Breaking News

अग्रवाल की शिकायत पर मंदसौर कलेक्टर रहते धन के दुरूपयोग मामलें मे फंसे पूर्व कलेक्टर स्वतंत्रकुमार सिंह

नियमोंकी अनदेखी कर बनवाई सड़के : लोकायुक्त ने प्रकरण दर्ज कर शुरु की जांच

मंदसौर। मंदसौर गोलीकाण्ड के मामलें में कलेक्टरी गवाने के बाद निलंबित चल रहे आई एएस स्वतंत्रकुमार सिंह अभी तक इस मामलें में बहाल नही हो पाए है और अब मंदसौर जिलें के दुधाखेड़ी माताजी मंदिर में चहेतो को उपकृत कर मंदिर कोष से ज्यादा राशि खर्च किए जाने के मामलें में उलझ गए है। इस पूरे मामलें की शिकायत सामाजिक कार्यकर्ता एवं पत्रकार जगदीश अग्रवाल गरोठ ने की थी। लोकायुक्त को मिली शिकायत के बाद इस  मामलें में तात्कालिक कलेक्टर स्वतंत्र कुमार सिंह के खिलाफ प्रकरण क्रमांक जा.प्र 1118/17  दर्ज कर लिया है जिसके बाद संयुक्त संचालक लोकायुक्त उमेश टिड़के ने आयुक्त उज्जैन संभाग को पत्र लिखा जिसमें  उन्होने प्रकरण दर्ज करने की जानकारी देते हुए शिकायत में उल्लेखित तथ्यों के संबंध में 23 अप्रेल 2018 तक जांच प्रतिवेदन देने के लिये कहा है।

सामाजिक कार्यकर्ता एवं पत्रकार जगदीश अग्रवाल गरोठ ने बताया कि दूधाखेड़ी माताजी मंदिर में मंदिर के कोष  में मोजुद 14 करोड़ की अपेक्षा 34 करोड़ 18 लाख रू. से सड़क, हाईमास्क, फिजियोथैरेपी सेन्टर के निर्माण कराने के मामलें में शिकायत के बाद लोकायुक्त पुलिस ने तात्कालिक कलेक्टर स्वतंत्रकुमार सिंह के खिलाफ अभियोजन की स्वीकृति मांगी थी। अनुमति मिलते ही लोकायुक्त ने इस मामले में तात्कालिक  कलेक्टर के खिलाफ प्रकरण  दर्ज कर आगे की कार्यवाही प्रारंभ कर दी।

अग्रवाल ने बताया कि शासन स्तर के जो भी निर्माण कार्य होते है उनमें लोक निर्माण विभाग, नगर पंचायत, आरई एस या अन्य कोई सरकारी एजेन्सी के माध्यम से टेण्डर बुलाएें जाते है लेकिन दुधाखेड़ी माताजी मंदिर के मामलें में तात्कालिक कलेक्टर ने अपने स्तर पर टेण्डर बुला लिए और काम शुरू करा दिया , जबकि मंदिर के कोष में केवल 14 करोड़ मौजुद थे बावजूद इसके चहेतो को उपकृत करने के लिए 34 करोड़ रूपए के काम करा दिए। जबकि इस तरह के निर्माण के लिए कमीश्नर स्तर से टेण्डर बुलाएें जाते है बावजुद इसके नियमों की अनदेखी कर निर्माण प्रारंभ कराया गया। उल्लेखनीय है कि इस मामलें में लोक निर्माण विभाग के तात्कालिक मुख्य कार्यपालन यंत्री एस.के. बंसल तथा प्रभारी अनुविभागीय अधिकारी लोकनिर्माण विभाग कमल जैन भी भागीदार है इनके खिलाफ भी मामलें में जांच चल रही है। जांच के दौरान और जो कोई भी दोषी पाया जायेगा उसके विरुध्द भी कार्यवाही की जाऐगी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts