Breaking News

आचार्य श्री विश्वरत्नसागरसूरिश्वरजी म.सा. की 16 दिवसीय सूरिमंत्र मौन साधना प्रारंभ राजीव विजयवर्गीय की प्रभुभक्ति के कार्यक्रम को देखने उमड़े हजारों धर्मालुजन

मन्दसौर। आचार्य श्री नवरत्नसागरजी म.सा. के परम् शिष्य आचार्य श्री विश्वरत्नसागर सूरिश्वरजी म.सा. की 16 दिवसीय सूरी मंत्र की मौन साधना प्रारंभ हो चुकी है। संजय गांधी उद्यान नईआबादी में बनाये गये अस्थायी राजमहल में 19 नवम्बर दीपावली की रात्रि तक आचार्य श्री यह मौन साधना होगी। इस दौरान आचार्य श्री प्रतिदिन 10 से 15 घण्टे तक जप करें। सूरिमंत्र की मौन साधना पूर्ण होने के बाद आचार्य श्री दिनांक 20 नवम्बर को कार्तिक सुदी एकम को कृषि उपज मण्डी के प्रांगण में 15 से 20 हजार धर्मालुजनों के विशाल जनसमूह को महामांगलिक श्रवण करायेंगे।

आचार्य श्री की 16 दिवसीय सूरीमंत्र मौन साधना प्रारंभ होने के उपलक्ष्य में बुधवार की रात्रि को आराधना भवन श्रीसंघ, नवरत्न परिवार के द्वारा संजय गांधी उद्यान में रात्रि 8 से 12 बजे तक प्रभुभक्ति का अनूठा कार्यक्रम आयोजित किया गया। देश के जाने माने संगीतकार राजीव विजयर्गीय ने इस प्रभु भक्ति के कार्यक्रम में अपनी प्रस्तुति से यहां उपस्थित धर्मालुजनों को भाव विभोर कर दिया। राजीव विजयवर्गीय ने ‘‘गुरू नवरत्न भक्तों के भगवान है’’ गीत की प्रस्तुती से समा बांध दिया। आपने हर जन्म में गुरू तेरा साथ चाहिये, सिलसिला यह टूटना नहीं चाहिये।’’ गीत पर खूब दाद बटोरी। राजीव विजयवर्गीय ने ‘‘गुरू आपकी कृपा से मेरा सब काम हो रहा है, गीत पर भी खुब प्रशंसा बटोरी। 500 फीट की रांगोली व 500 दीपकों की रोशनी देखने उमड़े हजारों धर्मालुजन- नगर में पहली बार यहां के धर्मालुजनों को ऐसी अद्भूत रांगोली व दीपकों की रोशनी देखने को मिली। मुम्बई से आये राहुल व उनकी टीम के सदस्यों ने आचार्य श्री की सूरिमौन साधना के उपलक्ष्य में 500 फीट लम्बी अद्भूत रांगोली बनाई जिसको 5000 दीपकों की रोशनी से सजाया गया। संजय गांधी उद्यान मार्ग पर बनाई गई इस रांगोली को देखने के लिये हजारों संख्या में महिलाएं व युवतियां पहुंची।

इस रांगोली में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, वृक्षों की रक्षा करने जैसे स्लोगन भी लिखे गये। इस 8 घण्टे से ज्यादा समय में बनी इस रांगोली में कई प्रकार के रंगों के साथ ही कई प्रकार के पुष्पों का भी उपयोग किया गया। कांच के 5000 गिलासों में 5000 दीपक जलाये गये जिनसे पूरे मार्ग में ऐसा लगा जैसे दिपावली का त्यौहार आज ही आ गया हो।

बंगाल के कारीगरों ने बनायी राजमहल की प्रतिकृति- आचार्यश्री की सूरिमंत्र साधना के लिये बंगाल से बुलाये गये कलाकारों ने 30 बाय 30 फीट आकार के विशाल राजमहल की प्रतिकृति तैयार की जिसमें आचार्य श्री 16 दिवस तक रहकर मंत्र साधना करेंगे। इस राजमहल की प्रतिकृति में जैन तीर्थंकरों, गणधरों की प्रतिमाएं 16 दिन तक स्थापित रहेगी। आचार्य श्री इन 16 दिवस में इसी राजमहल की प्रतिकृति में एकान्त में रहकर मंत्र साधना करेंगे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts