Breaking News

किस ने लगाया मन्दसौर विधायक की निष्पक्षता पर प्रश्न चिन्ह

गुर्जर ने गृहमंत्री से नाबालिग के गायब होने पर कार्यवाही की करी मांग

मन्दसौर। शहर की नाबालिग लड़की को एक आरक्षक द्वारा बहला फुसलाकर ले जाने की घटना जो कि शहर के लिये बहुत बड़ी दुर्भाग्यपूर्ण घटना है और जिसकी जितनी निंदा की जाये उतनी कम है किन्तु इस मामले पर राजनीति करने के उद्देश्य से मंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया द्वारा की गई पत्रकार वार्ता और उसमें यह कहना कि इस मामले को विधानसभा तक  उठाऊंगा। प्रश्न उठाने वाली यह बात मंदसौर विधायक के अभी तक के कार्यकाल की निष्पक्षता पर प्रश्न चिन्ह खड़ा कर रही है। यह प्रश्न विधायक द्वारा की गई पत्रकार वार्ता पर पार्षद विजय गुर्जर ने खड़ा किया है।

विजय गुर्जर ने इस संबंध में आगे बताया कि विधायक सिसौदिया मंदसौर विधानसभा के तीसरी बार विधायक है इसलिये पूर्व से लेकर अभी तक हुए चोरी, हत्या, अपराध, दुष्कर्म सहित सभी अपराधिक घटनाओं पर कार्यवाही करवाने का दायित्व भी विधायक का बनता है। सरस्वती स्कूल से मासूम बालिका का अपहरण होकर उसके साथ दुष्कर्म होने की घटना, पत्रकार कमलेश जैन की हत्या होना, खुद विधायक के घर लाखों रूपये की चोरी होने के राज का आज तक खुलासा नहीं होना, क्षेत्र के बड़े व्यापारी अरूण ठन्ना की सरे बाजार गोली मारकर हत्या करना सहित शांति का टापू कहे जाने वाले मंदसौर जिला क्षेत्र में किसानों की निर्मम हत्या और एक के बाद एक हत्याएं लगातार होना व हाल ही में भाजपा कार्यकर्ता द्वारा भाजपा के नगरपालिका अध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की हत्या करना सहित अनेक ऐसे दिल दहला देने वाले अपराधिक मामले लगातार मंदसौर क्षेत्र में होते रहे है। ऐसे सभी मामलों में भी भाजपा की सरकार और भाजपा के विधायक श्री सिसौदिया के होने के नाते उनका दायित्व बनता था कि ऐसे सभी मामलों में वे हस्तक्षेप करते और क्षेत्र की शांति के लिये विधानसभा में लगातार प्रश्न करने वाले विधायक इन सभी मामलों में भी मंदसौर से लेकर भोपाल विधानसभा तक उठाते और इन सभी मामलों में कार्यवाही कराते उसके बाद पुलिस के लिये कहते कि रक्षक ही भक्षक बन गये है लेकिन उस समय की तत्कालीन परिस्थितियों में इलेक्ट्रानिक मीडिया में मंदसौर के विधायक ने खुद की भाजपा सरकार होते हुए भी कहा था कि नीमच पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह पहले ऐसे अधिकारी है जिन्होंने आदतन अपराधियों, हत्यारों के बीच में जाने की हिम्मत दिखाई है। यह बात आपकी सरकार, शासन और पुलिस की कार्यवाही पर खुद ही बहुत बड़ा प्रश्न खड़ा कर रहा था कि अपराधियों को संरक्षण कहां-कहां से कौन-कौन दे रहा है।

अंत में विजय गुर्जर ने शहर के नाबालिक बिटियां के गायब होने के मामले में गृहमंत्री बाला बच्चन और मंदसौर पुलिस अधीक्षक विवेक अग्रवाल से मांग की है कि इस पूरे मामले की निष्पक्षता से जांच होकर जो भी दोषी हो उन पर कड़ी कार्यवाही की जाये और बालिका को सुरक्षित उसके परिजनों तक पहंुचाया जाये।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts