Breaking News

गुरुवाणी की धुन पर निकले पंज प्यारे : समरस हुआ मंदसौर

मंदसौर। श्री गुरुनानक जयंती के अवसर पर मनाए जा रहे प्रकाशोत्सव के तहत गुरुवार को सिख समाज द्वारा ‘नगर संकीर्तन’ निकाला गया। गुरुवाणी की धुन पर समाजजन शहर के प्रमुख मार्गों पर निकले। गुरु ग्रंथ साहेब और पंज प्यारे की अगवानी में समाज की महिलाओं ने सड़कों को धोकर फूल बिछाए। जिस मार्ग से भी संकीर्तन निकला, पूरा मार्ग फूलों से पट गया।

सिख समाज द्वारा गुरुनानक जयंती 4 नवंबर को मनाई जाएगी। इस मौके पर पांच दिवसीय प्रकाशोत्सव मनाया जा रहा है। गुरुवार को नई आबादी स्थित गुरुद्वारे से दोप.1.30 बजे नगर संकीर्तन निकला। संकीर्तन में पंज प्यारे की अगुवाई में गुरु ग्रंथ साहेब को नगर भ्रमण कराया गया। महिला, पुरुष व बच्चे गुरुनानकजी के जयकारे लगा रहे थे। संकीर्तन में लुधियाना (पंजाब) से आई गतका पार्टी (अखाड़ा) के कलाकारों ने कई करतब दिखाए। कीर्तन के आगे-आगे समाज की महिलाएं सड़क को बुहारकर पानी से धो रही थी। इसके बाद कुछ महिलाएं पंज प्यारे की राहों में फूल भी बिछा रही थीं। पूरे रास्ते भर गुरु ग्रंथ साहेब की पूजा भी की गई। चल समारोह के पीछे ट्रेन जैसे वाहन में समाज के बच्चे व युवा बैठ सवारी का आनंद ले रहे थे। नगर संकीर्तन नई आबादी गुरुद्वारे से सहकारी बाजार रोड, महू-नीमच राजमार्ग, गोल चौराहा मार्ग, डीकेवाय, बीपीएल चौराहा, गांधी चौराहा, नेहरू बस स्टैंड, भारतमाता तिराहे, घंटाघर सहित नगर के विभिन्न मार्गों से होते हुए गुरुद्वारा पहुंचा। मार्ग में जगह-जगह लगभग 25 समाज के लोगों ने जुलूस का स्वागत किया। गुरुद्वारा में शाम को अरदास हुई।

इन्होंने किया स्वागत

बीपीएल चौराहा पर सकल ब्राह्मण समाज, गुरुद्वारे के पास नारंग परिवार द्वारा, भाजपा व कांग्रेस द्वारा कार्यालयों के सामने, मुस्लिम मंच द्वारा दयामंदिर रोड, समरस्ता मंच द्वारा भारत माता चौराहा & दयामंदिर रोड, हरबनसिंह टूटेजा परिवार सहित कई समाज व संस्थाओं द्वारा जगह-जगह स्वागत किया गया। करीब 45 से अधिक जुलूस का स्वागत किया गया।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts