Breaking News

अफीम तस्करों के बिजनेस पार्टनर हैं ये भगवान, प्रसाद में चढ़ता है ‘काला सोना’

Hello MDS Android App

भक्त अक्सर मंदिरों में सोना-चांदी  चढ़ावे में चढ़ाते हैं. मनोकामना पूरी होने पर नकद राशि का चढ़ावा और स्वादिष्ट व्यंजनों का भी भोग लगाया जाता है. हालांकि आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जहां भगवान को चढ़ावे के रूप में अफीम चढ़ाया जाता है.

कहां है ये मंदिर

ये मंदिर एमपी और राजस्थान की सीमा पर स्थित है और यहां देवता को अफीम का चढ़ावा चढ़ाया जाता है. पश्चिमी मध्य प्रदेश के आखिरी जिले नीमच से करीब 65 किलोमीटर दूर विश्व प्रसिद्ध सांवलिया सेठ का मंदिर है, जिसे कृष्ण धाम भी कहा जाता है. यह राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले की डूंगला तहसील के मण्डफिया में स्थित है.

आपको ये जानकार भरोसा नहीं होगा लेकिन अफीम के बड़े तस्कर अपनी कंसाइनमेंट भेजने से पहले इस मंदिर की चौखट पर सर नवाते है और अपना पार्टनर मानते हुए कमाई में से एक हिस्सा भगवान को भी चढ़ाते हैं. हालांकि नोटबंदी के बाद इस बार बड़े पैमाने पर बंद हो चुके नोट भी इस मंदिर में चढ़ावे के रूप में पहुंचे हैं.

सांवलिया मंदिर वो प्रसिद्ध मंदिर है, जिनको दुनिया भर में बड़े कारोबारी धंधे में अपना पार्टनर बनाते है और उनका हिस्सा अलग निकालते है. इस वजह से मंदिर पर हर माह दो से ढाई करोड़ रुपए का चढ़ावा आता है.

-अफीम तस्कर सांवलिया सेठ को अपना देवता मानते हैं.

-तस्कर अपने धंधे के मुनाफे में से बकायदा सांवलिया सेठ का हिस्सा भी निकालते हैं.

-हर महीने अमावस्या के दिन जब पेटी खोली जाती है तो उसमें से राशि के साथ-साथ अफीम भी मिलती है.

-इस बार भी जब मंदिर की दान पेटी खोली गई तो उसमें पुराने नोट भी निकले.

-नोटबंदी के बाद भी इस मंदिर में पुराने नोट चढ़ाने का सिलसिला जारी है.

-मंदिर में इस आशय के सूचना देने के बावजूद श्रद्धालु अब तक पुराने नोट भगवान को अर्पित कर रहे हैं. दिसंबर के बाद से मिले करीब चार लाख रुपए फिलहाल किसी काम के नहीं रहे हैं.

चूंकि अफीम को काला सोना कहा जाता है इसलिए सांवलिया सेठ को काले सोने का देवता भी कहते हैं.

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

1 Comment

  1. manoj

    विश्व प्रसिद्ध सांवलिया सेठ का मंदिर जिसे कृष्ण धाम भी कहा जाता है। यह राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले की डूंगला तहसील के मण्डफिया में स्थित है। अपने दो नम्‍बर के धंधे के मुनाफे में सांवलिया सेठ का हिस्सा भी निकालते हैं। सांवलिया सेठ को काले सोने का देवता भी कहा जाता है

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *