Breaking News

जर्मनी के FHM विश्वविद्यालय के डायरेक्टर डॉ. कार्टसन डोमान ने दिया व्याख्यान

मंदसौर। मंगलवार को मंदसौर विश्वविद्यालय में एक व्याख्यान आयोजित किया गया जिसका मुख्य शीर्षक “शिक्षा के अंतर्राष्ट्रीयकरण तथा साझा शोध कार्यक्रमों की संभावनाएं” था। इस व्याख्यान के मुख्य वक्ता जर्मनी के एफएचएम विश्वविद्यालय के डायरेक्टर तथा अंतर्राष्ट्रीय ऑफिसर डॉ. कार्टसन डोमान थे।

मंदसौर विश्वविद्यालय ने अपनी उपलब्धियों में एक पड़ाव और आगे बढ़ाते हुए जर्मनी की उक्त एफ.एच.एम. विश्वविद्यालय से भी रिसर्च तथा स्टूडेंट्स एक्सचेंज प्रोग्राम को लेकर एमओयु (साझा कार्यक्रम) परिपत्र पर चर्चा की गयीI पूर्व में भी मंदसौर विश्वविद्यालय के रूस की मॉस्को स्टेट विश्वविद्यालय के साथ भी यह एमओयु हताक्षरित हो चुके है। अब मंदसौर के छात्र छात्रों के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर शिक्षा के लिए नए आयाम स्थापित कर चूका है जिसका लाभ मंदसौर एवं आस पास के सभी क्षेत्रों के बच्चों को मिल सकेगा।

मंदसौर विश्वविद्यालय की केंद्रीय गतिविधियों के संयोजक डॉ. लोकेश्वर सिंह जोधाणा ने कार्यक्रम की जानकारी देते हुए बताया की व्याख्यान की शुरुआत विश्विद्यालय के विद्यार्थियों के स्वागत सम्बोधन से हुयी। मुख्य वक्ता ने शिक्षा के क्षेत्र में अंरर्राष्ट्रीयकरण के ऊपर प्रकाश डाला तथा अभी चल रहे शोध कार्यकर्मो के बारे में जानकारी प्रस्तुत की। जर्मनी की एफ.एच.एम. विश्वविद्यालय द्वारा जर्मनी में 8 विभिन्न स्थानों पर अपने कैम्पस, विभिन्न कॉलेजों के तहत संचालित कर रहा हैं। डॉ. डोमान के व्याख्यान के पश्चात उन्होंने विश्वविद्यालय के कैम्पस का भ्रमण किया तथा चल रहे विभिन्न विभागों के बारे में रुचिपूर्ण तरिके से जानकारी ली। अंत में विश्वविद्यालय प्रबंधन के कुलाधिपति श्री नरेंद्र नाहटा, कार्यकारी अध्यक्ष श्री राहुल नाहटा, कुलपति डॉ. शैलेन्द्र शर्मा तथा कुल सचिव प्रो. आशीष पारीख के साथ मंत्रणा कर भविष्य की व्यापक सम्भावनाओ पर चर्चा की। कार्यक्रम का आभार डीन प्रबंधन आनंद कुमार ने माना। कार्यक्रम में पत्रकारिता विभाग के विभागाध्यक्ष अनुराग त्रिवेदी, फार्मेसी डायरेक्टर डॉ. अमित जैन, मैनेजमेंट हेड अविनाशविक्रम व मुदिता नागर के साथ विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों के छात्र – छात्राएं उपस्थित थे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts