Breaking News

जिला चिकित्सालय के गिरते स्वास्थ्य पर जनप्रतिनिधियों को शर्म आनी चाहिये-कांग्रेस

जिला अस्पताल को जनप्रतिनिधियों ने प्राइवेट अस्पतालों से साँठगाँठ के चलते रेफ़र अस्पताल बना दिया-कांग्रेस

मन्दसौर। जिला चिकित्सालय मन्दसौर कहने को तो जिले का सबसे बड़ा अस्पताल है और प्रदेश के 8 बड़े अस्पतालों की सूची में आता है,किन्तु सुविधाओं और ईलाज के नाम पर  केवल शून्य है जहाँ पर जिले भर के अस्पतालों से मरीज रेफ़र होकर आते है और यहाँ से भी हायर सेंटर को रेफर कर दिए जाते है यह बात जिला कांग्रेस प्रवक्ता शैलेन्द्र जोशी ने कहते हुए बताया कि जिला अस्पताल प्रदेश के सबसे बड़े अस्पतालो की सूची में आता है और चिकित्सा के नाम पर यहाँ मरीजो के साथ सिर्फ और सिर्फ खिलवाड़ किया जाता है।ना तो दवाएँ उपलब्ध और ना ही डॉक्टर्स सही समय पर उपलब्ध होते है।सिर्फ और सिर्फ आने वाले मरीजों को रेफर करने का काम यहाँ का स्टॉफ करता है।फिर भी मन्दसौर के बेशर्म जनप्रतिनिधि जिला अस्पताल की सुध नही ले रहे है।
जोशी ने आगे बताया कि अस्पताल में एक भी गहन चिकित्सा इकाई (आई.सी.यू.) वर्तमान में उपलब्ध नही है, छोटी-छोटी समस्याओं के लिए आमजन को निजी अस्पतालों में भर्ती हो ईलाज करवाना पड़ता है। किसी आपातकालीन दुर्घटना की स्थिति में जिले के एकमात्र बड़े अस्पताल में पर्याप्त चिकित्सा हेतु दवाएँ, स्टाफ भी उपलब्ध नही है। जनप्रतिनिधि मात्र अस्पताल की इमारत और उसके क्षेत्रफल को बड़ा करने में लगे है किन्तु इलाज और उसकी गुणवत्ता की और ध्यान दिया जाना चाहिए।

About The Author

I am Brajesh Arya

Related posts