Breaking News

अतिवृष्टि के कारण कॉलेज मैदान में होने वाले दशहरा उत्सव का आयोजन निरस्त

समिति की बैठक में सर्वानुमति से लिया निर्णय, रावण निर्माण की सामग्री आपदा प्रभावितों को दी जायेगी

मंदसौर । जिले में अतिवृष्टि और बाढ़ आपदा के मद्देनजर मंदसौर के कॉलेज मैदान में प्रतिवर्ष विजयादशमी पर्व पर आयोजित होने वाले दशहरा उत्सव के आयोजन को निरस्त कर दिया गया है। रावण के पुतले का 70 फिसदी निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका था लेकिन मंदसौर शहर में हो रही अनवरत बारीश के कारण कॉलेज मैदान पुरी तरह दल-दलनुमा हो गया ऐसे में वहां इतना वृहद आयोजन करना संभव नही हो पा रहा है क्योंकि परिस्थिति अनुकूल नही है और मानव सुरक्षा महत्वपूर्ण है इसी बात को लेकर सर्वानुमति से आज कुशाभाऊ ठाकरे ऑडिटोरियम में दशपुर उत्सव समिति की आहूत बैठक में निर्णय लिया गया। बैठक में मंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया, प्रदेश कांग्रेस  के महामंत्री मुकेश काला सहित बड़ी संख्या में नगर के गणमान्यजन उपस्थित थे।

बैठक में विधायक श्री सिसौदिया ने कहा कि अनवरत वर्षा के कारण समिति ने दशहरा उत्सव नही  मनाये जाने का  जो निर्णय लिया है वह प्रशंसनीय है। आज की परिस्थिति में कॉलेज मैदान में रावण का पुतला खडा भी नही हो पायेगा क्योंकि पुतले के खड़े करने हेतु जो तान लगाई जावेगी वह जमीन किचड़ से भरी है इसलिये तान भी नही लग पायेगी और कहीं न कहीं पुतला गिरने  की संभावना बन सकती है जिससे नुकसान हो सकता है  इसलिये आमजन की सुरक्षा के मद्देनजर समिति ने जो निर्णय लिया है वह उचित है।

प्रदेश कांग्रेस महामंत्री श्री काला ने कहा कि उत्सव के दौरान मैदान में विद्युत व्यवस्था भी करना पडेगी और बारीश के चलते विद्युत करंट भी फैलने का अंदेशा बना रहेगा इसलिये जनहित में समिति ने इस वर्ष आयोजन नही करने का निर्णय सराहनीय है।

दशपुर उत्सव समिति के नरेन्द्र अग्रवाल ने बैठक में8 अक्टूबर को विजयादशमी पर्व मनाये जाने के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि आमजन की भावना अनुरुप मंदसौर शहर में उत्सव बंद ना हो इसलिये बाढ़ आपदा के दौरान आयोजन में मितव्ययिता बरतते हुए इस वर्ष सिर्फ 71 फिट उंचे रावण के पुतले का निर्माण कार्य करवाया जा रहा था, रावण के पुतले का कार्य 70 फिसदी पूर्ण भी हो गया लेकिन लगातार वर्षा के कारण आयोजन स्थल कॉलेज मैदान की अनुकूल स्थिति नही है  इसलिये यह आयोजन निरस्त करना ही उचित होगा । श्री अग्रवाल ने कहा कि उत्सव बरकरार रहे इसलिये समिति कार्य कर रही थी लेकिन अब पॉच दिन शेष बचे और वर्तमान स्थिति मेंइतना वृहद आयोजन कॉलेज मैदान में होना अब संभव नही है।

बैठक में समाजसेवी नाहरु भाई, रखबचंद्र जैन, मण्डी व्यापारी नरेन्द्र जैन, छगनलाल पारिख, नितीन शिन्दे, संजय वर्मा, राजेश चौहान, शुभम जैन, नरेन्द्र धनोतिया, रईस खान, प्रहलाद डगवार, राजु सिंधी, जयवर्धन सहित उपस्थित अनेक गणमान्यजनों ने अपने-अपने सुझाव देते हुए सर्वानुमति से निर्णय लिया कि इस बार दशहरा उत्सव का आयोजन निरस्त किया जावे । रावण के पुतले का जो 70 फिसदी निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका है फतेहपुर सिकरी के कलाकारों को उनके निर्माण कार्य की राशी अदा की जावे और जो पुतले निर्माण मेंबांस बल्ली किमचिया लगी है वे बाढ़ आपदा से प्रभावित परिवारों में आवश्यकता अनुसार छप्पर और झोंपड़ी बनाने के लिये प्रदान की जावे । बैठक का संचालन प्रदीप भाटी ने किया आभार नरेन्द्र त्रिवेदी ने माना ।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts