Breaking News

अफीम उत्पादक किसानों की समस्याओं को लेकर किया नारकोटिक्स कार्यालय का घेराव

परशुराम सिसौदिया ने दिखाया दम, एक दिन पहले कांग्रेस नेता जोकचंद द्वारा किया प्रदर्शन रहा था फीका

मंदसौर। केंद्र सरकार की नई अफीम नीति से अफीम उत्पादक किसानों को भारी आक्रोश हे मंगलवार को जिला एवं ब्लॉक कांग्रेस कमेटियों की अगुवाई में कांग्रेस नेता परशुराम सिसोदिया के नेतृत्व में जिला अफीम कार्यालय के बाहर धरना देकर घेराव किया गया। जब किसानों द्वारा बताया गया कि विभाग में हो रहे भष्ट्राचार की बात से डिप्टी कमिश्नर को बताई तो उन्होंने यह कह दिया कि किसान पैसा देता क्यो है इस बात पर विधायक डंग व सिसोदिया ने आपत्ति लेकर डिप्टी कमिश्नर रजवानीया से कहा सुनी हो गई। कार्यालय के बाहर ही जमीन पर बैठकर विरोध करने लगे 20 मिनिट तक अधिकारी के खिलाफ जमकर नारे बाजी हुई बाद में जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाश रातडि़या के हस्तक्षेप के बाद बात बिगड़ती देख डिप्टी कमिश्नर रजवानिया ने सार्वजनिक रूप से सभी से माफी मांग कर रिश्वत मांगने वाले अधिकारियों को चिन्हित कर कार्यवाही की बात कही तब जाकर आक्रोशित नेता व किसान शांत हुए।

धरने को संबोधित करते हुए सुवासरा क्षेत्र के विधायक हरदीप डग ने कहा कि केंद्र की भारतीय जनता पार्टी की सरकार किसान विरोधी है वह धीरे-धीरे किसानों से अफीम की खेती को बंद करना चाहती है 5 से 6 आरी के पट्टे देने का यह एक षड्यंत्र है।

कांग्रेस नेता परशुराम सिसोदिया ने कहा कि पार्टी हमेशा किसान गरीब मजदूर की बात करती है नई अफीम नीति से किसानों के साथ ही कांग्रेस भी आक्रोशित हैं आज तक के इतिहास में कभी अफीम उत्पादक किसान 5-6 आरी के पट्टे नहीं मिले लेकिन मोदी सरकार अफीम नीति ऐसी बना रही है धीरे-धीरे या खेती बंद हो जाए कांग्रेस यह लड़ाई यहां तो ठीक है पर दिल्ली तक लड़ेगी किसानों को अभी तो यह भी पता नही मार्फिन क्या होती है इसलिये अफीम की गाढ़ता के आधार पर ही पट्टे दिए है यहां से भाजपा जीती उनका भी धर्म है किसानों की बात रखे लेकिन सांसद सुधीर गुप्ता लापता है।

इस अवसर पर जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाश रातडिया, पूर्व विधायक नरेंद्र नाहटा, नवकृष्ण पाटिल, राजेंद्र सिंह गौतम, सोमिल नाहटा, नगर पालिका अध्यक्ष हनीफ शेख , महेंद्रसिंह गुर्जर आदि ने धरने को संबोधित किया। ज्ञापन का वाचन मल्हारगढ़ ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष अनिल शर्मा ने किया धरने के सफल संचालन धुंधडका ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष किशोर गोयल ने किया। आभार जिला युवक कांग्रेस के कार्यवाहक अध्यक्ष संदीप सिंह राठौर ने माना।

उल्लेखनीय हैं कि 14 अक्टूबर को कांग्रेस नेता श्यामलाल जोकचंद ने भी नई अफीम नीति को लेकर अपने कार्यकर्ताओं के साथ नारकोटिक्स कार्यालय का घेराव किया था लेकिन 15 अक्टूबर के घेराव ने जोकचंद के आयोजन को फैल कर दिया।

 

कांग्रेेस की अफीम किसानों के पक्ष में मांग

1. अफीम के पट्टे की पात्रता मार्फिन के आधार पर ना होकर गाढ़ता के आधार पर पुराने पद्धति लागू पर पट्टे दिए।

2. वर्ष 1997- 98 से अफीम घटिया बताकर वह विभिन्न कारणों से जैसे प्राकृतिक आपदा विभिन्न गलतियां आदि के कारण काटे गए लाइसेंस बहाल किया जाए।
3. पट्टा नामांतरण की प्रक्रिया को सरल सहज व स्पष्ट पारदर्शिता रखी जाए।

4. अफीम का मूल्य वर्तमान में नाम मात्र का दिया जा रहा है। इसका मूल्य अंतरराष्ट्रीय मूल्य के हिसाब से भुगतान किया जाए।

5. वर्तमान में नई नीति अनुसार किसानों को मात्र 5-6 आरी के पट्टे दिए जा रहे हैं।जो एक मजाक बन गया है सभी किसानों को दस आरी से कम के पट्टे नहीं दीये जाए।

6. अफीम नीति बनाते समय किसानों की एक समिति बनाकर उसके सुझाव को अमल में लाया जाए ताकि किसानों को इसका फायदा मिले एवं सही नीति का निर्धारण हो सके।

7. सन 1999 2003 टक्के सस्पेक्ट लाइसेंस प्राप्त अफीम पर घटिया प्लेंटी लगा रखी है उस प्लेंटी को पेमेंट में तब्दील कर उस किसान को लाइसेंस का पात्र बनाया जाए।

8. अफीम परीक्षण कर रिपोर्ट तत्काल उसी समय किसान को दी जाए।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply