Breaking News

किसान आंदोलन में 132 लोगों का 6.37 करोड़ का नुकसान, मुआवजा सिर्फ 16 लाख

मंदसौर। किसान आंदोलन में व्यापारियों और लोगों को काफी नुकसान हुआ है। राजस्व अधिकारियों द्वारा कराए गए आंकलन में पांच तहसीलों के 132 व्यापारियों और लोगों को 6 करोड़ 37 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। दंगों के लिए गठित समिति द्वारा तय मापदंड के अनुसार प्रशासन ने जो आकलन किया है, उसमें 16 लाख 9 हजार रूपए मुआवजा बनता है। रिपोर्ट मंगलवार को भोपाल पहुंचा दी है। अधिकारी कह रहे हैं कि हमने नियमानुसार मूल्यांकन किया है। सवाल सामने आ रहा है कि करोड़ों के नुकसान का मुआवजा लाखों में कैसे बांटा जा सकता है। तर्क यह कि सीएम चाहें तो अपनी ओर से अलग से राशि बांट सकते हैं। 

अगर बात करें तहसीलवार नुकसान की तो सबसे ज्यादा नुकसान मल्हागरढ तहसील में हुआ है। राजस्व अधिकारियों के आकलन में आंकड़ा 360.28 लाख है। इन्हें 8.90 लाख रुपए मुआवजा दिया जाएगा। इसी तरह से सुवासरा तहसील में 32 लोगों या व्यापारियों को 107.05 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। इन्हें मुआवजे के रुप में 3.62 लाख रुपए दिए जाएंगे। सीतामउ तहसील में सात लोगों या व्यापारियों राजस्व विभाग के मूल्यांकन के अनुसार 37.79 लाख का नुकसान हुआ है। लेकिन इन्हें मुआवजा सिर्फ 42 हजार रुपए मिलेगा।
भानपुरा में 60 लोगों मूल्यांकन में 78.44 लाख रुपए नुकसान का आकलन किया गया। इन्हें 3.96 लाख रुपए मुआवजा दिया जाएगा। मंदसौर तहसील में एक एक व्यापारी को नुकसान हुआ है। एडीएम अुर्जनसिंह डाबर ने मंगलवार को बताया कि प्रारंभिक आकलन राजस्व विभाग से कराकर भोपाल भेजा है। इसके आगे क्या होगा, कहा नहीं जा सकता। हमने आकलन 1984 दंगा पीडि़तों के राहत के लिए बने गर्ग आयोग द्वारा तय मापदंडों के अनुसार करवाया है। इसके बाद फैसला शासन स्तर पर होगा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts