Breaking News

अभी भी ट्रकों के आवागमन को लेकर प्रशासन नहीं हे गंभ्भीर

मन्दसौर। मन्दसौर नगर के घनी आबादी वाले क्षेत्र नयापुरा रोड़ जो कि ट्रको के आवागमन के लिये प्रतिबंधित रोड़ है इस रोड़ के लिए काफी समय से ट्रको के आने को लेकर समय – 2 कई लोगो इस बात को विरोध किया एवं कई बार अखबारो में चि़त्रो के माध्यम से इस नगर के जिम्मेदारो को जगाया गया लेकिन कभी भी जनभावना की इस आवाज पर कार्यवाही नही हुई।

आज फिर ट्रक के कारण मरीज को ले जा रही एम्बुलेंस काफी देर तक फसी रही।

इन ट्रको के आवागमन को लिये प्रतिबंधित को लेकर केवल बन्द कमरो मे ही मिटिंग होती है लेकिन हकीकत मे धरातल पर कोई कार्यवाही नही होती।

खानपुरा मे करोड़ो का पुल बने बरसो हो गये लेकिन वो केवल पार्किंग के कार्य आ रहा है। नयापुरा रोड़ का चौड़ीकरण कब होगा यह भी समय के गर्त मे छिपा हुआ है।

इन दौत्याकार ट्रको के दिन भर आवगमन के कारण नयापुरा रोड़ के रहवासी भी कई बार इसके खिलाफ आवास उठा चुके है व इस बाबत कई फोटो व समाचार कई प्रमुख अखबारो में प्रकाषित हो चुके है। लेकिन आज पुरा मन्दसौर नगर वर्शो से ट्रांसपोर्ट नगर बना हुआ है मन्दसौर में मुख्य पोस्ट आफीस के सामने, नयापुरा रोड़ पर लक्कड़ पीठा में, कालाखेत में, षुक्ला चौक में आदि ऐसे कई स्थानो पर आपको ट्रक खडे हुए या खाली होते हुए नजर आ जायेगे।

ट्रको के लिए नगर मे ट्रांसपोर्ट नगर बना हुआ लेकिन वो
केवल नाम का रह गया। जो जहॉ चाहे जब चाहे बडे – 2 दैत्याकार ट्रक किसी भी गली सडक में दनदना ने हुए घुस जाते है वही खडा करते खाली करते रहते माल।
नयापुरा रोड पर ट्रको के आवगमन को प्रतिबंधीत करने का बोर्ड भी लगा है लेकिन वह केवल ओपचारिक बन कर रहा गया है।

अभी कुछ महिनो पूर्व तो ट्रक के पहीये के नीचे एक महिला का हाथ आया अब क्या प्रषासन के जिम्मेदार ट्रक के नीचे सिर आने का इंतजार कर रहे है या किसी के बलिदान की प्रतिक्षा में है इस नगर के जिम्मेदार।

 

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts