Breaking News

अन्तर्राष्ट्रीय मई दिवस मनाया गया

श्रम संगठनों ने गांधी चौराहा पर प्रदर्शन किया व नारे बाजी की

मन्दसौर। नगर के श्रम संगठनों ने अन्तर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस पर गांधी चौराहा पर एकत्रित होकर श्रमिक दिवस मनाया व मई दिवस के शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। प्रदर्शन को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि अन्याय व अत्याचार के विरोध में कई श्रमिकों ने बलिदान देकर मजदूरों के अधिकारों के लिये संघर्ष किया, आज उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए अपने अधिकारों के लिये जागरूक रहने का आव्हान किया।

वक्ताओं ने कहा कि देश के नवनिर्माण में र02त श्रमिकों का शोषण हो रहा है। श्रम का उचित मूल्य नहीं मिल रहा है। दैनिक वेतन भोगी कर्मियों को शासकीय दर पर भुगतान नहीं किया जा रहा है। श्रमिकांे को उचित पारिश्रमिक व काम करने के लिये उचित वातावरण मिले। समान काम के लिये समान वेतन मिले। बाल श्रम पर शक्ति से रोक लगे।

नियमित प्रकृति के कार्यों में आउट सोर्सिंग की जा रही है। ठेकेदारी प्रथा में ठेकेदारों द्वारा मजदूरों का शोषण किया जा रहा है।  बैंक यूनियन एआयबीईए ने मई दिवस को एंटी आउट सोर्सिंग डे मनाने का निर्णय लिया है। खतरनाक किस्म के कामों में लगे श्रमिकों को दुर्घटना पर उचित मुआवजा, आर्थिक सुरक्षा के काम का सुरक्षित माहौल उपलब्ध कराया जावे।

वक्ताओं ने यह भी कहा कि अंग्रेजों के शासन काल में जो श्रम कानून श्रमिकां के हितों के लिये बनाये गये थे, आज उनमें अनावश्यक फेर बदल कर समाप्त कर मालिकों के पक्ष में परिवर्तन किये जा रहे है, जो सरासर मजदूर वर्ग के साथ अन्याय है। ये कानून में बदलाव श्रमिकों के शोषण में सहायक सिद्ध रहे है। ऐसे बदलाव वापस लिये जावे।

सार्वजनिक क्षेत्र की संस्थाओं में निजीकरण की नीतियां लाकर एक ओर रोजगार के अवसर समाप्त किये जा रहे है, दूसरी ओर निजीकरण के कारण कई श्रमिक बेरोजगार हो गये या उनका शोषण हो रहा है। आम बेरोजगारी की वृद्धि दर सर्वाधिक है, जो श्रमिकों एवं अर्थव्यवस्था दोनों के लिये चिन्ताजनक है।

ट्रेड यूनियनों पर हमले किये जा रहे है। इन्हें कानून के द्वारा कमजोर करने की कोशिशे की जा रही है, जो बंद की जाना चाहिए। वक्ताओं ने मांग की है कि श्रमिकों को उचित रोजगार, उचित पारिश्रमिक, काम का उचित माहौल, सुरक्षा मिले, ऐसे सख्त कानून बनाये जावे।

प्रदर्शन को गोपालकृष्ण मोड़, महेश मिश्रा, विक्रम विद्यार्थी, दशरथसिंह चन्द्रावत, आर.सी. जैन, अनिल जैन, त्रिदेव पाटीदार, मुन्नालाल चंदेल, एहमद हुसैन, एस.एन भावसार, नन्दकिशोर शर्मा, दिनेश चंदवानी, सुरेन्द्र संघवी, एस.आर. शास्ता, डॉ. मण्डलोई, संगीता जैन, आदि ने संबोधित किया।

इस अवसर पर सौभाग्यमल जैन, विरेन्द्र भावसार, अश्विनी राय, यमन तिवारी, दीपक परमार, हितेन्द्र परमार, अमिताभ गौड़, गनी मोहम्मद, जगदीश राठौर, बालुसिंह, अजय उठवाल, राम मीणा, महेश धनोतिया, संदीप मुजावदिया, उपेन्द्र राय, कौशल आर्य, आशीष तेलगर, मक्खनलाल मीणा आदि उपस्थित थे। संचालन जिनेन्द्र राठौर ने किया एवं आभार अजीत बंडी ने माना।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts