Breaking News

किसानों को ऋण भुगतान डीएमआर पद्धति से – श्री राठौर

मंदसौर निप्र। वर्तमान में किसान क्रेडिट कार्ड के ऋण का किसानों को भुगतान नाबार्ड की डीएमआर पद्धति से किया जा रहा हैं। चूंकि यह पद्धति हालंही में लागू हुई हैं और इसकी प्रक्रिया कम्प्यूटरीकृत है इसलिए इसमें समय लगने से किसानों को कुछ असुविधा हो रही हैं। इसका तात्कालिक हल यही है कि किसान भाई एक साथ ऋण लेने नहीं जायें ताकि भीड़ की स्थिति निर्मित नहीं हो।
जिला सहकारी केन्द्रीय बैंक के अध्यक्ष मदनलाल राठौर ने किसानों से उक्त विनम्र अपील करते हुए आगे कहा कि विगत वर्षों में भिन्न प्रक्रिया थी। सहकारी संस्था से किसान को उसकी ऋण राशि का चैक मिल जाता था और वह बैंक शाखा में जाकर चैक प्रस्तुत करके भुगतान प्राप्त कर लेता था। आपने कहा कि वर्तमान में लागू की गई डीएमआर पद्धति अंतर्गत किसान के सेविंग खाते में ऋण राशि ट्रांसफर की जा रही है जिसका किसान द्वारा विड्राॅल किया जाकर राशि प्राप्त की जा रही हैं। यदि किसान चार दिन बाद भी बैंक पहुंचते है तो उनको एसएमएस के माध्यम से उनके खाते में ऋण राशि जमा होने की जानकारी मिल जायेगी।
श्री राठौर ने यह जानकारी भी दी कि वर्तमान में समर्थन मूल्य पर गेहूँ उपार्जन का कार्य चल रहा है जो प्राथमिकता व समय-सीमा का कार्य हैं। दोनों जिलों में 61 केन्द्रों के माध्यम से सत्रह हजार किसानों का गेहूँ उपार्जन किया जाकर उन्हें भुगतान किया जाना हैं। यह कार्य भी बैंक शाखाओं में किसानों के सेविंग खातों में राशि जमा करके किया जा रहा है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts