Breaking News

अधिकमास में मंदिरोें में उमड़ रही है भक्तों की भीड़, समाजसेवी संस्थाएॅ कर रही है दर्शनार्थियों की सेवा

भगवान श्रीकृष्ण को प्रसन्न कर किए जा सकते है पापों के नाश

मंदसौर। नगर में इन दिनों अधिकमास को लेकर प्रमुख मंदिरों में भारी भीड़ उमड़ रही है। अधिकमास को पुण्य प्राप्त करने वाला मास कहा जाता है इसलिए हर कोई इस मास का पूरा लाभ उठाना चाहता है। अधिकमास आधे से ज्यादा बीत चुका है। और प्रतिदिन मंदिरों दर्शनार्थियों की भारी भीड़ उमड़ रही है। नगर के पशुपतिनाथ मंदिर, जीवागंज स्थित गोवर्धननाथ मंदिर, जगदीश मंदिर, जनता कॉलोनी स्थित सत्यनारायण भगवान मंदिर में भक्तों की विशेष भीड़ उमड़ रही है। 3 जनू को रविवार होने से इन मंदिरों में भक्तों की भीड़ दुगुनी हो गई।

उल्लेखनीय हैं कि इस वर्ष हिंदू पंचांग के अनुसार दो ज्येष्ठ माह है और इसकी विशेषता यह हैं कि अंग्रेजी कैलेंडर के हिसाब से साल के 365 दिन में ही यह तिथियां भी शामिल होंगी।

13 जून को पूर्ण होगा अधिकमास
अधिकमास को पुरूषोत्तम मास भी कहा जाता है इस बार 16 मई को प्रारंभ हुआ अधिकमास 13 जून को समाप्त होगा। जानकारों के अनुसार जिस चंद्र मास में सूर्य संक्राति नहीं होती, वह अधिक मास कहलाता है और जिस चंद्र मास में दो संक्रांतियों का संक्रमण हो रहा हो उसे क्षय मास कहते हैं।

पूजा अर्चना के साथ करते है सात्विक भोजन
अधिकमास में भक्तगण पुरुष हो या महिला वे पूरे माह व्रत करते है। सात्विक भोजन ग्रहण किया जाता है। भगवान पुरुषोत्तम यानि श्रीकृष्ण या विष्णु भगवान की श्रद्धापूर्वक पूजन पूजा अर्चना कि जाती है। अधिक मास की समाप्ति पर स्नान, दान, जप आदि का अत्यधिक महत्व होता है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts