Breaking News

ट्रांसपोर्टरों की हड़ताल से बिगड़ने लगी व्यवस्थाएॅ, सर्वाधिक किराना सामान पर असर

ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष शेखावत ने कही राहत भरी बात एक दो दिन में खत्म हो सकती है हड़ताल

ड्रायवर, खल्लासी, मंडी के हम्माल, तुलावटियों, मजूदरों, मंडी के बाहर चाय नाश्ता का ठेला लगाने वाले सभी हडताल से परेशान

मंदसौर। शुक्रवार से प्रारंभ हुई ट्रांसपोर्टरों की हड़ताल से अब व्यवस्थाएॅ बिगड़ने लगी है। हड़ताल के कारण जहॉ अब तक सर्वाधिक असर कृषि मंडियों पर ही दिखाई दे रहा था लेकिन अब किराना बाजार पर भी हड़ताल की मार पड़ रही है। दैनिक उपयोग में आने वाली वस्तुओं का परिवहन नहीं हो पर रहा है जिससे परचूनी सामान के भावों में लगातार तेजी देखने को मिल रही है। हालत यह है कि सर्वाधिक उपयोग में आना वाला गेहूॅ का आटा भी महंगा हो गया है।

 

किराना सामान में आई तेजी
हड़ताल के कारण जहॉ गेहॅू के आटे में अचानक 2 रुपए किलो की तेजी आ गई। तेजी का कारण मंडीयों से गेहूॅ का नहीं आ पाना है। वहीं शकर में प्रति क्विंटल 30 रूपये तक की तेजी आई हैं, दाले आदि किराना सामनों में तेजी देखने को मिल रही है। किराना के बड़े व्यापारियों का कहना है कि यदि हड़ताल जल्द खत्म नहीं हुई तो स्थिति और अधिक भयावह हो सकती है।

 

बाजार में मंदी का माहौल
हड़ताल के कारण दैनिक उपयोग में आने वाली वस्तुओं के भावों में तेजी आ गई है, लेकिन ग्राहकी कमजोर चल रही है। धानमंडी के व्यापारी अशोक पोरवाल ने बताया कि बारिश के समय ग्राहकी मंदी ही रहती है। सावन में फलीहारी सामना की ब्रिकी सर्वाधिक होती है। हड़ताल का असर भावों पर दिखाई दे रहा है। नारियल हड़ाताल के कारण खेरची में 15 रू प्रतिनग बिक रहा है। सामान्तयः 10 से 12 रूपये नारियल बिकता है।

 

कृषि उपज मंडियां ठप
ट्रांसपोर्ट्स की हड़ताल के चलते जिले की अधिकतर कृषि उपज मंडियां बंद हो गई हैं। प्रमुख मंदसौर और दलौदा मंडी तो पूरी तरह से बंद ही है। व्यापारी घूमने के मकसद से ही मंडीयों में आ रहे है। इससे करोड़ों रुपए का कारोबार प्रभावित हो रहा है। जिसका सर्वाधिक असर हम्मालों व तुलावटीयों की आर्थिक स्थिति पर पड़ रहा है।

 

मंडी क्षेत्र के व्यापार पर असर
ट्रकों की हड़ताल के कारण ऐसा नहीं है कि सिर्फ मंडी बंद है तो व्यापारी, किसान, हम्माल और तुलावटी ही परेशान है। मंडी बंद होने के कारण मंडी के बाहर दुकान लगाकर बैठे व्यापारीयों से लेकर चाय कचौरी वाले रेस्टोरेन्ट, मोबाईल दुकानों वाले सभी के व्यापार बंद से हो गए है क्योंकि मंडी चलती है तो इनका व्यापार चलता है।

एक दो दिन में हो सकती है खत्म हड़ताल

ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेशसिंह शेखावत ने बताया कि ट्रांसपोर्टरों की हड़ताल जायज है और जब तक हमारी मांगे नहीं मान ली जाती है तब तक हड़ताल जारी रहेगी। लेकिन देशभर में बिगढते हालत को देखते हुए हमारे दिल्ली में बैठे लोग सरकार के सम्पर्क में है और वहां से सकारात्मक खबरें जरूर आ रही है उम्मीद कि जा सकती हैं कि एक या दो दिन में हड़ताल खत्म हो जाएगी। मंदसौर में भी अब स्थिति बिगड़ने लगी है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts