Breaking News

अविश्वास प्रस्ताव पर अपने भाषण के बाद मोदी के पास गए राहुल और गले लग गए, संसद में पहली बार ऐसा नजारा

नई दिल्ली. अविश्वास प्रस्ताव पर अपने भाषण में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भाजपा पर गलत शब्दों के इस्तेमाल का आरोप लगाया। राहुल ने कहा कि आप मुझे पप्पू कह सकते हो और गालियां दे सकते हो, लेकिन मेरे मन में आपके खिलाफ नफरत नहीं है। इसके बाद उन्होंने अपनी स्पीच खत्म की और मोदी के पास जाकर उन्हें गले लगा लिया। राहुल जब वापस जाने लगे तो मोदी ने उन्हें बुलाया और हाथ मिलाया।

1) मैं भाजपा का आभारी हूं : राहुल ने कहा, ‘‘आप सोचोगे कि मेरे दिल में प्रधानमंत्री के खिलाफ गुस्सा और नफरत है। लेकिन, मैं आपको दिल से कहता हूं कि मैं प्रधानमंत्री, भाजपा और आरएसएस का बहुत आभारी हूं कि इन्होंने मुझे कांग्रेस और हिंदुस्तानी होने का मतलब सिखाया। हिंदुस्तानी का ये मतलब है कि चाहे कोई कुछ कह दे, लाठी मारे, तुम्हारे दिल में उसके लिए आपके दिल में प्यार होना चाहिए। आपने मुझे मेरा धर्म सिखाया, शिवजी का मतलब बताया और हिंदू होने का अर्थ बताया।”

2) सभी को कांग्रेस में बदलूंगा : “आपके अंदर मेरे लिए नफरत है। आपके लिए मैं पप्पू हूं। लेकिन मेरे दिल में आपके लिए कोई क्राेध नहीं है। एक-एक करके मैं आपके अंदर के प्यार को बाहर निकालूंगा। और आप सभी को कांग्रेस में बदलूंगा।’’

3) पीएम ने भी राहुल की पीठ थपथपाई : इस बयान के बाद राहुल अपनी सीट से उठकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास गए और उनके गले लग गए। इस पर प्रधानमंत्री भी आश्चर्य में आ गए और इशारों में राहुल के अचानक आने का औचित्य पूछा। राहुल जाने लगे तो मोदी ने आवाज देकर राहुल को रोका। राहुल पलटे तो उनसे हाथ मिलाया और मुस्कुराते हुए राहुल की पीठ थपथपाई। इसके बाद राहुल सदन के पूरे वेल में नमस्कार करते हुए घूमे। फिर अपनी सीट पर चले गए।

इसके बाद राहुल ने फिर बोलना चाहा, लेकिन इसी दौरान लोकसभा स्पीकर ने उन्हें बीच में टोकते हुए कहा कि राहुलजी, हाउस के कुछ नियम होते हैं।

4) भाजपा के कई सांसदों ने मुझे बधाई दी : ‘‘प्रधानमंत्री और अमित शाह, दो अलग तरह के राजनेता हैं। हमें तो सत्ता खो देने का भी दुख नहीं होता। लेकिन उनके साथ ऐसा नहीं है। लेकिन प्रधानमंत्री और भाजपा अध्यक्ष सत्ता से बाहर होना बर्दाश्त नहीं कर सकते। इसलिए वे दोनों डर की वजह से और गुस्से की वजह से कई चीजें करते हैं। इसी कोशिश में वे हिंदुस्तान में कई आवाजों को दबा रहे हैं। अभी जब मैं बाहर गया तो आपके (भाजपा के) कई संसद सदस्यों ने मुझसे कहा कि अाप बहुत अच्छे बोले। ये अकाली दल की नेता मुझे मुस्कराकर मुझे देख रही थीं।’’

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts