Breaking News

जल्द ही मंदसौर नगर पालिका को मिलेगा नया कार्यवाहक अध्यक्ष!

मंदसौर. मंदसौर नपा के कार्यवाहक अध्यक्ष के नाम पर भोपाल बैठक में मंथन हुआ। मुख्यमंत्री व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ की मौजूदगी में लोकसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर हुई कांग्रेस की बैठक में मंथन चला। ऐसे में अब जल्द नपा को नया अध्यक्ष मिल सकता है। प्रदेश कांग्रेस सचिव राजीवसिंह नपा के सभी कांग्रेस पार्षदों से राय मशविरा करेंगे और वह सीएम को रिपोर्ट देंगे।

सिंह की रिपोर्ट पर सीएम कमलनाथ निर्णय करते हुए नपाध्यक्ष के नाम पर मुहर लगाएंगे। चीफ सेक्रेटरी को सीएम ने फोन भी लगाया और नोटशीट तैयार करने के निर्देश दिए। अब नाम तय होने के बाद सिर्फ नाम लिखना ही बचा है। सबकुछ ठीक रहा तो सोमवार तक निर्णय हो जाएगा। बैठक में क्षेत्र के नेताओं द्वारा एक ही नाम उठाया गया और बाकी नेताओं ने मौन रहते हुए अपनी मौन स्वीकृति दी। ऐसे में दूसरे पार्षद जो दावेदार है। उनमें विरोध बढ़ता जा रहा है।

हनीफ शेख का नाम बढ़ाया आगे
कांग्रेस सुत्रों की माने तो पूर्व विधायक ने ब्लॉक कांग्रेस अध्यक्ष हनीफ शेख का नाम कार्यवाहक अध्यक्ष के लिए रखा और वरिष्ठता के साथ पार्षदों के समर्थन की बात कही तो जिलाध्यक्ष ने भी शेख के नाम पर सहमति जताई। बैठक में मौजूद पूर्व सांसद व पूर्व मंत्री के भी शेख के नाम पर सहमत होने की बात अन्य नेता ने कही, लेकिन दोनों नेताओं ने नपाध्यक्ष के नाम पर बैठक में मौन धारण कर रखा था। इसके बाद सीएम कमलनाथ ने चीफ सेक्रेटरी को फोन लगाकर नोटशीट तैयार करने के निर्देश दिए। लेकिन बैठक के बाद फिर कमलनाथ के पास अन्य नेता पहुंचे और कहा कि इनके कह देने भर मात्र से सभी पार्षदों के इस नाम पर सहमति सही नहीं। सभी से बात करना होगी। इस पर प्रदेश सचिव राजीवसिंह को इसकी जिम्मेदारी दी और सभी से बात कर रिपोर्ट देने के लिए कहा गया। इसके बाद फिर चीफ सेक्रेटरी को फोन लगाकर कहा गया कि सिर्फ नोटशीट तैयार रखों नाम बात में लिखा जाएगा।

यह है नपा की राजनीति का गणित
शहर के ४० पार्षदों में से नपा में १७ कांग्रेस के है। बहुमत भाजपा का है। लेकिन प्रदेश में कांग्रेस की सरकार है। १७ जनवरी को नपाध्यक्ष प्रहलाद बंधवार की हत्या के बाद कुर्सी रिक्त हुई। ऐसे में उपचुनाव होने तक शासन स्तर से कार्यवाहक अध्यक्ष की नियुक्ति होना है। लेकिन कांग्रेस में अब तक किसी एक नाम पर सहमति नहीं बनने के कारण निर्णय अब तक नहीं हो पाया है।

कई पार्षद शेख के विरोध में
बैठक में हनीफ शेख का नाम आगे बढऩे से अध्यक्ष के लिए दूसरे दावेदार और अन्य पार्षद विरोध में है। शेख की पैरवी करते हुए नेताओं ने ११ पार्षदों के समर्थन की बात कही, लेकिन १७ में से ६ से ७ पार्षद दावेदार है। और दूसरे पार्षद भी अपने पास कोई ८ तो कोई १० के समर्थन की बात कह रहा है। दावेदार अन्य पार्षदों का कहना है कि यहां के नेता प्रदेश नेतृत्व को भी इतने पार्षदों का शेख को समर्थन होने की बात कहकर गलत जानकारी देकर उन्हें भ्रमित कर रहे है। ऐसे में यदि राय मशविरा हुई तो किसी एक नाम पर सहमति बन पाना मुश्किल है। नपा के अब तक के कार्यकाल में विपक्ष में रही कांग्रेस ने पार्षदों से चर्चा कर नेता प्रतिपक्ष भी नहीं चुना। और हनीफ शेख ही नेता प्रतिपक्ष की भूमिका अब तक सदन में निभाते आए है।

फोन पर ही राय के बाद आज हो सकता है निर्णय
कांग्रेस सुत्रों की माने तो नपाध्यक्ष के लिए कार्यवाहक के नाम का निर्णय सोमवार शाम तक हो सकता है। उसके पहले प्रदेश सचिव राजीवसिंह को सभी १७ कांग्रेस पार्षदों से रायमशविरा कर रिपोर्ट देने के लिए कहा है। ऐसे में आस लगाई जा रही है कि कांग्रेस पार्षदों से सिंह फोन पर चर्चा कर राय जानंगे और अपनी रिपोर्ट सोमवार को सीएम को सौंप देंगे। इसके बाद चीफ सेक्रेटरी के यहां नोटशीट में नाम जोडक़र इस पर मुहर लगाई जाएगी।

एक सप्ताह में हो जाएगा
एक सप्ताह में निर्णय हो जाएंगे। बैठक में चर्चा हुई है। किसी के नाम पर सहमति जैसा विषय नहीं है। सभी नाम संगठन के पास है। संगठन व सरकार स्तर से ही इसका निर्णय होगा।-प्रकाश रातडिय़ा, जिलाध्यक्ष, कांग्रेस

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts