इस अभ्यारण्य में बढ़ गई इस पक्षी की संख्या, अब इनकी अवेयरनेस की दिशा में उठे कदम

Hello MDS Android App

मंदसौर। गांधीसागर अभ्यारण्य क्षेत्र में गिद्धों की गणना के लिए दो चरणों में हुई गणना में गिद्धों की संख्या में बढ़ोतरी सामने आई है। जिसमें 14 मई 2016 की गणना में 661 गिद्धों का आंकड़ा सामने आया था। वहीं 10 माह बाद की गई गणना के दोनों चरण मंगलवार को संपन्न हुए। जिसमें यह संख्या बढ़कर 682 हुई है। इन दस माह में अभयारण्य क्षेत्र में 21 गिद्धों का इजाफा हुआ है। दो चरणों में संपन्न हुई यह गणना पूरे प्रदेश में सिर्फ गांधीसागर में की गई। उल्लेखनीय है कि गिद्धो की संख्या में वृद्धि को देखते हुए वन विभाग ने अभ्यारण्य क्षेत्र में गिद्ध अवेयरनेस सेंटर खोलने का प्रस्ताव सरकार को भेजा है, ताकि सरंक्षण व संख्या बढ़ाने के लिए बेहतर काम हो सकें।

मंगलवार को रूस्टिंग के आधार पर की गणना
सोमवार को नेस्टिंग के आधार पर की गई गणना में 113 घोंसले, 84 चूजे और 127 व्यस्क गिद्ध मिलाकर 211 गिद्धों का आंकड़ा सामने आया था। इसके बाद मंगलवार सुबह 6 से 9 बजे तक रूस्टिंग के आधार पर की गई गणना में 471 गिद्धों का आंकड़ा मिला। इस प्रकार दोनों चरणों का आंकड़ा मिलाकर 682 गिद्ध गणना में सामने आए है। जो 10 माह पूर्व की गई गणना से 21 गिद्ध अधिक है।

65 स्थान चयनित कर की गणना
वन विभाग की टीम सहित समिति सदस्यों द्वारा अभ्यारण्य क्षेत्र के करीब 65 स्थानों पर जाकर रूस्टिंग के आधार पर गणना की। जिसमें भोजन का क्षेत्र और मृत जानवरों की दुर्गंध से स्थान पर पहुंचकर गिद्धों की गणना की। गेम रेंजर सलीम मंसूरी ने बताया कि भोजन के बाद गिद्ध उड़ नहीं पाते है। इसलिए ऐसे 65 स्थानों का चयन किया। जहां इनके भोजन मिलने के साथ गिद्धों के मिलने की संभावनाएं अधिक होती है।

14 माह में 195 गिद्धों की बढ़ोतरी सामने आई
गत वर्ष 23 जनवरी 2016 की गणना में 487 गिद्धों की संख्या सामने आई थी। इसके चार माह बाद 14 मई 2016 में प्रदेश स्तर की गणना में यहां 661 गिद्धों की संख्या सामने आई थी। 10 माह बाद 20 मार्च 2017 को दो चरणों में गांधीसागर अभ्यारण्य क्षेत्र में की गई गणना में 682 गिद्ध सामने आए है। इस प्रकार जनवरी 2016 से मार्च 2017 की गणनाओं के अनुसार अभ्यारण्य क्षेत्र में 195 गिद्धों की बढ़ोतरी सामने आई है। सीसीएफ उज्जैन और डीएफओ मंदसौर के निर्देशानुसार की गई दो चरणों की गणना में मंगलवार को एसडीओ एनएस मेहता, परिवेक्षक एसएल यादव, रामनारायण शुक्ला, बिपेंद्र राठौर, नरेंद्र मालवीय, अजयसिंह, पंकज बबाना सहित कई वनकर्मी और समितिसदस्य मौजूद रहे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *