का कार्य पूर्ण हो चुका है। अब लाइट फीटिंग और अन्य कार्य करने हैं जो जल्द ही पूर्ण हो जाएंगे। -कमलेश यादव, सहायक यंत्री, कृषि उपज मंडी

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts