Breaking News

चायना डोर के खिलाफ बच्‍चों ने दिया ज्ञापन

वैसे तो कहने को चायना का फटाका सहित अनेक वस्तुओं पर प्रतिबंध लग चुका है। इन वस्तुओं के साथ चायना की डोर पर भी प्रतिबंध लगा हुआ है लेकिन फिर भी कई दुकानदार ज्यादा कमाई होने के कारण चायना की डोर बेच रहे है। चायना की डोर नायलोन की होती है तथा वह हानिकारक होती है। इसी चायना की डोर के कारण कई बच्चों व बड़ों के हाथ, गला कट चुके है तथा घायल हुए है व कई मासूम बच्चों की मृत्यु तक हो गई है।
इन्हीं सब बातों को देखते हुए बालक ऋषभ चैरडि़या ने अपने मित्रों के साथ कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर कलेक्टर के नाम एक ज्ञापन एस.डी.एम. श्री राजावत को प्रस्तुत किया। बालक ऋषभ चैरडि़या ने बताया कि जिस प्रकार से हमने चायना के फटाकों का बहिष्कार कर उसको नहीं खरीदा था उसी प्रकार हमें चायना की डोर का बहिष्कार भी करना चाहिए। तथा पतंग व्यापारियों को भी जनहित की भावना को समझते हुए चायना (नायलोन) की डोर को विक्रय नहीं करना चाहिये।
ऋषभ के साथ नन्हें-नन्हें बच्चे निहाल सोमानी, कपिल चावड़ा, रोशनी देवड़ा, अंजली चावड़ा, माही माहेश्वरी, पे्रम सोनी, मोहित बैरागी, कमलेश सोनी, रानी चैरडि़या, ट्वींकल चैरडि़या, संयम चैरडि़या, युगम चैरडि़या, यश जैन, चहक चिचानी, आराध्य चिचानी, मितांशु चिचानी, सोम्य पोरवाल, वंश पुरोहित, आयुषी मोदी, नन्नू सोनी, प्रीतिका मोदी सहित कई बच्चों ने कलेक्ट्रेट पहुंचकर चायना डोर पर प्रतिबंध लगाने की मांग की।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts