Breaking News

आशा-उषा कार्यकताओं को स्थायी कर्मचारी बनाने की मांग

Story Highlights

  • आशा-उषा कार्यकर्ताओं की बैठक में शासन के समक्ष मांगे रखने पर हुआ विचार

मन्दसौर। आशा उषा कार्यकर्ता संगठन की एक महत्वपूर्ण बैठक संगठन अध्यक्ष माधुरी सौलंकी की अध्यक्षता में दशपुर कंुज मंदसौर पर आयोजित की गई। बैठक में शोर्य दल की सदस्या रामकुंवर राठौर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित थी।
संगठन सचिव भारती सौलंकी ने बैठक में बताया कि आशा-उषा कार्यकर्ताओं द्वारा शासन की स्वास्थ्य संबंधी योजनाओं के क्रियान्वयन का कार्य किया जाता है। लेकिन शासन आशा-उषा कार्यकर्ताओं की मांगों के प्रति उदासीन है। जिसके लिये मुख्यमंत्री को ज्ञापन देकर उनके सम्मुख मांगे रखी जाएगी। आशा-उषा कार्यकर्ताओं की मांगे है कि आशा, उषा को स्थायी कर सरकारी कर्मचारी माना जाये, हमें भी कुशल श्रमिक के बराबर मासिक वेतन दिया जाए, एक गांव/एक वार्ड में एक से अधिक आशा, उषा कार्यकर्ता होने पर प्रत्येक आशा उषा के हिसाब से दस हजार रू. फंड दिया जाए, आशा, उषा कार्यकर्ता को प्रोत्साहन राशि की प्रक्रिया को बंद करते हुए मासिक वेतन दिया जाए, प्रत्येक आशा, उषा कार्यकर्ता को पांच लाख का बीमा किया जावे, किसी भी राष्ट्रीय कार्यक्रम जैसे पल्स पोलियों, मलेरिया, कुष्ट रोगी, टीबी आदि दिवसों पर बुलाने पर 200 रू. प्रतिदिन मानदेय दिया जाये, हर गांव में आरोग्य केन्द्र अलग से किया जावे आदि आशा-उषा कार्यकर्ताओं की मांगों पर शासन को गंभीरता पूर्ण विचार करना चाहिए।
बैठक में सदस्यता अभियान भी चलाया गया तथा तहसील स्तर पर कार्यकारिणी भी गठित की गई।
बैठक में अमोलक जोशी, प्रभा, निधि पारिख, विष्णु, शमशाद बी, दुर्गा शर्मा, मंजू कुमावत, ज्योति वर्मा, संगीतकला नामदेव, हेमलता सोनी, रेखा बैरागी, वर्षा पंवार सहित अनेक आशा कार्यकर्ता उपस्थित थी। अंत में आभार सचिव भारती सौलंकी ने माना।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts