Breaking News

क्यों पूर्व विधायक को धकेलकर पुलिस ने दिखाया बाहर का रास्ता?

मंदसौर. सीएम कमलनाथ के जिले में दौरे के दौरान उपेक्षा से नाराज कार्यकर्ताओं का गुस्सा फूट पड़ा। और उन्होंने अपनी ही पार्टी के नेताओं के खिलाफ आक्रोश जताते हुए विरोध कर दिया। जिलाध्यक्ष प्रकाश रातडिय़ा के खिलाफ नारेबाजी करते हुए हटाने तक की मांग की तो हवाईपट्टी पर पहुंचे पूर्व विधायक नवकृष्ण पाटिल को पुलिसकर्मी ने धकेलते हुए बाहर कर दिया। सुबह के समय जब मुख्यमंत्री मंदसौर हवाईपट्टी पर पहुंचे उसे दौरान यह घटनाक्रम हुआ।

यह रहा घटनाक्रम

सुबह के समय मुख्यमंत्री नीमच के रामपुरा के लिए मंदसौर उतरकर फिर गए। हवाईपट्टी पर जब उतरे तो उनसे मिलने के लिए कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ताओं का यह पहुंचने का दौर शुरु हुआ तो पुलिस ने उन्हें वहां पहुंचने से पहले ही दूर रोक दिया। बायपास पर ही सभी को पुलिस ने रोका और सूची में नाम देखकर अंदर एंट्री दी जा रही। नाम नहीं होने और अंदर एंट्री नहीं मिलने के कारण कार्यकर्ताओं ने जिलाध्यक्ष का विरोध कर दिया। उनका कहना था जिलाध्यक्ष ने हमारे नाम नहीं दिए। इसलिए हमें बाहर खड़ा रहना पड़ रहा। इसी बात को लेकर उन्होंने जिलाध्यक्ष के खिलाफ यहां नारेबाजी की और हटाने तक के नारें लगाए। इसके साथ ही पूर्व विधायक नवकृष्ण पाटिल भी हवाईपट्टी पर पहुंचे थे। लेकिन प्लेन तक जाने वाले लोगों में उनका नाम नहीं था। ऐसे में उन्हें रोक दिया। लेकिन वह यहां से जैसे-तैसे सुरक्षा घेरे से बचते हुए प्लेन तक जाने की कोशिश में आगे बढ़ गए। तो फिर वहां मौजूद पुलिसकर्मी ने उन्हें पकड़ा और धकेलते हुए बाहर किया। सीएम के दौरे के दौरान हवाईपट्टी पर हुआ यह घटनाक्रम सोशल मीडिया पर भी खूब वायरल हुआ।

जिलाध्यक्ष को हटाने की मांग
सूची में नाम नहीं होने के कारण कई नेताओं के समर्थक और कार्यकर्ता नाराज हो गए और जिला अध्यक्ष प्रकाश रातड़िया के खिलाफ नारेबाजी शुरू करते हुए उन्हें पद से हटाने की मांग की। कार्यकर्ताओं और नेताओं का कहना था कि जिला अध्यक्ष ने हमारे नाम नहीं दिए जिस कारण से हमें बाहर रहना पड़ा।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts