Breaking News

अगले महीने से 100 यूनिट पर 100 रुपए आएगा बिजली बिल : इंदिरा गृह ज्योति योजना (IGJY)

  • 1500 के बिल पर सरकार देगी 472 रुपए सब्सिडी
  • फर्जीवाड़े के बाद सरल योजना (संबल) खत्म

भोपाल। प्रदेश की नई कांग्रेस सरकार ने अपना एक और वचन पूरा कर दिया है। कमलनाथ  सरकार ने इंदिरा गृह ज्योति योजना लागू कर दी है। इसका फायदा बिजली उपभोक्ताओं को मार्च माह से मिलना शुरू हो जाएगा। इसका सीधा फायदा उपभोक्ताओं को होगा। यदि आपके घर में एक महीने में 100 यूनिट बिजली की खपत है तो इसका बिल भी 100 रूपए ही आएगा। इस योजना का लाभ प्रदेश के प्रत्येक बिजली उपभोक्ता को मिलेगा।

मध्य प्रदेश सरकार ने सभी नागरिकों के लिए इंदिरा गृह ज्योति योजना (IGJY) 2019 शुरू की है | इस IGJY योजना के तहत, सभी घरों में 100/- रुपये में 100 यूनिट बिजली प्रदान की जाएगी | यदि परिवार एक महीने में 100 से अधिक यूनिट का उपभोग करता है, तो उन्हें मौजूदा दर पर पूरी खपत के लिए भुगतान करना होगा |

मध्य प्रदेश इंदिरा गृह ज्योति योजना (IGJY) 2019 को राज्य स्तर पर लागू करने के लिए सरकार लगभग 2,226 करोड़ रुपये खर्च करेगी | इंदिरा गृह ज्योति योजना (IGJY) के अलावा मध्य प्रदेश सरकार ने युवा स्वाभिमान योजना (Yuva Swabhiman Yojana) भी शुरू की है |

मध्य प्रदेश युवा स्वाभिमान योजना (Yuva Swabhiman Yojana) के तहत, सभी शहरी बेरोजगार युवाओं को 13,000/- रुपये प्रति माह की दर से साल में 100 दिन की गारंटी रोजगार प्रदान किया जाएगा | राज्य के 21 से 30 वर्ष की आयु के सभी युवा जिनकी वार्षिक पारिवारिक आय लाख रुपये से कम है वे पात्र होंगे | इस योजना के तहत लगभग 62 लाख लाभार्थी शामिल होंगे |

इंदिरा गृह ज्योति योजना (IGJY) का मुख्य उद्देश्य राज्य के नागरिकों को विशेष रूप से गरीब परिवारों से संबंधित नागरिकों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है |

विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने अपने घोषणा पत्र(वचन पत्र) में बिजली बिल कम करने का वादा प्रदेश की जनता से किया था। लोकसभा चुनाव की घोषणा से पहले सरकार ने  इंदिरा गृह ज्योति योजना लागू करके जनता को बड़ी राहत दी है। गर्मी के मौसम से ठीक पहले अमल में लाई जा रही इस योजना से इस दौरान आने वाले भारी-भरकम बिल से भी राहत मिलेगी। मार्च महीने में उपभोक्ताओं को जो बिल मिलेंगे उनमें 472.93 रुपए कम हो जाएंगे और ग्रामीण उपभोक्ता के बिल में 447.93 रुपए कम होंगे।

इंदिरा गृह ज्योति योजना से जुडी मुख्य बातें:-

मध्यप्रदेश की कैबिनेट समिति ने राज्य में सभी परिवारों को सब्सिडी वाली बिजली प्रदान करने के लिए इंदिरा गृह ज्योति योजना (IGJY) को मंजूरी दी है | सभी उपभोक्ता परिवार जिनकी हर महीने बिजली की खपत 100 यूनिट से कम होगी उन्हें सिर्फ 100/- रुपये का भुगतान करना होगा |

इंदिरा गृह ज्योति योजना (IGJY) मप्र के सभी सामान्य बिजली उपभोक्ताओं के लिए है जो समाज के सभी वर्गों के लिए लागू होगी | मध्यप्रदेश इंदिरा गृह ज्योति योजना (IGJY) बढ़ते बिजली बिलों के बोझ को कम करने के लिए लागू की जा रही है | इंदिरा गृह ज्योति योजना लोगों को बिजली बचाने के लिए भी प्रोत्साहित करेगी और इस प्रकार बिजली की खपत भी कम करने में भी मदद मिलेगी |

इंदिरा गृह ज्योति योजना के लिए पात्रता मानदंड:-

  • इंदिरा गृह ज्योति योजना (IGJY) केवल मध्य प्रदेश के नागरिकों के लिए लागू है |
  • सभी सामान्य बिजली उपभोक्ता जो हर महीने 100 यूनिट से कम खपत करते हैं योजना के तहत पात्र होंगे |
  • पिछली सरल योजना और संभल योजना (Sambhal Yojana) के सभी लाभार्थी योजना के तहत पात्र होंगे |

इंदिरा गृह ज्योति योजना के लाभ:-

इंदिरा गृह ज्योति योजना (IGJY) का सबसे महत्वपूर्ण लाभ छोटे परिवारों के लिए है जो बिजली की कम खपत करते हैं | इन परिवारों को अब 100 से कम यूनिट खपत के लिए केवल 100 रुपये का मासिक बिजली बिल का भुगतान करना होगा | यदि बिजली की खपत 100 यूनिट से अधिक होती है, तो उपभोक्ता को मौजूदा मानक दरों पर पूर्ण बिजली बिल का भुगतान करना होगा | मध्य प्रदेश इंदिरा गृह ज्योति योजना (IGJY) 2019 को लागू करने के लिए सरकार लगभग 2,226 करोड़ रुपये खर्च करेगी |

ऐसे समझे गणित: अगर किसी उपभोक्ता बिल एक महीने में 1500 रुपए आता है तो उस उपभोक्ता को सिर्फ 1028 रुपए ही भरने होंगे। 472 रुपए सरकार सब्सिडी के रूप में जमा करेगी। पिछली कैबिनेट बैठक ने इंदिरा गृह ज्योति के तहत बिजली देने का प्रस्ताव पारित किया था। इसके बाद सरकार ने पिछले हफ्ते बिजली कंपनियों को आदेश जारी कर दिए हैं। आदेश मिलने के बाद विद्युत वितरण कंपनियां अपना बिलिंग सॉफ्टवेयर अपडेट करा रही हैं। ये काम 25 फरवरी तक पूरा हो जाएगा।

 

सरल योजना (संबल) खत्म: भाजपा सरकार ने मजदूरों को 200 रुपए प्रति महीना के हिसाब से बिजली देने के लिए सरल (संबल) योजना लागू की थी। इस योजना में सबसे ज्यादा फर्जीवाड़ा हुआ था। अपात्र लोगों ने नगर निगम से मजदूरी कार्ड बनवाकर सरल का लाभ ले लिया था। संबल में जला रहे थे 1 हजार यूनिट तक बिजली, रुपए दे रहे थे 200। एक-एक हजार यूनिट तक बिजली खपत कर रहे थे। सिर्फ उन्हें 200 रुपए का बिल जारी हो रहा था। सरल को इंदिरा गृह ज्योति योजना में समाहित कर दिया है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts