क्षतिग्रस्त पुलियाओं की नहीं ली जा रही सुध

बाढ़ में क्षतिग्रस्त हुई पुलिया में गई थी दो जाने प्रशासन अब भी नहीं जागा

मंदसौर। मानसून के दौरान इस वर्ष मंदसौर जिले मंे रिकार्ड तौर बारिश हुई थी। विगत 14 अगस्त की प्रातः गांधी नगर की एक पुलिया बाढ़ के पानी से क्षतिग्रस्त हो गई थी। जिसमें मंदसौर दो लोगों की जान चली गई थी। लेकिन फिर भी अब तक प्रशासन उस पुलिया को ठीक करने के लिए नहीं जागा है।

बारिश के दौरान गांधी नगर की एक कॉलोनी में नाले के उपर बनी पुलिया तेज बहाव के कारण कटकर बह गई थी। जिसमें मंदसौर पीजी कॉलेज में पदस्थ प्रोफेसर गुप्ता की पत्नी और बच्ची की मौत हो गई थी। घटना के लगभग चार माह बाद भी प्रशासन नहीं जागा है और अब तब जिम्मेदारों द्वारा उक्त पुलिया की कोई सुध नहीं ली गई है और नहीं पुलिस को व्यवस्थित किया गया आज भी उक्त पुलिया उस समय जैसी थी वैसी ही है।

अन्य पुलियाओं के भी यही हाल

बारिश के दौरान नरसिंहपुरा क्षेत्र में क्षतिग्रस्त हुई पुलियाएं भी चार माह बाद भी नहीं सुधर पाई हैं। नगर पालिका अभी भी इसके लिए टेंडर प्रक्रिया में ही उलझी है। नगर पालिका के जनप्रतिनिधियों से लेकर अधिकारी तक किसी ने सुध नहीं ली है। ऐसे में नरसिंहपुरा, नयागांव और मदारपुरा के लोग खेत जाने के लिए परेशान हो रहे हैं। बादरपुरा की पुलिया व बड़ी खजूर की पुलिया क्षतिग्रस्त होने के बावजूद बाइक चालक तो जैसे-तैसे जान जोखिम में डालकर निकल रहे हैं। वही चार पहिया वाहन चालक एक से डेढ़ किमी की दूरी तय कर रहे हैं। इधर नपाध्यक्ष पुलिया निर्माण के लिए जल्द टेंडर होने के बाद काम शुरू होने की बात कर रहे हैं।

Hello MDS Android App

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply