Breaking News

एक ही जेल में मंदसौर-नीमच जिले के बंदी रहेंगे साथ

मंदसौर. जिला मुख्यालय पर बंदियों का जिला जेल में क्षमता से अधिक होना और मनासा से जावद की अधिक दूरी को देखते हुए जेल विभाग के आला अधिकारियों ने एक प्रस्ताव बना रहे है। जिसमें नारायणगढ़ और मनासा के बीच एक जेल बनाई जाएगी। जिसमें मल्हारगढ़ और नारायणगढ़ क्षेत्र के बंदियों को उस जेल में रखा जाएगा। वहीं मनासा क्षेत्र के बंदियों को भी इसी जेल में रखा जाएगा। जेल विभाग की एक बैठक जल्द ही होने वाली है। जो जेल डीजी संजय चौधरी लेगें। उस बैठक में जेल के आला अधिकारी उनके सामने यह प्रस्ताव रखेगें। अधिकारियों की माने तो प्रस्ताव को हरी झंडी बैठक में मिली जाएगी।

क्षमता से अधिक जिला जेल में बंदी
जिला जेल अधीक्षक एमएस रावत से मिली जानकारी के अनुसार अभी वर्तमान में जिला जेल में 589 बंदी है। इसमें 26 महिला बंदी है। कुल बंदियों में से 140 सजायाफता बंदी है। तो 449 बंदी विचाराधीन है। जानकारी के अनुसार जिला जेल में 12 बैरक है। जानकारी के अनुसार क्षमता से बहुत अधिक बंदी जिला जेल में है। जिला जेल अधिकारियों की माने तो यहां पर आवश्यकता पडने पर ओर बैरकों का निर्माण किया जा सकता है। 

जावद से नीमच की दूरी कम, लेकिन मनासा से अधिक 
अधिकारियों की माने तो नीमच से जावद जेल की दूरी करीब 15 से 16 किलोमीटर है। यहां से आसानी से आ जा सकते है। लेकिन मनासा से जावद की दूरी अधिक है। यहां से जावद करीब 20 से 23 किलोमीटर की दूरी पर है। इससे आने जाने में अधिक समय लगता है। इसलिए जेल विभाग के आलाअधिकारी नीमच और नारायणगढ़ के बीच एक जेल बनाने का प्रस्ताव तैयार कर रहे है। यहां पर जेल बनाने केा लेकर दो से तीन बार अधिकारियों के बीच में चर्चा भी हुई है।

फैक्ट फाइल 

जेल-जिला जेल 

कुल बंदी- 589
बैरक-12
सजायाफता बंदी- 140
विचाराधीन बंदी- 449
महिला बंदी- 26

इनका कहना…

मंदसौर में बंदियों की संख्या अधिक है। और जावद से मनासा की दूरी भी अधिक है। इससे नारायणगढ़ और मनासा के बीच जेल बनाने का प्रस्ताव बनाया जा रहा है। इसको लेकर चर्चा भी हुई है। आने वाले दिनों भोपाल में एक बैठक होने वाली है। जिसमें मनासा और नारायणगढ़ के बीच जेल बनाने का प्रस्ताव रखा जाएगा। -आरआर दांगी, सर्किल जेल अधीक्षक रतलाम।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply