Breaking News

क्या छात्र नेताओ का काम है नकल करने वाले छात्रो को बचाना!

मंदसौर। कॉलेज में पद संभालने के बाद पहले ही दिन नए प्राचार्य डॉ. सीएल खिंची छात्र नेताओं के आक्रोश से घिर गए। मंगलवार दोपहर में बीए प्रथम वर्ष के भूगोल विषय की परीक्षा में परीक्षक ने एक छात्रा को नकल करते हुए पकड़ा। इस दौरान छात्र नेता वहां पहुंच गए, उन्होंने प्राचार्य पर छात्रा का प्रकरण नहीं बनाने के लिए दबाव बनाया। प्राचार्य ने छात्र नेताओं ने दो टूक कह दिया कि हमने परीक्षा कक्ष में जाकर पहले ही चेतावनी दी थी। अब मैं कु छ नहीं कर सकता नकल प्रकरण तो बनेगा। इस दौरान हंगामे की स्थिति बनने पर प्राचार्य ने पुलिस बुला ली। यह मामला खत्म भी नहीं हुआ था कि परीक्षा खत्म होने के बाद एक छात्रा बैग चोरी होने की शिकायत लेकर प्राचार्य के पास पहुंची। छात्र नेताओं ने चोरी की घटना को लेकर प्राचार्य के सामने आक्रोश जताते हुए व्यवस्थाओं पर प्रश्न उठाए। कॉलेज के कै मरे भी बंद ही थे। करीब एक घंटे बाद छात्रा का बैग कॉलेज परिसर में ही मिल गया। जिस स्थान पर बैग मिला वहां पर छात्रा कु छ देर पहले जब बैग ढूंढती हुई पहुंची थी तब बैग वहां नहीं था। आखिर हंगामे की स्थिति बनने पर बैग वहां कै से पहुंच गया और बैग में रखा सभी सामान भी सुरक्षित भी मिला है।

बीए प्रथम वर्ष की छात्रा ग्राम पालसोड़ा निवासी अनुसुईया कु मावत मंगलवार को अर्थशास्त्र विषय की परीक्षा देने के लिए कॉलेज पहुंची थी। वह अपने साथ एक बैग लाई थी, जिसमें दो मोबाइल एवं कु छ दस्तावेज व रुपए भी थे। परीक्षा कक्ष में मौजूद परीक्षकों ने बैग बाहर रखने को कहा। इसके बाद छात्रा ने परीक्षा कक्ष क्रमांक 73 के बाहर बैग रख दिया। दोपहर दो बजे तक छात्रा ने परीक्षा कक्ष से बाहर निकली तब उसे कक्ष के बाहर बैग नहीं मिला। इधर-उधर तलाश कि या, पूरे कॉलेज परिसर में तलाश करने पर भी जब बैग नहीं मिला तो छात्रा रोने लगी। बाद में वह प्राचार्य कक्ष में पहुंची। रोते हुए छात्रा ने बताया कि बैग में दो मोबाइल, आधार कार्ड, आवश्यक दस्तावेज व कु छ रुपए है। बैग चोरी होने की जानकारी मिलने पर छात्र संघ अध्यक्ष सहित अभाविप के छात्र नेता प्राचार्य कक्ष में पहुंचे। उन्होंने प्राचार्य से कहा कि परीक्षा के दौरान जब कोई अंदर नहीं आ सकता है तो बैग कै से चोरी हो गया। सीसीटीवी कै मरे क्यों बंद है। इस पर प्राचार्य यह कहते रहे कि पुलिस से शिकायत की है। हम बैग ढूंढने की कोशिश कर रहे हैं। यह हंगामा चल ही रहा था दोपहर 2.50 बजे प्राचार्य कक्ष में एक छात्र पहुंचा उसने कहा कि इतिहास व पर्यटन कक्ष के बाहर एक बैग पड़ा है। छात्रा दौड़ते हुए वहां पहुंची, वह बैग उसी का था और सामान भी सभी मिल गया। जबकि छात्रा का कहना था कि वह इतिहास कक्ष के बाहर कु छ देर पहले तलाश करने पहुंची थी तब बैग नहीं था।

नकल प्रकरण नहीं बनाने के लिए प्राचार्य पर बनाया दबाव

शासकीय महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. सीएल खिंची ने सोमवार को पद ग्रहण कि या था। प्राचार्य डॉ. खिंची ने परीक्षकों एवं कॉलेज के प्रोफे सरों को नकल रोकने के निर्देश दिए वे भी परीक्षा के दौरान कक्षों में भ्रमण करते रहे। मंगलवार को सुबह 11 से दोपहर 2 बजे की पाली में परीक्षा के दौरान कक्ष क्रमांक 203 में भूगोल विषय की परीक्षा दे रही एक छात्रा को परीक्षक दिप्ती शक्तावत ने नकल करते हुए पकड़ा। इस दौरान प्राचार्य भी कक्ष में पहुंच गए। छात्रा के पास से नकल सामग्री जब्त कर प्रकरण बनाने की तैयारी की जा रही थी तभी कु छ छात्र नेता वहां पहुंच गए। उन्होंने प्राचार्य पर दबाव बनाया कि वे छात्रा का नकल प्रकरण न बनाए, उसे समझाइश देकर छोड़ दे। प्राचार्य ने कहा छात्रा को नकल करते हुए पकड़ा गया है, प्रकरण तो बनेगा। परीक्षा शुरू होने के दौरान कक्ष में पहुंचकर सभी छात्र-छात्राओं से कहा था कि कोई गलती से नकल सामग्री लाया हो तो हमें दे दीजिए, कु छ विद्यार्थियों ने दी थी लेकि न छात्रा ने नहीं दी। वार्निंग का तो सवाल ही नहीं है, के स बनेगा। जब प्राचार्य ने छात्र नेताओं की बात नहीं मानी तो उन्होंने आरोप लगाया कि प्राचार्य ने उनके साथ अभधता की, पुलिस को बुलाकर हमें कॉलेज के बाहर खदेड़ दिया गया। वहीं परीक्षक पर भी छात्रा से जातिगत दुश्मनी निकालने जैसे आरोप लगाए गए।

बंद है कॉलेज के सीसीटीवी कै मरे

कॉलेज में लगे सीसीटीवी कै मरे परीक्षा के समय भी बंद है। इस संबंध में प्राचार्य डॉ. खिंची का कहना है कि सभी कै मरे निवार्चन आयोग के अधीन है। इसलिए कै मरे बंद है। जबकि इससे पहले की परीक्षाओं में सीसीटीवी कै मरे से ही परीक्षा कक्षों की निगरानी होती रही है और अन्य दिनों में भी सीसीटीवी कै मरे चलने से सुरक्षा व्यवस्थाएं होती रही है।

परीक्षा प्रारंभ होने से पहले मैं सभी कक्षों में गया था। परीक्षार्थियों को पांच मिनट का समय देकर कहा था कि वे कु छ नकल सामग्री लाए हो तो हमें दे दीजिए। कु छ छात्र-छात्राओं ने कु छ चीट जमा भी करवाई थी। परीक्षा के दौरान कक्ष 203 में एक छात्रा को परीक्षक ने नकल करते हुए पकड़ा। छात्र दबाव डाल रहे थे कि नकल प्रकरण नहीं बनाया जाए, लेकि न छात्रा नकल हुए पकड़ाई थी इसलिए हमने प्रकरण बनाया है। कॉलेज के सीसीटीवी कै मरे निर्वाचन आयोग के अधीन है इसके कारण बंद है। छात्रा का बैग चोरी होने की घटना में हमने पुलिस से शिकायत की थी। इसी दौरान कॉलेज परिसर में ही बैग मिल गया। कि सी ने शरारत की होगी। – डॉ. सीएल खिंची, प्राचार्य, शास. महाविद्यालय, मंदसौर

हमने प्राचार्य से निवेदन कि या था कि छात्रा का प्रकरण मत बनाइए। इस दौरान हमारे साथ अभधता की गई। पुलिस ने आकर हमें बाहर निकाल दिया। परीक्षा के दौरान कोई व्यवस्थाएं नहीं है। छात्रा का नकल प्रकरण निजी दुश्मनी के कारण बनाया गया है। – गुरदीपसिंह आंजना, छात्र नेता, अभाविप

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts