Breaking News

एक हाथ उन मूक पक्षियों की रक्षा के लिए बढाये, पतंग ना उड़ाये

मन्दसौर। सकल जैन समाज महिला प्रकोष्ठ मकर सक्रांति पर्व के अवसर पर अपील की कि इस वर्ष हम पतंग न उड़ाकर जीव दया के रक्षक बने। आइए एक हाथ उन मूक पक्षियों की रक्षा के लिए बढाये, हम गुल्ली डंडा खेले, सतोलिया खेलें, कुछ और खेले किंतु आप से विनम्र निवेदन है कि आप जहां तक हो सके पतंग नहीं उड़ाए।

महिला प्रकोष्ठ महामंत्री शिखा जैन, रश्मि जेतावत एवं विनीता संघवी, मंत्री और सहमंत्री कहा कि हम यह नहीं कहते हैं कि आप त्यौहार नहीं मनाये, क्योंकि यह बहुत पावन पर्व है। और पर्व मनाना हमारा अधिकार है, इसलिए हम भी इस त्यौहार को पूर्ण रूप से मनाए। किंतु समय के साथ यह परिवर्तन आ गया है कि जो पतंग उड़ाने के लिए हमारे बच्चो को बाजार में चाइना का मांझा मिल रहा है जिसमें कांच का बुरा होता है जिससे हर वर्ष कहीं पक्षियों की जान चली जाती है, तो वो खुशियां किस काम की जो चहचहाती हुई सुबह व शाम को नष्ट करें।

महिला प्रकोष्ठ ने कहा कि यदि पतंग उड़ाते हैं तो दिन में 11 बजे से लेकर शाम को 4.30 बजे तक पक्षी आकाश में कम होते हैं तब उड़ाए। सुबह और शाम बिल्कुल ना उड़ाए। उस समय वह अपने रेन बसेरे से आते और जाते है क्योंकि धर्म और साइंस दोनों की दृष्टि से प्रकृति की रक्षा के लिए मूकपक्षियों का जिंदा रहना अति आवश्यक है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts