Breaking News

गांधीसागर को अंर्तराष्ट्रीय पर्यटन केंद्र बनाने के प्रयास तेज

Story Highlights

  • इसी साल 5 से 15 अक्टूबर तक होगा गांधीसागर में होगा महोत्सव
  • महोत्सव आयोजन की सभी तैयारियों समय रहते पूरी कर ली जायें- प्रभारी मंत्री श्रीमती चिटनीस

मंदसौर निप्र। गांधीसागर को अंर्तराष्ट्रीय स्तर का पर्यटन केन्द्र बनाने की दिशा में म.प्र. पर्यटन विकास निगम एवं जिला प्रशासन मंदसौर ने अपने प्रयास तेज कर दिये है। म.प्र. पर्यटन विकास निगम एवं जिला प्रशासन मंदसौर हनुवन्तिया जल महोत्सव की तर्ज पर जिले के गांधीसागर बांधस्थल में इसी साल एक महोत्सव आयोजित करने की तैयारी कर रहा है। इस महोत्सव के आयोजन के साथ ही गांधीसागर रिर्सोट और बोट क्लब का शुभारंभ भी किया जायेगा। गांधीसागर में इस 10 दिवसीय महोत्सव का आयोजन 5 से 15 अक्टूबर तक किया जायेगा। गांधीसागर में यह महोत्सव आयोजित करने की पूर्व तैयारी एवं महोत्सव के नामकरण हेतु 21 मई को मंदसौर व नीमच जिले के जनप्रतिनिधियों एवं जिलाधिकारियों की एक संयुक्त बैठक जिला पंचायत, मंदसौर के सभागार में सम्पन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री तथा मंदसौर व नीमच दोनों जिलों की प्रभारी मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस ने की। मालूम हो कि वर्ष 1998 से पहले नीमच अविभाजित मंदसौर जिले का ही हिस्सा था। प्रभारी मंत्री श्रीमती चिटनीस ने इस महोत्सव के आयोजन के लिए दोनो ही जिलों के जनप्रतिनिधियों व जिलाधिकारियों को एक बडे आयोजन के लिए संयुक्त रूप से बैठक लेकर एक नवाचारी प्रयास का आगाज किया।
बैठक में प्रभारी मंत्री श्रीमती चिटनीस ने दोनों ही जिलों के अधिकारियों को परस्पर समन्वय से गांधीसागर में जल महोत्सव के आयोजन की सभी तैयारियां एवं आवश्यक व्यवस्थाएं समय रहते पूरा कर लेने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार प्रदेश में पर्यटन स्थलों के विकास एवं यहां आने वाले पर्यटकों के लिये सभी जरूरी सुविधाओं के विस्तार की हर कोशिश कर रही है। अतः सभी तैयारियां एवं जरूरी व्यवस्थाएं बेहद आला दर्जे की हों। जल महोत्सव में आने वाले किसी भी पर्यटक को किसी भी प्रकार की असुविधा न हो, यह सुनिश्चित किया जाए। उन्होने कहा कि गांधीसागर जल्द ही एक अंर्तराष्ट्रीय पर्यटन केन्द्र के रूप में विश्व विख्यात हो सके, इसके लिए महोत्सव का बडे व्यापक स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जाये। महिलाओं और बच्चों को इससे जोडा जाये। ऐसे व्यक्ति, महिलाएं और बच्चों जो मंदसौर व नीमच जिले से बाहर जाकर बडे-बउे पदों पर अपनी सेवाएं दे रहें हैं तथा दोनो ही जिलों के सभी स्कूलों, कालेजेस के एल्युमिनीज को इस महोत्सव में आमंत्रित किये जाये। प्रयास हो कि यह महोत्सव दोनो जिलों की प्रगति का द्योतक बनें। प्रभारी मंत्री ने कहा कि इस महोत्सव में आने के शुल्क के रूप में प्रत्येक पर्यटक को पौधा लगाना होगा और उसके संरक्षण का संकल्प लेना होगा। गांधीसागर में होने वाले महोत्सव का संपूर्ण क्षेत्र प्लास्टिक व पाॅलिथीन फ्री जोेन होगा।
बैठक में सांसद सुधीर गुप्ता, जिला पंचायत अध्यक्षा,जिला पंचायत अध्यक्षा नीमच श्रीमती अवंतिका जाट, मनासा विधायक कैलाश चावला, नीमच विधायक दिलीप सिंह परिहार, सुवासरा विधायक हरदीपसिंह डंग, गरोठ विधायक चन्दरसिंह सिसौदिया, जिला भाजपाध्यक्ष देवीलाल धाकड, सुवासरा के पूर्व विधायक राधेश्याम पाटीदार, जिला पंचायत सदस्य निहालचन्द मालवीय, जनपद अध्यक्ष मंदसौर शांतिलाल मालवीय, मंदसौर कलेक्टर स्वतंत्र कुमार सिंह सहित दोनो ही जिलों के अन्य जनप्रतिनिधिगण एवं आला अधिकारीगण मौजूद थे।
बैठक में इस महोत्सव के नामकरण के लिए प्रभारी मंत्री ने सभी से सुझाव मांगे। सभी ने महोत्सव के लिए अलग अलग नाम सुझााये। इस पर प्रभारी मंत्री ने महोत्सव के नामकरण एवं लोगो फाईनल करने के लिए सोशल मीडिया पर आॅनलाईन प्रतियोगिता कराने की बात कही। यह आॅनलाईन प्रतियोगिता मंगलवार (23 मई से) प्रारंभ होकर अगले मंगलवार अर्थात 30 मई तक चलेगी।
इस महोत्सव के नामकरण एवं लोगो सहित स्लोगन व जिंगल्स के चयन के लिए प्रभारी मंत्री ने ज्यूरी का गठन भी कर दिया।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts