Breaking News

जानिए नमक के प्रयोग द्वारा कैसे करें वास्तु दोष निवारण

Hello MDS Android App
प्रिय पाठकों/मित्रों, वैसे तो नमक का इस्तेमाल तो हम खाने में करते ही है। वहीं वास्तु शास्त्र में कहा जाता है कि नमक के कुछ उपाय से घर की नकारात्मक उर्जा दूर होती है। इसे नजर दोष उतारने के ल‌िए भी काम में लिया जाता है। दाल या सब्जी में नमक ज्यादा हो जाए तो नुकसान और कम हो तो भी नुकसान। नमक हमारी आयु बढ़ाता भी है और नमक ही आयु घटाता भी है। नमक का उपयोग करना बहुत कम लोग जानते हैं।  नमक कई प्रकार के होते हैं: सेंधा नमक (पहाड़ी नमक), समुद्री नमक, काला नमक, सामान्य नमक आदि। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार नमक को चंद्र और शुक्र का प्रतिनिधि माना जाता है। नमक में अद्भुत शक्ति होने के कारण घर में सकारात्मक ऊर्जा का आगमन होता है। इसके प्रयोग से धन और स्वास्थ्य के साथ-साथ राहु-केतु के अशुभ प्रभाव भी नष्ट होते हैं।कुछ लोग नमक को राहु का प्रतीक भी मानते हैं। राहु नकारात्मक उर्जा और कीट-कीटाणुओं का भी कारक माना गया है। ज‌िनसे घर में सुख समृद्ध‌ि और स्वास्‍थ्य प्रभाव‌ित होता है।
वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री  ने बताया की नमक का इस्तेमाल नजर दोष उतारने के ल‌िए भी क‌िया जाता है। अगर आपको लगता है क‌ि आपको या आपके पर‌िवार के क‌िसी सदस्य को नजर लगने पर एक चुटकी नमक उनके ऊपर से तीन बार घुमाने के बाद बाहर फेंक दें या पानी में बहा दें। ऐसा करने से नजर दोष समाप्त हो जाता है।
वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री  के अनुसार शीशे के बर्तन में नमक भरकर घर के क‌िसी कोने में रखने से घर में सकारात्मक उर्जा का संचार होता है। राहु, केतु की दशा चल रही हो या जब मन में बुरे-बुरे व‌िचार या डर पैदा हो रहे हों तब यह प्रयोग बहुत लाभ देता है। वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार नमक को चंद्र और शुक्र का प्रतिनिधि माना जाता है। नमक को यदि आप किसी स्टील या लोहे के बर्तन में रखते हैं तो यह चंद्र और शनि का मिलन होगा जो कि बहुत ही घातक सिद्ध होता है।   यह रोग और शोक का कारण बन जाता है। नमक को किसी प्लास्टिक के पात्र में भी नहीं रखना चाहिए। नमक को सिर्फ कांच के पात्र में रखने से ही यह बुरा असर नहीं देता है।
वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार नमक में गजब की शक्त‌ि होती है जो न स‌िर्फ आपके घर को सकारात्मक उर्जा से भर देती है बल्क‌ि आपके घर में सुख समृद्ध‌ि भी बढ़ाने का काम करती है। लेक‌िन इसके ल‌िए स‌िर्फ खाने में नमक नहीं कई दूसरे कामों में भी नमक का प्रयोग करना होगा।
आइए जानते है वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री से नमक के कुछ उपाय:—
01. वास्तु व‌िज्ञान के अनुसार शीशे के प्याले में नमक भरकर शौचालय और स्नान घर में रखना चाह‌िए इससे वास्तुदोष दूर होता है। इसका कारण यह है क‌ि नमक और शीशा दोनों ही राहु के वस्तु हैं और राहु के नकारात्मक प्रभाव को दूर करने का काम करते हैं। वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार राहु नकारात्मक उर्जा और कीट-कीटाणुओं का भी कारक माना गया है। ज‌िनसे घर में सुख समृद्ध‌ि और स्वास्‍थ्य प्रभाव‌ित होता है।
02. वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार आपके घर के वास्तुदोष को खत्म करने के लिए कांच की कटोरी में नमक डाल कर शौचालय और स्नान घर में रखें। नमक और कांच राहु की वस्तुएं होने के कारण उनके नकारात्मक प्रभाव को समाप्त करते हैं। राहु को नेगेटिव एनर्जी और कीट-कीटाणुओं का भी सूचक माना जाता है। ये घर के सुख, धन और स्वास्‍थ्य को प्रभाव‌ित करते हैं।
 03. कांच के पात्र में नमक डालकर घर के किसी भी कोने में रख दें। ऐसा करने से घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है। राहु, केतु की दशा या मन में बुरे व‌िचार अौर डर उत्पन्न होने पर यह उपाय लाभकारी सिद्ध होता है।
04. वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार शीशे के बर्तन में नमक भरकर घर के क‌िसी कोने में रखने से घर में सकारात्मक उर्जा का संचार होता है। राहु, केतु की दशा चल रही हो या जब मन में बुरे-बुरे व‌िचार या डर पैदा हो रहे हों तब यह प्रयोग बहुत लाभ देता है।
05. रात को सोते समय पानी में एक चुटकी नमक म‌िलकार हाथ पैर धोने से तनाव दूर होता है और नींद अच्छी आती है। राहु और केतु के अशुभ प्रभाव भी इससे दूर होते हैं।
06. वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार टुकड़े वाले नमक को लाल रंग के वस्त्र में बांधकर पोटली बनाकर घर के मेन गेट पर लटकाने से बुरी शक्तियां घर में प्रवेश नहीं कर सकती। व्यापार में प्रगति के लिए कार्यस्थल के मुख्य द्वार पर अौर लॉकर के ऊपर पोटली लटकाने से लाभ मिलता है।
07. रात्रि से पूर्व पानी में चुटकी भर नमक मिलाकर हाथ-पांव धोने से चिंताअों से छुटकारा मिलता है अौर अच्छी नींद आती है। राहु एवं केतु के अमंगल प्रभाव भी नष्ट होते हैं।
08. वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार डली वाला नमक लाल रंग के कपड़े में बांधकर घर के मुख्य द्वार पर लटकाने से घर में क‌िसी बुरी ताकत का प्रवेश नहीं होता है। कारोबर में उन्नत‌ि के ल‌िए अपने व्यापार‌िक प्रत‌िष्ठान के मुख्य द्वार पर और त‌िजोरी के ऊपर लटकाना लाभप्रद माना गया है।
10. घर में रॉक साल्ट लैंप रखने से सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है। वास्तु के अनुसार इस उपाय से घरेलू जीवन में समन्वय अौर सुख-समृद्धि बढ़ती है। रोगों का भी नाश होता है।
11. सप्ताह में एक बार नमक मिले पानी से बच्चों को स्नान करवाने से नजर दोष अौर स्वास्‍थ्य संबंधी परेशानियों में कमी आती है।
12. डली वाला नमक लाल रंग के कपड़े में बांधकर घर के मुख्य द्वार पर लटकाने से घर में क‌िसी बुरी ताकत का प्रवेश नहीं होता है। कारोबर में उन्नत‌ि के ल‌िए अपने व्यापार‌िक प्रत‌िष्ठान के मुख्य द्वार पर और त‌िजोरी के ऊपर लटकाना लाभप्रद माना गया है।
13. विशेष सावधानी- वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार नमक को कभी भी सीधे सीधे किसी व्यक्ति के हाथ में नहीं देना चाहिए । नमक का पैकेट भी देने से बचना चाहिए। ऐसा मानते हैं कि इससे व्यक्ति के संबंध खराब होते हैं। हर कहीं का नमक या नमकीन न खाएं इस बात का हमेशा ध्यान रखें। मजबूरी में या दबाव में किसी का नमक मत खाइये इससे आपका बड़ा नुकसान हो सकते है। नमक उसी का खाइये जिसके संस्कार अच्छे हों और जो धर्म सम्मत आचरण करता हो।
14. रात को सोते समय पानी में एक चुटकी नमक म‌िलकार हाथ पैर धोने से तनाव दूर होता है और नींद अच्छी आती है। राहु और केतु के अशुभ प्रभाव भी इससे दूर होते हैं।
15. वास्तुशास्त्री पंडित दयानन्द शास्त्री के अनुसार सप्ताह में एक बार गुरुवार को छोड़कर पोंछा लगाते समय पानी में थोड़ा साबुत खड़ा नमक (समुद्री नमक) मिला लेना चाहिए। इस उपाय से भी घर की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाती है। वातावरण की पवित्रता बढ़ती है। इससे लक्ष्मी प्राप्ती का मार्ग खुलेगा और घर में बरकत भी बनी रहेगी।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *