Breaking News

घर में फैला करंट, नानी और नातिन जिंदा जल कर हुई मौत

Hello MDS Android App

ग्राम पलेवना में करंट लगने से नानी और मासूम नातिन जिंदा जल गई। दोनों की मौके पर दर्दनाक मौत हो गई। घर के पुरुष सदस्य खेत पर अफीम की निगरानी करने गए थे। सुबह बेटा घर पहुंचा तो मां एवं भानजी को घर के अंदर झुलसा देखा। दरवाजे को हाथ लगाया तो उसे भी करंट का झटका लगा। सूचना मिलने पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर पंचनामा बनाया। कमरे को सील कर दिया। करंट फैलने का कारण मकान के बाहर झूल रहे बिजली के तारों का लोहे के दरवाजे को छूना बताया जा रहा है। महिला और नन्हीं बालिका की मौत के बाद गांव में गमगीन माहौल है।

जानकारी के अनुसार ग्राम पलेवना निवासी सज्जनसिंह सौंधिया राजपूत एवं उनके पुत्र रणजीतसिंह बुधवार रात्रि में 9.30 बजे घर से भोजन कर खेतों की रखवाली करने चले गए थे। रात्रि में उनकी पत्नी गवराबाई (50) और नातिन वीराबाला पिता अर्जुनसिंह (5) निवासी सिरखेड़ा जिला नीमच घर पर ही थे। गुरुवार सुबह लगभग 6 बजे पुत्र रणजीतसिंह चाय लेने के लिए घर आया तो घर के दरवाजे खुले हुए थे मां एवं भानजी झुलसी हुई थी। पहले शंका हुई कि घर से चोर अफीम के कुंडे चोरी कर ले गए। जैसे ही कदम बढ़ाकर दरवाजे पर हाथ लगाया तो करंट का झटका लगा। भयावह मंजर देख शोर मचाकर पड़ोसियों को बुलाया। बाद में पुलिस को भी सूचना दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर पंचनामा बनाया एवं मर्ग कायम कर मामले की जांच शुरू की। पिपलियामंडी चौकी प्रभारी रीना एक्का ने बताया कि प्रथम दृष्टया करंट से ही मौत होने की आशंका है। विस्तृत जानकारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में ही मिल पाएगी।

मकान के बाहर तारों का जंजाल
पूर्व सरपंच लक्ष्मणसिंह चौहान एवं प्रहलादसिंह परिहार ने बताया कि घटना की जानकारी मिलने पर वे मौके पर पहुंचे थे तो मकान के बाहर तारों का जंजाल था। कुछ तार दरवाजे से भी अड़ रहे थे। रणजीतसिंह द्वारा करंट लगने का बताने पर सबसे पहले तार हटाया गया। अंदर महिला एवं बालिका बुरी तरह झुलसे हुए थे।

पोस्टमार्टम के लिए तीन घंटे का इंतजार
मृतकों के परिजनों ने बताया कि हृदय विदारक हादसे के बाद भी जिला चिकित्सालय में महिला एवं बालिका के पोस्टमार्टम के लिए तीन घंटे तक इंतजार करने के बाद भी पोस्टमार्टम नहीं हुआ। सुबह 9 बजे से 12 बजे तक कई बार बुलाने के बाद भी किसी भी चिकित्सक ने पोस्टमार्टम नहीं किया। बाद में कुछ लोगों ने प्रदेश भाजपा महामंत्री बंशीलाल गुर्जर को सूचना दी। गुर्जर ने तत्काल हस्तक्षेप कर दोनों के शव का पोस्टमार्टम कराया।

गमगीन माहौल में हुआ अंतिम संस्कार
साधारण जीवन जीने वाले एवं मुख में कैंसर रोग से पीड़ित सज्जनसिंह परिहार पहले से ही परेशान थे। कुछ समय से बोल भी नहीं पाते हैं। वहीं पुत्र भी दिव्यांग है। गुरुवार की सुबह उन्हें एक ओर दर्द दे गई। हादसे के बाद वे बेसुध से हो गए॥ दोपहर में मृतिका महिला एवं नातिन के अंतिम संस्कार के दौरान ग्रामीणों की आंखों में आंसू छलक पड़े।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *