Breaking News

जल्द रुपए कमाने के चक्कर में गए जेल..

Hello MDS Android App

उन्होंने कहा कि आरोपी शाहरुख ने नवबंर माह में राजेश नामदेव को धमकी दी थी। लेकिन उस समय ना तो नामदेव ने रूपए दिए और ना ही पुलिस में शिकायत की। इसके बाद शाहरुख ने कुछ और लोगों को शामिल करने की बात सोची और जोडऩा शुरु किया। शाहरुख ने गोलू और फरहान को जोड़ा। तीनों ने और बढ़ी गैंग करने का सोचा और अरशद से मुलाकात की। इसके बाद अमजद और मोईन को गंैग भी शामिल कर लिया। उन्होंने बताया कि आरोपी कम समय में जल्दी से रूपए कमाना चाह रहे थे।

व्यास पेट्रोल पंप संचालक का कीडनेप करने की बनाई प्लानिंग
एसपी त्रिपाठी ने बताया कि शाहरुख, गोलू और अन्य आरोपियों ने मोइन से पूछा की ऐसी पार्टी बताओ जो आसानी से पैसा दे सके। इस पर मोईन ने सीतामऊ के व्यास पेट्रोल पंप के संचालक का अपहरण कर फिरौती मांगने की बात कही। और उसके बाद सभी ने मिलकर संचालक के अपहरण की योजना बनाई। आरोपी संचालक का अपहरण करने के लिए एक पिस्टल, एक एयरगन और एक नकली रिवाल्वर ली। उसके बाद मंदसौर में पांच सौ क्वार्टर टिकरिया में एक कमरा किराए से भी देखा। ताकि अपहरण के बाद संचालक को यहां पर रख सके। इसके बाद योजना बनाई और रैकी की। कुछ दिनों में यह अपहरण करने वाले थे। इस दौरान पुलिस द्वारा आरोपियों के जुलूस निकालने की खबरों के कारण इन्होंने योजना बदल दी।

गोलू ने की नामदेव की रैकी तो अरशद ने दख की
उन्होंने बताया कि राजेश नामदेव के घर के सामने गोलू रहता था। इसने नामदेव की रैकी की और ट्रेवल्स संचालक सुनिल दख की रैकी लोडिंग का काम करने वाले अरशद ने की। दोनों ने सभी को नाम भी सुझाए थे। क्योंकि आरोपी साफ्ट टारगेट ढूंढ रहे थे। इसके लिए इन्होंने मोबाइल और दूसरे के नाम से सीम भी ली। इसके बाद जब पहली बार शाहरुख ने रूपए मांगे थे तो रूपए नहीं मिले थे। इसलिए अरशद ने दोनों का धमकी दी। अंसार और जाफर का नाम इसलिए लिया कि वे जेल में है और दोनों अपराधी भी है। प्रेसवार्ता में एएसपी अजयप्रताप सिंह, सीएसपी सांई कृष्णा थोटा, कोतवाली थानाप्रभारी विनोद सिंह, वायडीनगर थानाप्रभारी योगेंद्र सिंह उपस्थित थे।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *