Breaking News

चैतन्य आश्रम मेनपुरिया के संरक्षक संत नित्यानंद महाराज काशी में ब्रह्मलीन हुए

मन्दसौर। श्रीमद् भागवत कथा के माध्यम से क्षेत्र में धर्म के प्रति चेतना जागृत करने वाले एवं चैतन्य आश्रम मेनपुरिया के संरक्षक संत नित्यानंद महाराज का रविवार की रात्रि में निधन हो गया।

काशी से प्राप्त जानकारी के अनुसार स्वामीजी का सन्यास धर्म के अनुसार विधि पूर्वक अंतिम संस्कार सोमवार की शाम को किया गया। समाचार मिलने के पश्चात् चैतन्य आश्रम मेनपुरिया के संरक्षक स्वामी धीरेशानन्दजी महाराज तथा भागवत प्रवक्ता पं. कमलेश शास्त्री मंदसौर से कार से उदयपुर पहुंचकर प्लेन से काशी अंतिम संस्कार में भाग लेने पहुंचे। प्रहलाद काबरा ने बताया कि स्वामी धीरेशानन्द महाराज के काशी से लौटने पर एक वृहद शोक सभा श्री चैतन्य आश्रम मेनपुरिया में रखी जाएगी जिसकी सूचना पृथक से जारी की जाएगी। काशी में उनके मुखारविंद से 8 जनवरी से प्रारंभ भागवत सप्ताह समापन के 1 दिन पूर्व 13 जनवरी को उनके मुखारविंद से कथा प्रवचन के पश्चात् रात्रि 1 बजे अर्थात् मध्य रात्रि बाद दूसरे दिन 14 जनवरी सोमवार को देह त्याग कर हमेशा के लिए शिव समाधिष्ठ हो गए।

सरल, सादगीपूर्ण व प्रेम सद्भाव से परिपूर्ण था उनका व्यक्तिव

संत नित्यानंद महाराज के देवलोकगमन पर जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष प्रकाश रातडिय़ा ने शोक संवेदना व्यक्त कर श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि नित्यानंदजी महाराज का पूरा जीवन भारतीय संस्कृति के आदर्शों को समर्पित रहा। वे त्याग तपस्या और धर्मप्रचार में आजीवन समर्पित रहे। उनका व्यक्तित्व सरल, सादगीपूर्ण व प्रेम सद्भाव से परिपूर्ण था। देवभूमि बनारस में भागवत कथा करते हुए उनका महाप्रयाण हुआ। उन्होंने इसे दशपुर अंचल की आध्यात्मिक क्षेत्र की क्षति बताया है। आध्यात्मिक चेतना अभियान के संयोजक विनोद शर्मा, रमेश ब्रिजवानी, रामगोपाल शर्मा, कृष्णकुमार जोशी, योगेन्द्र जोशी ने श्रद्धांजली दी।

 

इन्होंने दी श्रद्धांजली

बंशीलाल टांक ने बताया कि भानपुरा पीठाधीश्वर शंकराचार्य स्वामी दिव्यानंद तीर्थ महाराज, धर्मधाम गीता भवन अध्यक्ष एवं संत रामनिवास महाराज, विधायक यशपालसिंह सिसौदिया, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के डॉ. रविन्द्र पाण्डेय, जिला कांग्रेस अध्यक्ष प्रकाश रातडिय़ा, प्रहलाद काबरा, डॉ. घनश्याम बटवाल, दयाराम दग्धी, राधेश्याम सिखवाल, जगदीशचन्द्र सेठिया, शंकरलाल मानसिंघका, कारूलाल सोनी, ओमनारायण शर्मा ने शोक संवेदना व्यक्त करते हुए श्रद्धांजली अर्पित की। विभिन्न स्थानों से निरंतर शोक संवेदना संदेश प्राप्त हो रहे है।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts