Breaking News

ग्राम रोजगार सहायको ने किया मतदान के अधिकार का त्याग

मन्दसौर। जिले की 441 ग्राम पंचायतो में कार्यरत ग्राम रोजगार सहायक दिन-रात मेहनत करते है जिले में शासन की महत्वपूर्ण योजनाओ जैसे मनरेगा प्रधानमंत्री आवास, स्वच्छ भारत मिषन सहित लगभग सभी विभागिय योजनाओ को धरातल पर सफलतम रूप् से संचालित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे है। वर्तमान में मध्यप्रदेष के ग्राम रोजगार सहायको ने मात्र 15 दिवस में मध्यप्रदेष शासन की महत्ति योजना असंगठित क्षैत्र के मजदुरो का पंजीयन के अंतर्गत लगभग 2 करोड श्रमिको का पंजीयन कर योजना को सफल बनाया है। मध्यप्रदेष सरकार द्वारा 2013 में पंचायत संविधान की धारा 69/1 के अंतर्गत ग्राम पंचायतो का सहायक सचिव घोषित किया है। मध्यप्रदेष की 23000 ग्राम पंचायतो के सहायक सचिव विगत 15 मई 2018 से इसी सहायक सचिव पद पर जिला संविलियन कर नियमितिकरण की मांग को लेकर हडताल कर धरने पर बैठे हुये है। मन्दसौर जिले के सभी सहायक सचिव विगत 28 दिनो से जनपद पंचायत मन्दसौर में धरने पर बैठे हुये है। किन्तु ग्राम पंचायतो में दिन-रात काम करने वाले सहायक सचिवो की मांगो के संबंध में आज दिनांक तक शासन के कानो पर जु तक नहीं रेंगी। इससे जिले के सहायक सचिव अपने आपको शोषित महसूस कर रहे है, यह शासन का भेदभाव पूर्ण और प्रत्यक्ष रूप से तानाषाही रवैया है।

इस आषय की जानकारी देते हुये मध्यप्रदेष पंचायत सहा. सचिव के जिलाध्यक्ष सुरेषसिंह परमार ने बताया कि वर्तमान जिले की ग्राम पंचायत में कार्यरत सभी सहायक सचिव युवा है और युवा देष की शक्ति होते है, किंतु सरकार इन युवाओ का आर्थिक और मानसीक शोषण कर रही है युवाओ का इस प्रकार से शोषण लोकतंत्र की हत्या है और जहा लोकतंत्र की हत्या हो वहा मतदान करने का कोई अर्थ नही होता है। इसलिये मन्दसौर जिले की सहायक सचिवो ने निर्णय लिया है कि हम आज से अपने मतदान के अधिकार का त्याग कर रहे है और अपने मतदाता परिचय पत्र माननीय महोदय की और प्रेषित कर रहे है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts