Breaking News

कांग्रेसी सत्ता के लिए चक्कर खा रहे हैं और आंदोलन के नाम पर किसानों को भ्रमित कर रहे हैं- मदनलाल राठौर

मंदसौर। कांग्रेस के जमाने में सहकारी ऋण वसूली के लिए किसान की जमीन, कृषि यंत्र और पशु यहां तक की कभी-कभी किसान के घर की छत के चद्दर तक नीलाम कर दिए जाते थे, लेकिन भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने सहकारी समितियों के माध्यम से कृषि ऋण को 18 प्रतिशत् से ’’0’’ प्रतिशत् किया। यहां तक की किन्हीं विषम परिस्थितियांे के कारण कृषक ऋण समय पर नहीं चुका पाए तो उनका पूरा ब्याज माफ कर दिया। यह बात जिला सहकारी बैंक अध्यक्ष मदनलाल राठौर ने मल्हारगढ़ एवं पिपलिया मंडी में आयोजित मुख्यमंत्री ऋण समाधान एवं रूपे डेबिट कार्ड वितरण कार्यक्रम में कही। श्री राठौर ने कहा कि गतवर्ष कांग्रेस ने किसान आंदोलन के नाम पर जिले को एक काला धब्बा दिया। किसान आंदोलन की आड़ में षडयंत्र कर क्षेत्र की शांति को अशांति मंे बदल दिया। निजी और शासकीय संपत्तियों को आग के हवाले किया  और अपने नापाक षडयंत्र से सरकार और किसानों को बदनाम करनें का भरसक प्रयास किया किंतु प्रदेश के मुख्यमंत्री जी अपनी सूझ-बूझ से इस क्षेत्र में पुनः ऐसा वातावरण निर्मित किया कि किसान और जन सामान्य ने इस बात को पूरी तरह समझ लिया कि कांग्रेस सत्ता से दूर होने के कारण इस प्रकार के हथकंडे अपना रही हैं। श्री राठौर ने कार्यक्रम में कहा कि क्षेत्र के किसान प्रदेश के मुख्यमंत्री जी की किसान हितेशी योजनाओं के माध्यम से अपनी खेती किसानी का विकास कर रहे हैं इसलिए क्षेत्र में कांग्रेस द्वारा किए जा रहे झूठे आंदोलन को विफल करें और किसानों के नाम पर किए जा रहे षडयंत्र को बेनकाब करें। श्री राठौर ने कहा कि मोदी सरकार के 04 वर्ष बेदाग बेमिसाल हैं। किसानों के चेहरे की रोनक अटल बिहारी वाजपेयी की देन हैं, क्योंकि ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों का जाल, 24 घंटे विद्युत आपुर्ति और ’’0’’ प्रतिशत् पर ऋण आदि की सहुलियतों ने किसान और उसके परिवार को खुशहाल बना दिया। केंद्र और राज्य शासन की योजनाओं ने ग्रामीण क्षेत्र को आर्थिक रूप से संपन्न बना दिया हैं। कार्यक्रम में पंडित राजेश दीक्षित मंडल अध्यक्ष भाजपा, भाजपा नेता तेजपालसिहं धाकड़ी, भाजपा के वरिष्ठ नेता मनोहरलाल जैन, पिपलिया मंडी नगर पंचायत अध्यक्ष ने अपना उद्बोधन  दिया व नाबार्ड के जिला विकास प्रबंधक मनोज हरचंदानी एवं ग्रामीण स्वरोजगार प्रशिक्षण संस्थान के डायरेक्टर रत्नेश सेठिया एवं सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के सी.एस. चौहान ने महत्वपूर्ण जानकारियां कृषकों को दी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts