Breaking News

अनिल सोनी हत्याकांड का का हुआ खुलासा : चार साथी गिरफ्तार

  • मुख्य आरोपी चुन्नु लाल अभी भी फरार, चार साथी गिरफ्तार
  • हत्या के पीछे लेनदेन व सोशल मीडिया की लड़ाई बताई पुलिस ने
  • एसपी ने पत्रकार वार्ता कर किया हत्याकांड का खुलासा

मंदसौर। पिछले महीने 10 अप्रैल 2019 को नगर के सर्राफा व प्रापर्टी व्यवसायी अनिल सोनी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी जिसके बाद से ही पुलिस हत्यारों को ढूृंढने में लगी थी। गुरूवार को एसपी विवेक अग्रवाल ने प्रेस वार्ता कर हत्याकांड का खुलासा किया हालांकि मुख्य आरोपी चुन्नु उर्फ इमरान खान अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है। मामले मे पुलिस ने मुख्य आरोपी चुन्नु लाला के चार साथी अरशद पिता सद्दीक पठान उम्र 22 वर्ष, सद्दाम पिता शहजाद उम्र 25 वर्ष, सुनील पिता मोहनलाल मालवीय उम्र 27 वर्ष, पुलकित शर्मा पित विश्वत शर्मा उम्र 23 वर्ष को गिरफ्तार किया है।

प्रेस वार्ता में एसपी श्री अग्रवाल ने बताया कि मृतक अनिल सोनी हत्या वाले दिन अपने घर के बाहर टहल रहा था कि मुख्य आरोपी चुन्नु लाला एक और अन्य आरोपी के साथ बाईक पर सवार होकर आया और अनिल सोनी को गोली मारकर फरार हो गये। घटना के बाद पुलिस ने 263/19 धारा 302, 120-बी, 34 भादवि का प्रकरण पंजीबद्ध किया था। एसपी ने बताया की घटना में कुल 6 लोग सम्मिलित होना विवेचना में पाए गए है। मुख्य आरोपी चुन्नु लाला के अलावा पांच अन्य आरोपियों ने घटना को अंजाम दिया है। जिसमें चार को गिरफ्तार किया जा चुका है एक अन्य हनीफ नाम के व्यक्ति की तलाश जारी है। एसपी ने बताया कि देश भर के कुल 41 स्थानों पर मामले को लेकर दबिशें दी गई थी। जिसमें मुख्य रूप से मप्र, राजस्थान, महाराष्ट्र और साउथ इंडिया के क्षेत्र शामिल है।

सभी ने निभाया अलग अलग रोल
मामले मेें अभी तक जिन चार लोगों को पुलिस ने उठाया है। उन चारों ने अलग अलग भूमिका निभाकर घटना को अंजाम दिया है। घटना मे प्रयुक्त बाईक पुलकित शर्मा की है जिसे अरशाद चला रहा था वहीं घटना के समय में एक कार फोर्ड फीगो से लगातार रैकी जा रही थी उसे सुनिल मालवीय चला रहा था वहीं सभी घटना में सद्दाम सहायक की भूमिका में था। एसपी ने बताया कि सभी ने पैसे लेकर चुन्नु के लिए काम किया। कम उम्र में महंगे शोक पालने के चक्कर में चारों युवा चुन्नु के लिए काम करने लगे थे। पुलिस ने अरशाद के पास से 30 हजार रूपये जब्त भी किए है।

पैसों का लेन देन और महंगे शोक के कारण चार युवा शरिक
प्रेस वार्ता में एसपी ने बताया कि अनिल सोनी की हत्या के पीछे मुख्य कारण पैसों का लेन देन और सोशन मीडिया पर होने वाली लड़ाई को बताया है। एसपी ने बताया कि चुन्नु के सहयोगी पुलकित शर्मा ने शिखा बजाज के नाम से फेसबुक पर आईडी बनाई हुई थी जिस पर मृतक अनिल सोनी को लेकर बार बार आपत्तिजनक पोस्ट डाली जाती थी। वहीं अनिल सोनी का एक व्यापारी से लेन देन था जिसमें थर्ड पार्टी के रूप में चुन्नु लाला बीच में आया और तभी से ही दोनों के बीच विवाद होने लगे थे। उल्लेखनीय हैं कि फर्जी फेसबुक आईडी शिखा बजाज को लेकर अनिल सोनी ने एक आवेदन शहर कोतवाली में भी दिया था।

यह सामान हुआ जब्त
पुलिस को अभी तक घटना में प्रयुक्त यामाह एफजेड बाईक, सफेद रंग की फोर्ड फीगो कार और एक मोबाईल फोन आरोपियों से जब्त किया है। हत्याकांड में इस्तेमाल की गई पिस्टल अभी पुलिस नहीं पकड़ सकी है। वहीं संभावना जताई जा रही हैं कि मुख्य आरोपी चुन्नु के गिरफ्तार होने बाद पिस्टल भी बरामद कर ली जाएगी और कई खुलासे भी हो सकते है।

चुन्नु से जान का खतरा बता चुका था मृतक सोनी
चुन्नु लाला और अनिल सोनी के बीच लड़ाई पिछले दो वर्ष से चल रही थी। फिरौती मांगने से प्रारंभ हुई लाला पठानों से अनिल सोनी की लडाई गोली चलने तक की घटनाओं तक चलती रही। मृतक अनिल सोनी शपथ पत्र देकर पुलिस के सामने गुहार लगा चुका था कि उसकी जान को चुन्नु लाला से खतरा है।

आरोपी 13 मई तक रिमांड पर
पुलिस थाना शहर टीआई नरेन्द्रसिंह यादव द्वारा चारों आरोपियों को गुरूवार को ही मजिस्ट्रेट श्री संतोष कुमार जी चौहान के न्यायालय में पेश किया गया। जहां से चारों आरोपियों को 13 मई तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts