Breaking News

अतिप्राचीन भगवान आदिनाथ की प्रतिमा चुराने का प्रयास

भानपुरा से 2 किलोमीटर दूर अरावली पहाडियो के समीप छोटा महादेव क्षेत्र में दिगम्बर जैन नसिया मंदिर में गतरात्रि को अज्ञात चोरों ने दीवार तोड़कर बहुमूल्य अतिप्राचीन भगवान आदिनाथ की प्रतिमा ले जाने का प्रयास किया। लेकिन चोर सफल नहीं हो सके। लगातार हो रही चोरियों को लेकर सकल जैन समाज मे भारी रोष व आक्रोश है। शुक्रवार को समाजजनों ने राज्यपाल के नाम एक ज्ञापन प्रभारी थानेदार ओएल बारिया को दिया। इसमे चोरो का पता लगाने व मंदिर पर स्थाई सुरक्षा व्यवस्था करने की मांग की गई। भानपुरा पुलिस ने दिगम्बर जैन समाज अध्यक्ष की रिपोर्ट पर धारा 457 में प्रकरण दर्ज कर जांच प्रारंभ की है।

14 सालो में 6 बार हुई चोरी

उल्लेखनीय है कि दिगम्बर जैन समाज का यह प्रमुख आस्था व श्रद्धा का केन्द्र है। यहां कई बहुमूल्य प्रतिमाएं स्थापित है। नगर से 2 किलोमीटर दूर होने के कारण व वन परिक्षेत्र मे होने से यह क्षेत्र रात्रि में वीरान रहता है। इसी का फायदा उठाकर मूर्ति चोर लगातार मूर्तिया चोरी का प्रयास कर रहे है। वर्ष 1994 से अब तक करीब 6 बार मंदिर में चोरी हो चुकी है या प्रतिमा ले जाने का प्रयास हुआ है। एक बार तो गैस कटर मशीन लाकर 1 टन वजनी लोहे के मुख्य दरवाजे को काटने का प्रयास किया गया। एक बार मुख्य प्रतिमा जो 2 टन से भी अधिक वजनी है, चोर नाले तक ले जाने में सफल रहे थे। स्थानीय मंदिर व्यवस्था समिति ने मंदिर की सुरक्षा के लिए लोहे के दरवाजे व मजबूत दीवारे बना रखी है, फिर भी चोर हर बार इनको भेदने में सफल हो जाते है। मुख्य प्रतिमा तो चोर आज तक नहीं ले जा सके, पर इन वारदातो में दानपेटी पूजा के बर्तन, अष्ठधातु की प्रतिमाएं व अन्य सामान चुरा ले जाने में सफल हुए है। पुलिस आज तक इन चोरो का पता नहीं लगा पाई है।

थाना प्रभारी का कहना…

थाना प्रभारी ओएल बारिया ने बताया कि चोरो ने मंदिर की दीवार तोडऩे का प्रयास किया पर दीवार बहुत चौड़ी और मजबूत होने के कारण पूरी नहीं टूट सकी। इस कारण चोर प्रतिमा ले जाने में नाकाम रहे। बारिया ने कहा कि लगातार मंदिर मे हो रही वारदातो को राकने के लिए मंदिर समिति व पुलिस संयुक्त रूप से सुरक्षा करेगी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts