Breaking News

गोबर के गोवर्धन बनाकर किसानों ने मनाई दीपावली

मंदसौर। दीपोत्सव पर्व के चौथे दिन आठ नवंबर को गोवर्धन पूजा के साथ मंदिरों में अन्नाकूट महोत्सव मनाया जाएगा। गांवों में किसानों सहित पशुपालकों की दीपावली भी इसी दिन मनेगी। गोबर के गोवर्धन बनाकर पूजा करने की मान्यता ग्रामीण क्षेत्रों सहित गोपालकों में प्रचलित है। बुधवार से पशुपालकों ने गाय-बेलों को मेहंदी लगाकर सजाना शुरू कर दिया। बेड़े व अन्य सामग्री से उनको सजाया गया। गोवर्धन पूजा के साथ ही जिलेभर के मंदिरों में वर्षाकाल में नहीं खाने जाने वाली सब्जियों बैंगन,मूली, कद्दू,पालक, मैथी को मिलाकर अन्नाकूट का प्रसाद बनाया जाएगा। आठ नवंबर को होने वाली गोवर्धन पूजा के लिए ग्वाला समाज सहित अन्य पशुपालकों ने बुधवार से ही तैयारियां शुरू कर दी।

बुधवार दोपहर बाद से ही गोवंश को मेहंदी लगाना प्रारंभ कर दी गई। उनके सींगों को तरह-तरह के रंगों से रंग किए गए। पशुपालक अपने पशुओं को गुरुवार को बेडे व अन्य सजावट सामग्री से सजाएंगे। गोधन के पैरों में घुंघरु व गले में घंटी बांधकर श्रृंगार किया जाएगा। आठ नवंबर को सुबह गोबर के गोवर्धन बनाकर पूजा करने से पहले सभी गोवंश की पूजा होगी। उसके बाद ही उन्हें घर से बाहर निकाला जाएगा।

पूर्व पार्षद रमेश ग्वाला ने बताया कि सुबह गाय-बैलों व बछड़ों को सजाकर पूजा करने के बाद उन्हें घर से बाहर निकालते समय थाली बजाकर अभिनंदन किया जाता है। उसके बाद गोवर्धन देव की पूजा की जाती। इससे की पशुधन की समृद्धि व अच्छे स्वास्थ्य की कामना होती है।

गायों की सजावटी सामग्री बेचने वाले नेहरू बस स्टैंड से लेकर घंटाघर तक कालिदास मार्ग बैठ रहे। बुधवार को भी ग्रामीण क्षेत्रों से आए लोगों ने बडी संख्या में खरीदी की। ऊन के बेडे 30 से लगाकर 60 रुपए में बिक रहा है। चमक वाली डबल फुंदा 60 रुपए जोड़ा, सिंगल चोटी वाली 30 रुपए जोड़ा, केदार फुंदा 60 रुपए जोड़, फुल चोटी 30 रुपए जोड़, रेशम 50 रुपए, झूमर 150 रुपए व घंटी वाली रस्सी 40 रुपए में बिक रही है। पिछले साल की अपेक्षा इस बार सामग्री मंहगी होने से भाव में बढोतरी हुई है।

इस वर्ष दीपावली पर पशुधन को सजाने के लिए अनेक तरह के बेड़े लाए गए। ग्राहकी भी अच्छी रही है। पशुपालकों ने उत्साहपूर्वक बड़ी मात्रा में पशुओं को सजाने की सामग्री खरीदी। कारोबार उम्मीद से कम लेकिन अच्छा हुआ है।

गौधन व बैलों की सजावटी सामग्री ग्रामीण क्षेत्र के साथ शहरी क्षेत्र के पशुपालकों ने जमकर खरीदारी की है। सुबह से ही लोग सजावट की सामग्री खरीददारी कर रहे हैं। इस साल भी अच्छी खरीदारी हुई है। गत वर्ष की अपेक्षा इस साल सामग्री मंहगी होने से पशुओं की सजावट सामग्री कुछ महंगी हुई है।

 

गोवर्धन पूजा कर दिलाई मतदान करने की शपथ

दिवाली के पावन पर्व के अवसर पर सभी महिलाओं को मतदान करने की शपथ भी सेक्टर ऑफिसरों के द्वारा दिलाई गई। इस दौरान बड़ी धूमधाम से महिलाओं ने ग्रामीण क्षेत्रों में भगवान गोवर्धन की पूजा की। पूजा अर्चना करने के पश्चात सभी महिलाओं ने मिलकर मतदान करने की शपथ ली। साथ ही अपनी सहेली महिलाओं को भी मतदान करने की शपथ दिलाई। इस दौरान उन्होंने सभी से आग्रह भी किया कि सब काम छोड़ दो सबसे पहले वोट दो, चूल्हा जलेगा जब, जब देंगे वोट इस तरह के स्लोगन भी मतदाताओं के मुंह से सुनने को मिले। शपथ लेते हुए सभी महिला मतदाताओं ने कहा कि “हम भारत के नागरिक लोकतंत्र में अपनी पूर्ण आस्था रखते हुए यह संकल्प लेते है कि अपने देश की लोकतांत्रिक परम्पराओं की मर्यादा को बनाए रखेगे तथा स्वतंत्र, निष्पक्ष व शांति पूर्ण निर्वाचन की गरिमा को अक्षुण्ण रखते हुए, निर्भिक होकर धर्म व जाति, समुदाय, भाषा अथवा अन्य किसी भी प्रलोभन से प्रभावित हुए बिना अपने मताधिकार का प्रयोग करेगें । ” इस दौरान मतदाताओं के चेहरे पर एक अलग प्रकार की खुशी एवं रौनक देखी गई। मतदाता जागरूकता की लहर हर घर में व्याप्त हो चुकी है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts