Breaking News

अज्ञात महिला के शव की पहचान हुई : सेवा बैंक ने रामीबाई का हिन्दू रीति से अंतिम संस्कार किया

मन्दसौर। जीवित व्यक्ति की सेवा के तो अनेक प्रतिमान देखे जाते है लेकिन मरणोपरान्त पार्थिव शरीर का विधि विधान से अंतिम संस्कार करने की अद्भूत सेवा की मिसाल प्रस्तुत की है स्मृति सेवा एवं कल्याण समिति ने। सेवा बैंक के माध्यम से एक निराश्रित मृत महिला की पहचान कर हिन्दू रीति से उसका अंतिम संस्कार किया गया। उल्लेखनीय है कि दो दिन पहले नईआबादी क्षेत्र में एक अज्ञात महिला का शव देखा गया, देखने वालों ने पुलिस को सूचित किया, जब यह सूचना गणपति चौक में सामाजिक कार्यकर्ता व सेवा बैंक के अध्यक्ष सुनील बंसल को मिली तो उन्होनंे नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार से सम्पर्क किया। श्री बंधवार व श्री बंसल ने महिला की पहचान की, चूंकि यह महिला मानसिक रूप से विक्षिप्त थी व भिक्षावृत्ति करती थी, नईआबादी के अन्नक्षेत्र में भी कई बार भोजन करती थी इसका शव देखते ही इसे पहचान लिया गया। इसका नाम रामीबाई है। नियमानुसार अज्ञात शव की पहचान के लिये 24 घण्टे तक शव सुरक्षित रखा जाता है व कोई वारिस व पहचान नहीं मिलने पर शव को जमीन में गाढ़ दिया जाता है।

लेकिन इस अज्ञात महिला की पहचान एक हिन्दू महिला होने से सेवा बैंक द्वारा इसका हिन्दू रीति से अंतिम संस्कार करने का निर्णय लिया, नपाध्यक्ष श्री बंधवार व बंसल के प्रयासों से शव का पोस्टमार्टम होने के बाद पुलिस ने शव अंतिम संस्कार के लिये सेवा बैंक को सौंप दिया। टी.आई. विनोदसिंह कुशवाह व स्टॉफ की भूमिका सराहनीय रही।

मुक्तिधाम में रामीबाई का हिन्दू रीति से अंतिम संस्कार किया गया। मुखाग्नि सुनील बंसल ने दी। अंतिम संस्कार के समय नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार, जनकूपुरा के सामाजिक कार्यकर्ता ओम टांडी, औंकार टेलर तथा दिनेश तंवर आदि भी उपस्थित थे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts